Look Inside
Lekin
Lekin
Lekin
Lekin
Lekin
Lekin

Lekin

Regular price Rs. 279
Sale price Rs. 279 Regular price Rs. 300
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Lekin

Lekin

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

साहित्य में ‘मंज़रनामा’ एक मुकम्मिल फ़ार्म है। यह एक ऐसी विधा है जिसे पाठक बिना किसी रुकावट के रचना का मूल आस्वाद लेते हुए पढ़ सकें। लेकिन मंज़रनामा का अन्दाज़े-बयाँ अमूमन मूल रचना से अलग हो जाता है या यूँ कहें कि वह मूल रचना का इंटरप्रेटेशन हो जाता है।
मंज़रनामा पेश करने का एक उद्देश्य तो यह है कि पाठक इस फ़ार्म से रू-ब-रू हो सकें और दूसरा यह कि टी.वी. और सिनेमा में दिलचस्पी रखनेवाले लोग यह देख-जान सकें कि किसी कृति को किस तरह मंज़रनामे की शक्ल दी जाती है। टी.वी. की आमद से मंज़रनामों की ज़रूरत में बहुत इज़ाफ़ा हो गया है।
‘लेकिन’...ठोस यक़ीन, पार्थिव सबूतों और तर्क के आधुनिक आत्मविश्वास पर प्रश्नचिह्न की तरह खड़ा एक ‘लेकिन’, जिसे गुलज़ार ने इतनी ख़ूबसूरती से तराशा है कि वैसी किसी बहस में पड़ने की इच्छा ही शेष नहीं रह जाती जो आत्मा और भूत-प्रेत को लेकर अक्सर होती रहती है। इस फ़िल्म और इसकी कथा की लोमहर्षक कलात्मकता हमें देर तक वापस अपनी वास्तविक और बदरंग दुनिया में नहीं आने देती जिसे अपने उद् दंड तर्कों से हम और बदरंग कर दिया करते हैं।
यह पुस्तक इसी फ़िल्म का मंज़रनामा है...पठनीय भी दर्शनीय भी। Sahitya mein ‘manzarnama’ ek mukammil farm hai. Ye ek aisi vidha hai jise pathak bina kisi rukavat ke rachna ka mul aasvad lete hue padh saken. Lekin manzarnama ka andaze-bayan amuman mul rachna se alag ho jata hai ya yun kahen ki vah mul rachna ka intrapreteshan ho jata hai. Manzarnama pesh karne ka ek uddeshya to ye hai ki pathak is farm se ru-ba-ru ho saken aur dusra ye ki ti. Vi. Aur sinema mein dilchaspi rakhnevale log ye dekh-jan saken ki kisi kriti ko kis tarah manzarname ki shakl di jati hai. Ti. Vi. Ki aamad se manzarnamon ki zarurat mein bahut izafa ho gaya hai.
‘lekin’. . . Thos yaqin, parthiv sabuton aur tark ke aadhunik aatmvishvas par prashnchihn ki tarah khada ek ‘lekin’, jise gulzar ne itni khubsurti se tarasha hai ki vaisi kisi bahas mein padne ki ichchha hi shesh nahin rah jati jo aatma aur bhut-pret ko lekar aksar hoti rahti hai. Is film aur iski katha ki lomharshak kalatmakta hamein der tak vapas apni vastvik aur badrang duniya mein nahin aane deti jise apne ud dand tarkon se hum aur badrang kar diya karte hain.
Ye pustak isi film ka manzarnama hai. . . Pathniy bhi darshniy bhi.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products