BackBack
-11%

Log Bhool Gaye Hain

Raghuvir Sahay

Rs. 350 Rs. 312

रघुवीर सहाय की कविताओं में हम एक ऐसे आधुनिक मानस को देख पाते हैं जो बौद्धिक और रागात्मक अनुभूतियों से सन्तुष्ट होकर अपने लिए एक सुरक्षित संसार की सृष्टि नहीं कर लेता; उसमें रहने लगना कवि के लिए एक भयावह कल्पना है। आज के पतनशील समाज में ऐसे अनेक सुरक्षित... Read More

BlackBlack
Description

रघुवीर सहाय की कविताओं में हम एक ऐसे आधुनिक मानस को देख पाते हैं जो बौद्धिक और रागात्मक अनुभूतियों से सन्तुष्ट होकर अपने लिए एक सुरक्षित संसार की सृष्टि नहीं कर लेता; उसमें रहने लगना कवि के लिए एक भयावह कल्पना है। आज के पतनशील समाज में ऐसे अनेक सुरक्षित संसार विविध कार्य–क्षेत्रों में बन गए हैं—साहित्य में भी—और इनमें बूड़ जाने का ख़तरा पिछले कुछ वर्षों में बढ़ते–बढ़ते तीव्रतम हो गया है। परन्तु (बातचीत में रघुवीर सहाय कहते हैं कि) समाज कविताओं से भरा पड़ा है : सड़क पर चलते ही हम उनसे टकराएँगे और हर कविता एक नया परिचय कराएगी। इस संग्रह की रचनाएँ कवि के निरन्तर बढ़ते हुए परिचयों के पीछे उसकी सामाजिक चेतना के विकास का भी संकेत देती हैं : कवि की चिन्ता है कि उस विकास के बिना कविता लिखते जाने का कोई मतलब ही नहीं होगा।
आज के पतनशील समाज के प्रति कवि की दृष्टि विरोध की है, परन्तु वह अपने काव्यानुभव से जानता है कि वह रचना जो पाठक के मन में पतन का विकल्प जाग्रत् नहीं करती, न साहित्य की उपलब्धि होती है न समाज की। ‘आत्महत्या के विरुद्ध’ की परम्परा में वह उस शक्ति को बचा रखने को आतुर है जो उसने ‘दूसरा सप्तक’ और ‘सीढ़ियों पर धूप में’ पाई थी और जिस पर आए हुए ख़तरे को उसने ‘हँसो, हँसो जल्दी हँसो’ में दिखाया था। वह मानता है कि यही खोज नए समाज में न्याय और बराबरी की सच्ची लोकतंत्रीय समझ और आकांक्षा जगाती है और ऐसे समाज की रचना के लिए साहित्यिक और साहित्येतर क्षेत्रों में संघर्ष का आधार बनती है। जहाँ कहीं जन की यह शक्ति पतनोन्मुख संस्कृति के माध्यमों द्वारा भ्रष्ट की जा रही हो वहाँ वह चेतावनी देता है और जहाँ वह बची रहने पर भी देखी नहीं जा रही हो, उसकी पहचान कराता है। वह बचाने के लिए तोड़ता है और तोड़ने के लिए तोड़ने के व्यावसायिक उद्देश्य का विरोध करता है। पीड़ा को पहचानने की कोशिश वह ऐसे करता है कि उसी समय पीड़ा का सामाजिक अर्थ भी प्रकट हो जाए—वह मानता है कि सामाजिक चेतना का कोई अक्षर भंडार नहीं हो सकता, उसकी समृद्धि लोकतंत्र के पक्ष में संघर्ष से करती रहनी पड़ती है और इसी तरह सामाजिक नैतिकता की भी। ये कविताएँ इसी परम्परा की आज के दौर की अभिव्यक्तियाँ हैं। Raghuvir sahay ki kavitaon mein hum ek aise aadhunik manas ko dekh pate hain jo bauddhik aur ragatmak anubhutiyon se santusht hokar apne liye ek surakshit sansar ki srishti nahin kar leta; usmen rahne lagna kavi ke liye ek bhayavah kalpna hai. Aaj ke patanshil samaj mein aise anek surakshit sansar vividh karya–kshetron mein ban ge hain—sahitya mein bhi—aur inmen bud jane ka khatra pichhle kuchh varshon mein badhte–badhte tivrtam ho gaya hai. Parantu (batchit mein raghuvir sahay kahte hain ki) samaj kavitaon se bhara pada hai : sadak par chalte hi hum unse takrayenge aur har kavita ek naya parichay karayegi. Is sangrah ki rachnayen kavi ke nirantar badhte hue parichyon ke pichhe uski samajik chetna ke vikas ka bhi sanket deti hain : kavi ki chinta hai ki us vikas ke bina kavita likhte jane ka koi matlab hi nahin hoga. Aaj ke patanshil samaj ke prati kavi ki drishti virodh ki hai, parantu vah apne kavyanubhav se janta hai ki vah rachna jo pathak ke man mein patan ka vikalp jagrat nahin karti, na sahitya ki uplabdhi hoti hai na samaj ki. ‘atmhatya ke viruddh’ ki parampra mein vah us shakti ko bacha rakhne ko aatur hai jo usne ‘dusra saptak’ aur ‘sidhiyon par dhup men’ pai thi aur jis par aae hue khatre ko usne ‘hanso, hanso jaldi hanso’ mein dikhaya tha. Vah manta hai ki yahi khoj ne samaj mein nyay aur barabri ki sachchi loktantriy samajh aur aakanksha jagati hai aur aise samaj ki rachna ke liye sahityik aur sahityetar kshetron mein sangharsh ka aadhar banti hai. Jahan kahin jan ki ye shakti patnonmukh sanskriti ke madhymon dvara bhrasht ki ja rahi ho vahan vah chetavni deta hai aur jahan vah bachi rahne par bhi dekhi nahin ja rahi ho, uski pahchan karata hai. Vah bachane ke liye todta hai aur todne ke liye todne ke vyavsayik uddeshya ka virodh karta hai. Pida ko pahchanne ki koshish vah aise karta hai ki usi samay pida ka samajik arth bhi prkat ho jaye—vah manta hai ki samajik chetna ka koi akshar bhandar nahin ho sakta, uski samriddhi loktantr ke paksh mein sangharsh se karti rahni padti hai aur isi tarah samajik naitikta ki bhi. Ye kavitayen isi parampra ki aaj ke daur ki abhivyaktiyan hain.