Kunto

Regular price Rs. 371
Sale price Rs. 371 Regular price Rs. 399
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Kunto

Kunto

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भीष्म साहनी का यह उपन्यास ऐसे कालखंड की कहानी कहता है जब लगने लगा था कि हम इतिहास के किसी निर्णायक मोड़ पर खड़े हैं, जब करवटें लेती ज़िन्‍दगी एक दिशा विशेष की ओर बढ़ती जान पड़ने लगी थी। आपसी रिश्ते, सामाजिक सरोकार, घटना-प्रवाह के उतार-चढ़ाव उपन्यास के विस्तृत फ़लक पर उसी कालखंड के जीवन का चित्र प्रस्तुत करते हैं। केन्द्र में जयदेव-कुंतो-सुषमा-गिरीश के आपसी सन्‍बन्‍ध हैं—अपनी उत्कट भावनाओं और आशाओं-अपेक्षाओं को लिए हुए। लेकिन कुंतो-जयदेव और सुषमा-गिरीश के अन्तर सम्‍बन्‍धों के आस-पास जीवन के अनेक अन्य प्रसंग और पात्र उभरकर आते हैं। इनमें हैं प्रोफ़ेस्‍साब जो एक सन्‍तुलित जीवन को आदर्श मानते हैं और इसी ‘सुनहरी मध्यम मार्ग’ के अनुरूप जीवन को ढालने की सीख देते हैं; हीरालाल है जो मनादी करके अपनी जीविका कमाता है, पर उत्कट भावनाओं से उद्वेलित होकर मात्र मनादी करने पर ही संतुष्ट नहीं रह पाता; हीरालाल की विधवा माँ और युवा घरवाली हैं; सात वर्ष के बाद विदेश से लौटा धनराज और उसकी पत्नी हैं; सहदेव है। ऐसे अनेक पात्र उपन्यास के फ़लक पर अपनी भूमिका निभाते हुए, अपने भाग्य की कहानी कहते हुए प्रकट और लुप्त होते हैं। और रिश्तों और घटनाओं का यह ताना-बाना उन देशव्यापी लहरों और आन्‍दोलनों की पृष्ठभूमि के सामने होता है, जब लगता था कि हमारा देश इतिहास के किसी मोड़ पर खड़ा है।
पर यह उपन्यास किसी कालखंड का ऐतिहासिक दस्तावेज़ न होकर मानवीय सम्‍बन्‍धों, संवेदनाओं, करवट लेते परिवेश और मानव नियति के बदलते रंगों की ही कहानी कहता है। Bhishm sahni ka ye upanyas aise kalkhand ki kahani kahta hai jab lagne laga tha ki hum itihas ke kisi nirnayak mod par khade hain, jab karavten leti zin‍dagi ek disha vishesh ki or badhti jaan padne lagi thi. Aapsi rishte, samajik sarokar, ghatna-prvah ke utar-chadhav upanyas ke vistrit falak par usi kalkhand ke jivan ka chitr prastut karte hain. Kendr mein jaydev-kunto-sushma-girish ke aapsi san‍ban‍dha hain—apni utkat bhavnaon aur aashaon-apekshaon ko liye hue. Lekin kunto-jaydev aur sushma-girish ke antar sam‍ban‍dhon ke aas-pas jivan ke anek anya prsang aur patr ubharkar aate hain. Inmen hain profes‍sab jo ek san‍tulit jivan ko aadarsh mante hain aur isi ‘sunahri madhyam marg’ ke anurup jivan ko dhalne ki sikh dete hain; hiralal hai jo manadi karke apni jivika kamata hai, par utkat bhavnaon se udvelit hokar matr manadi karne par hi santusht nahin rah pata; hiralal ki vidhva man aur yuva gharvali hain; saat varsh ke baad videsh se lauta dhanraj aur uski patni hain; sahdev hai. Aise anek patr upanyas ke falak par apni bhumika nibhate hue, apne bhagya ki kahani kahte hue prkat aur lupt hote hain. Aur rishton aur ghatnaon ka ye tana-bana un deshavyapi lahron aur aan‍dolnon ki prishthbhumi ke samne hota hai, jab lagta tha ki hamara desh itihas ke kisi mod par khada hai. Par ye upanyas kisi kalkhand ka aitihasik dastavez na hokar manviy sam‍ban‍dhon, sanvednaon, karvat lete parivesh aur manav niyati ke badalte rangon ki hi kahani kahta hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products