Look Inside
Lahoo Mein Fanse Shabd
Lahoo Mein Fanse Shabd

Lahoo Mein Fanse Shabd

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Lahoo Mein Fanse Shabd Rajkamal

Lahoo Mein Fanse Shabd

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्दी में युवा कविता के बाद नए कवियों की एक पीढ़ी आई थी, जिसने आत्मीयता और घरेलूपन से भरी कविताएँ लिखकर हिन्दी कविता की उदासी और एकरसता से भरी हुई दुनिया में नवीन स्फूर्ति का संचार किया। श्याम कश्यप उस पीढ़ी के अन्यतम सदस्य थे, जिनकी कविताएँ ‘गेरू से लिखा हुआ नाम’ में संगृहीत हुईं और इस तरह अपनी पहचान बनाई। लेकिन प्रचार-प्रसार के तंत्र को मुँह चिढ़ानेवाले श्याम ने महत्त्व काव्य-साधना को दिया, उतना अपने यशो-विस्तार को नहीं, जिसके परिणामस्वरूप उनके अपने पाठक भी उनसे किंचित् निराश होते रहे। लेकिन पहले संग्रह के बाद प्रकाशित होनेवाला उनका यह दूसरा संग्रह ‘लहू में फँसे शब्द’ इस बात का प्रमाण है कि इस बीच भले ही उनकी कविताएँ ठिकाने से उनके पाठकों तक नहीं पहुँचीं, वे कविता के साथ निरन्तर रहे हैं और कविता लगातार उनका पीछा करती रही है।
स्वभावतः श्याम की इस संग्रह की कविताओं में प्रत्यक्ष होनेवाला विकास हमें सम्मोहित करता है। श्याम सर्वप्रथम प्रकृति के कवि हैं, फिर मनुष्य के, फिर समाज के, फिर सम्पूर्ण मनुष्यता क्या, सम्पूर्ण पृथ्वी के। उनकी ऐन्द्रिय संवेदना जिन विलक्षण और उदात्त बिम्बों में अभिव्यक्त होती है, वे हमारे भीतर उस अवकाश की सृष्टि करते हैं, जो मानवीय आत्मा के पंख फैलाने के लिए आवश्यक है और जो वर्तमान युग में लगातार कम होता जा रहा है। जहाँ तक मनुष्य से लेकर सम्पूर्ण पृथ्वी तक की बात है, श्याम ने अपनी कविताओं में उसके अनेकानेक आयामों को समेटा है। इन तमाम वस्तुओं के प्रति एक गहन चिन्ता का भाव ही नहीं है इनमें, वह आस्था भी है, जो निराशा के बादलों को इन्द्रधनुषी किरणों से तार-तार कर देती है।
निस्सन्देह श्याम सटीक वर्णन और चित्रण के कवि हैं, लेकिन ‘लहू में फँसे शब्द’ की कविताएँ पढ़ते हुए आप जैसे-जैसे आगे बढ़ते जाएँगे, ऐन्द्रिय संवेदना से भावों में और भावों से फिर विचारों में उतरते जाएँगे, जहाँ की दुनिया उस अमूर्तता से युक्त है, जिसके बिना कोई कला-कृति सार्थक नहीं हो सकती। कहने की आवश्यकता नहीं कि आज का यांत्रिकता और औपचारिकता से भरा हुआ दौर जहाँ हमें निरर्थकता के किनारे तक पहुँचा रहा है, श्याम की ये कविताएँ जिनमें शब्द, बिम्ब, भाव और विचार सभी विस्फोट करते हैं, हमारे सामने एक उजास से भरे हुए क्षितिज का उन्मीलन करती हैं। प्रसाद के शब्दों को ज़रा-सा बदलकर कहें, तो ‘तुमुल कोलाहल-कलह में यह हृदय की बात रे मन!’ Hindi mein yuva kavita ke baad ne kaviyon ki ek pidhi aai thi, jisne aatmiyta aur gharelupan se bhari kavitayen likhkar hindi kavita ki udasi aur ekarasta se bhari hui duniya mein navin sphurti ka sanchar kiya. Shyam kashyap us pidhi ke anytam sadasya the, jinki kavitayen ‘geru se likha hua nam’ mein sangrihit huin aur is tarah apni pahchan banai. Lekin prchar-prsar ke tantr ko munh chidhanevale shyam ne mahattv kavya-sadhna ko diya, utna apne yasho-vistar ko nahin, jiske parinamasvrup unke apne pathak bhi unse kinchit nirash hote rahe. Lekin pahle sangrah ke baad prkashit honevala unka ye dusra sangrah ‘lahu mein phanse shabd’ is baat ka prman hai ki is bich bhale hi unki kavitayen thikane se unke pathkon tak nahin pahunchin, ve kavita ke saath nirantar rahe hain aur kavita lagatar unka pichha karti rahi hai. Svbhavatः shyam ki is sangrah ki kavitaon mein pratyaksh honevala vikas hamein sammohit karta hai. Shyam sarvaprtham prkriti ke kavi hain, phir manushya ke, phir samaj ke, phir sampurn manushyta kya, sampurn prithvi ke. Unki aindriy sanvedna jin vilakshan aur udatt bimbon mein abhivyakt hoti hai, ve hamare bhitar us avkash ki srishti karte hain, jo manviy aatma ke pankh phailane ke liye aavashyak hai aur jo vartman yug mein lagatar kam hota ja raha hai. Jahan tak manushya se lekar sampurn prithvi tak ki baat hai, shyam ne apni kavitaon mein uske anekanek aayamon ko sameta hai. In tamam vastuon ke prati ek gahan chinta ka bhav hi nahin hai inmen, vah aastha bhi hai, jo nirasha ke badlon ko indradhanushi kirnon se tar-tar kar deti hai.
Nissandeh shyam satik varnan aur chitran ke kavi hain, lekin ‘lahu mein phanse shabd’ ki kavitayen padhte hue aap jaise-jaise aage badhte jayenge, aindriy sanvedna se bhavon mein aur bhavon se phir vicharon mein utarte jayenge, jahan ki duniya us amurtta se yukt hai, jiske bina koi kala-kriti sarthak nahin ho sakti. Kahne ki aavashyakta nahin ki aaj ka yantrikta aur aupcharikta se bhara hua daur jahan hamein nirarthakta ke kinare tak pahuncha raha hai, shyam ki ye kavitayen jinmen shabd, bimb, bhav aur vichar sabhi visphot karte hain, hamare samne ek ujas se bhare hue kshitij ka unmilan karti hain. Prsad ke shabdon ko zara-sa badalkar kahen, to ‘tumul kolahal-kalah mein ye hriday ki baat re man!’

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products