BackBack
-11%

Lekhak Ka Cinema

Rs. 495 Rs. 441

कुँवर नारायण अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित कवि हैं। वह विश्व सिनेमा के गहरे जानकारों में हैं। उन्होंने आधी सदी तक सिनेमा पर गम्भीर, विवेचनापूर्ण लेखन किया है, व्याख्यान दिए हैं। ‘लेखक का सिनेमा’ उन्हीं में से कुछ प्रमुख लेखों, टिप्पणियों, व्याख्यानों और संस्मरणों से बनी पुस्तक है। इसमें अनेक अन्तरराष्ट्रीय... Read More

BlackBlack
Description

कुँवर नारायण अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित कवि हैं। वह विश्व सिनेमा के गहरे जानकारों में हैं। उन्होंने आधी सदी तक सिनेमा पर गम्भीर, विवेचनापूर्ण लेखन किया है, व्याख्यान दिए हैं। ‘लेखक का सिनेमा’ उन्हीं में से कुछ प्रमुख लेखों, टिप्पणियों, व्याख्यानों और संस्मरणों से बनी पुस्तक है। इसमें अनेक अन्तरराष्ट्रीय फ़िल्मोत्सवों की विशेष रपटें हैं, जो लेखकीय दृष्टिकोण से लिखी गई हैं और बहुत महत्त्वपूर्ण हैं। इस किताब में वे कला, जीवन, समाज और सिनेमा, इन सबके बीच के सम्बन्धों को परिभाषित, विश्लेषित करते हुए चलते हैं। इसमें सिनेमा के व्याकरण की आत्मीय मीमांसा है। यहाँ देख डालने, सोच डालने की जल्दीबाज़ी नहीं है, बल्कि विचार एक लम्बी, निरन्तरता से भरी प्रक्रिया है, जो उतनी ही गझिन है, जितनी फ़िल्म बनाने की प्रक्रिया।
प्रसिद्ध फ़िल्मों व निर्देशकों के अलावा उन निर्देशकों व फ़िल्मों के बारे में पढ़ना एक धनात्मक अनुभव होगा, जिनका नाम इक्कीसवीं सदी के इस दूसरे दशक तक कम आ पाया। हिन्दी किताबों से जुड़ी नई पीढ़ी, जो विश्व सिनेमा में दिलचस्पी रखती है, के लिए इस किताब का दस्तावेज़ी महत्त्व भी है।
अर्जेंटीना के लेखक बोर्हेस की प्रसिद्ध पंक्तियाँ हैं—‘‘मैं वे सारे लेखक हूँ जिन्हें मैंने पढ़ा है, वे सारे लोग हूँ जिनसे मैं मिला हूँ, वे सारी स्त्रियाँ हूँ, जिनसे मैंने प्यार किया है, वे सारे शहर हूँ जहाँ मैं रहा हूँ।’’ कुँवर नारायण के सन्दर्भ में इसमें जोड़ा जा सकता है कि मैं वे सारी फ़िल्में हूँ जिन्हें मैंने देखा है। Kunvar narayan antarrashtriy star par prtishthit kavi hain. Vah vishv sinema ke gahre jankaron mein hain. Unhonne aadhi sadi tak sinema par gambhir, vivechnapurn lekhan kiya hai, vyakhyan diye hain. ‘lekhak ka sinema’ unhin mein se kuchh prmukh lekhon, tippaniyon, vyakhyanon aur sansmarnon se bani pustak hai. Ismen anek antarrashtriy filmotsvon ki vishesh rapten hain, jo lekhkiy drishtikon se likhi gai hain aur bahut mahattvpurn hain. Is kitab mein ve kala, jivan, samaj aur sinema, in sabke bich ke sambandhon ko paribhashit, vishleshit karte hue chalte hain. Ismen sinema ke vyakran ki aatmiy mimansa hai. Yahan dekh dalne, soch dalne ki jaldibazi nahin hai, balki vichar ek lambi, nirantarta se bhari prakriya hai, jo utni hi gajhin hai, jitni film banane ki prakriya. Prsiddh filmon va nirdeshkon ke alava un nirdeshkon va filmon ke bare mein padhna ek dhanatmak anubhav hoga, jinka naam ikkisvin sadi ke is dusre dashak tak kam aa paya. Hindi kitabon se judi nai pidhi, jo vishv sinema mein dilchaspi rakhti hai, ke liye is kitab ka dastavezi mahattv bhi hai.
Arjentina ke lekhak borhes ki prsiddh panktiyan hain—‘‘main ve sare lekhak hun jinhen mainne padha hai, ve sare log hun jinse main mila hun, ve sari striyan hun, jinse mainne pyar kiya hai, ve sare shahar hun jahan main raha hun. ’’ kunvar narayan ke sandarbh mein ismen joda ja sakta hai ki main ve sari filmen hun jinhen mainne dekha hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year