Kutte

Vijay Tendulkar, Tr. Sushma Bakshi

Rs. 300

शहर से दूर पिछड़े क्षेत्र में नियुक्त एक सेल्समैन, उसका एक बेहद चतुर-दुनियादार सहायक, घोडके, एक प्रौढ़वय स्त्री और उसके कुत्ते। इस नाटक की कथा इन्हीं के इर्द-गिर्द घूमती है। अपने घर-परिवार से दूर अकेलेपन और अनिद्रा से त्रस्त नायक घोडके की मार्फ़त उस रहस्यमयी स्त्री की कोठी में जा... Read More

HardboundHardbound
Description

शहर से दूर पिछड़े क्षेत्र में नियुक्त एक सेल्समैन, उसका एक बेहद चतुर-दुनियादार सहायक, घोडके, एक प्रौढ़वय स्त्री और उसके कुत्ते। इस नाटक की कथा इन्हीं के इर्द-गिर्द घूमती है। अपने घर-परिवार से दूर अकेलेपन और अनिद्रा से त्रस्त नायक घोडके की मार्फ़त उस रहस्यमयी स्त्री की कोठी में जा पहुँचता है जहाँ वह अपने सात पालतू कुत्तों के साथ रहती है। उसका विश्वास है कि इनमें से किसी एक कुत्ते के रूप में उसके दिवंगत पति ने पुनर्जन्म लिया है। स्त्री का दिव्य रूप, अभिजात संयम और आध्यात्मिक वलय नायक को पूरी तरह अपनी गिरफ़्त में ले लेता है। और, एक अभागी रात वह कुछ ऐसा कर गुज़रता है जो उसके भीतरी-बाहरी संसार को पूरी तरह बदल डालता है। विजय तेन्दुलकर के अन्य नाटकों की तरह यह नाटक भी मानव-जीवन की विडम्बनाओं और विद्रूपताओं को बड़े कौशल से खोलता है और दर्शक को सोच के एक नए धरातल पर ले जाता है। रंगशिल्प और मंचीय भाषा के लिहाज़ से भी यह नाटक विशिष्ट है। अपनी नाट्य-विधियों और गतिमयता के कारण यह पाठक और दर्शक, दोनों के लिए एक चिरस्मरणीय अनुभव होने की क्षमता रखता है। Shahar se dur pichhde kshetr mein niyukt ek selsmain, uska ek behad chatur-duniyadar sahayak, ghodke, ek praudhvay stri aur uske kutte. Is natak ki katha inhin ke ird-gird ghumti hai. Apne ghar-parivar se dur akelepan aur anidra se trast nayak ghodke ki marfat us rahasyamyi stri ki kothi mein ja pahunchata hai jahan vah apne saat paltu kutton ke saath rahti hai. Uska vishvas hai ki inmen se kisi ek kutte ke rup mein uske divangat pati ne punarjanm liya hai. Stri ka divya rup, abhijat sanyam aur aadhyatmik valay nayak ko puri tarah apni giraft mein le leta hai. Aur, ek abhagi raat vah kuchh aisa kar guzarta hai jo uske bhitri-bahri sansar ko puri tarah badal dalta hai. Vijay tendulkar ke anya natkon ki tarah ye natak bhi manav-jivan ki vidambnaon aur vidruptaon ko bade kaushal se kholta hai aur darshak ko soch ke ek ne dharatal par le jata hai. Rangshilp aur manchiy bhasha ke lihaz se bhi ye natak vishisht hai. Apni natya-vidhiyon aur gatimayta ke karan ye pathak aur darshak, donon ke liye ek chirasmarniy anubhav hone ki kshamta rakhta hai.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher Rajkamal Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-8126713417
Pages 90p
Publishing Year

Kutte

शहर से दूर पिछड़े क्षेत्र में नियुक्त एक सेल्समैन, उसका एक बेहद चतुर-दुनियादार सहायक, घोडके, एक प्रौढ़वय स्त्री और उसके कुत्ते। इस नाटक की कथा इन्हीं के इर्द-गिर्द घूमती है। अपने घर-परिवार से दूर अकेलेपन और अनिद्रा से त्रस्त नायक घोडके की मार्फ़त उस रहस्यमयी स्त्री की कोठी में जा पहुँचता है जहाँ वह अपने सात पालतू कुत्तों के साथ रहती है। उसका विश्वास है कि इनमें से किसी एक कुत्ते के रूप में उसके दिवंगत पति ने पुनर्जन्म लिया है। स्त्री का दिव्य रूप, अभिजात संयम और आध्यात्मिक वलय नायक को पूरी तरह अपनी गिरफ़्त में ले लेता है। और, एक अभागी रात वह कुछ ऐसा कर गुज़रता है जो उसके भीतरी-बाहरी संसार को पूरी तरह बदल डालता है। विजय तेन्दुलकर के अन्य नाटकों की तरह यह नाटक भी मानव-जीवन की विडम्बनाओं और विद्रूपताओं को बड़े कौशल से खोलता है और दर्शक को सोच के एक नए धरातल पर ले जाता है। रंगशिल्प और मंचीय भाषा के लिहाज़ से भी यह नाटक विशिष्ट है। अपनी नाट्य-विधियों और गतिमयता के कारण यह पाठक और दर्शक, दोनों के लिए एक चिरस्मरणीय अनुभव होने की क्षमता रखता है। Shahar se dur pichhde kshetr mein niyukt ek selsmain, uska ek behad chatur-duniyadar sahayak, ghodke, ek praudhvay stri aur uske kutte. Is natak ki katha inhin ke ird-gird ghumti hai. Apne ghar-parivar se dur akelepan aur anidra se trast nayak ghodke ki marfat us rahasyamyi stri ki kothi mein ja pahunchata hai jahan vah apne saat paltu kutton ke saath rahti hai. Uska vishvas hai ki inmen se kisi ek kutte ke rup mein uske divangat pati ne punarjanm liya hai. Stri ka divya rup, abhijat sanyam aur aadhyatmik valay nayak ko puri tarah apni giraft mein le leta hai. Aur, ek abhagi raat vah kuchh aisa kar guzarta hai jo uske bhitri-bahri sansar ko puri tarah badal dalta hai. Vijay tendulkar ke anya natkon ki tarah ye natak bhi manav-jivan ki vidambnaon aur vidruptaon ko bade kaushal se kholta hai aur darshak ko soch ke ek ne dharatal par le jata hai. Rangshilp aur manchiy bhasha ke lihaz se bhi ye natak vishisht hai. Apni natya-vidhiyon aur gatimayta ke karan ye pathak aur darshak, donon ke liye ek chirasmarniy anubhav hone ki kshamta rakhta hai.