Look Inside
Lams
Lams
Lams
Lams

Lams

Regular price Rs. 279
Sale price Rs. 279 Regular price Rs. 300
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Lams

Lams

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

ग़ज़ल एक विधा के रूप में जितनी लोकप्रिय है, ग़ज़ल कहनेवाले के लिए उसे साधना उतना ही मुश्किल है। दो मिसरों का यह चमत्कार भाषा पर जैसी उस्तादाना पकड़ और कंटेंट की जैसी साफ़ समझ माँगता है, वह एक कठिन अभ्यास है। और अक्सर सिर्फ़ अभ्यास उसके लिए बहुत नाकाफ़ी साबित होता है। यह तक़रीबन एक ग़ैबी है जो या तो होती है या नहीं होती।
मोनिका सिंह की ये ग़ज़लें हमें शदीद ढंग से अहसास कराती हैं कि उन्हें ग़ैब का यह तोहफ़ा मिला है कि ज़ुबान भी उनके पास है और कहने के लिए बात भी। और बावजूद इसके कि ये उनका मुख्य काम नहीं है, उन्होंने ग़ज़ल पर ग़ज़ब महारत हासिल की है। अपने भीतर की उठापटक से लेकर दुनिया-जहान के तमाम मराहिल, ख़ुशियाँ और ग़म वे इतनी सफ़ाई से अपने अशआर में पिरोती हैं कि हैरान रह जाना पड़ता है। शब्दों की किसी बाज़ीगरी के बिना और बिना किसी पेचीदगी के वे अपना मिसरा तराशती हैं जिसमें लय भी होती है और मायने भी।
‘यह सबक मुझको सिखाया तल्ख़ी-ए-हालात ने, साफ़-सीधी बात कहनी चाहिए मुबहम नहीं।' मुबहम यानी जो स्पष्ट न हो। यही साफ़गोई इनकी ग़ज़ल की ख़ूबी है, और दूसरे यह कि ज़िन्दगी से दूर वे कभी नहीं जातीं। वे पूछती हैं—‘जिस मसअले का हल ज़माने पास है तेरे, क्यूँ बेसबब उसकी पहल तू चाहता मुझसे।’ दिल के मुआमलों में भी उनके ख़यालों की उड़ान अपनी ज़मीन को नहीं छोड़ती। दर्द का गहरा अहसास हो या कोई ख़ुशी उनकी ग़ज़ल के लिए सब इसी दुनिया की चीज़ें हैं। ‘ढल रहा सूरज, उसे इक बार मुड़ के देख लूँ, रात लाती कारवाँ ज़ुल्मत भरा वीरान सब/ख़ौफ़ आँधी का कहाँ था, गर मिलाती ख़ाक में, बारहा मिलते रहे मुझसे नए तूफ़ान सब।’
उम्मीद है हिन्दी पाठकों को ये ग़ज़लें अपनी-सी लगेंगी। Gazal ek vidha ke rup mein jitni lokapriy hai, gazal kahnevale ke liye use sadhna utna hi mushkil hai. Do misron ka ye chamatkar bhasha par jaisi ustadana pakad aur kantent ki jaisi saaf samajh mangata hai, vah ek kathin abhyas hai. Aur aksar sirf abhyas uske liye bahut nakafi sabit hota hai. Ye taqriban ek gaibi hai jo ya to hoti hai ya nahin hoti. Monika sinh ki ye gazlen hamein shadid dhang se ahsas karati hain ki unhen gaib ka ye tohfa mila hai ki zuban bhi unke paas hai aur kahne ke liye baat bhi. Aur bavjud iske ki ye unka mukhya kaam nahin hai, unhonne gazal par gazab maharat hasil ki hai. Apne bhitar ki uthaptak se lekar duniya-jahan ke tamam marahil, khushiyan aur gam ve itni safai se apne ashar mein piroti hain ki hairan rah jana padta hai. Shabdon ki kisi bazigri ke bina aur bina kisi pechidgi ke ve apna misra tarashti hain jismen lay bhi hoti hai aur mayne bhi.
‘yah sabak mujhko sikhaya talkhi-e-halat ne, saf-sidhi baat kahni chahiye mubham nahin. Mubham yani jo spasht na ho. Yahi safgoi inki gazal ki khubi hai, aur dusre ye ki zindagi se dur ve kabhi nahin jatin. Ve puchhti hain—‘jis masale ka hal zamane paas hai tere, kyun besbab uski pahal tu chahta mujhse. ’ dil ke muamlon mein bhi unke khayalon ki udan apni zamin ko nahin chhodti. Dard ka gahra ahsas ho ya koi khushi unki gazal ke liye sab isi duniya ki chizen hain. ‘dhal raha suraj, use ik baar mud ke dekh lun, raat lati karvan zulmat bhara viran sab/khauf aandhi ka kahan tha, gar milati khak mein, barha milte rahe mujhse ne tufan sab. ’
Ummid hai hindi pathkon ko ye gazlen apni-si lagengi.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products