Look Inside
Kukurmutta
Kukurmutta
Kukurmutta
Kukurmutta

Kukurmutta

Regular price Rs. 186
Sale price Rs. 186 Regular price Rs. 200
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kukurmutta

Kukurmutta

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अर्थ-समस्या में निरर्थकता को समूल नष्ट करना साहित्य और राजनीति का कार्य है। बाहरी लदाव हटाना ही चाहिए, क्योंकि हम जिस माध्यम से बाहर की बातें समझते हैं वह भ्रामक है, ऐसी हालत में ‘इतो नष्टस्ततो भ्रष्ट:' होना पड़ता है। किसी से मैत्री हो, इसका अर्थ यह नहीं कि हम बेजड़ और बेजर हैं। अगर हमारा नहीं रहा तो न रहने का कारण है, कार्य इसी पर होना चाहिए। हम हिन्दी-संसार के कृतज्ञ हैं, जिसने अपनी आँख पाई हैं। इस पथ में अप्रचलित शब्द नहीं। बाज़ार आज भी गवाही देता है कि किताब चाव से ख़रीदी गई, आवृत्ति हज़ार कान सुनी गई और तारीफ़ लाख मुँह होती रही।
इसका विषयवस्तु, शिल्प, भाषिक संरचना और अभिव्यक्ति की नई एकान्विति के कारण अद्‌भुत रूप से महत्त्वपूर्ण है। इन आठों कविताओं का मिज़ाज बिलकुल एक-सा है। उनकी ताज़गी, उनके शब्द-प्रयोग, उनकी गद्यात्मकता का कवित्व, भाषा का अजीब-सा छिदरा-छिदरा संघटन, अन्दर तक चीरता हुआ व्यंग्य और उन्मुक्त हास्य-क्षमता तथा कठोरता के कवच में छिपी अगाध (अप्रत्यक्ष) करुणा और उपेक्षित के उन्नयन के प्रति गहरी आस्था ‘निराला' की रचना-सक्षमता और काव्य-दृष्टि के एक नए (सर्वथा अछूते नहीं) आयाम को हमारे सामने उद्‌घाटित करती है।
प्रस्तुत संग्रह ‘कुकुरमुत्ता’ की व्यंग्य और भाषा आधुनिक है। Arth-samasya mein nirarthakta ko samul nasht karna sahitya aur rajniti ka karya hai. Bahri ladav hatana hi chahiye, kyonki hum jis madhyam se bahar ki baten samajhte hain vah bhramak hai, aisi halat mein ‘ito nashtastto bhrasht: hona padta hai. Kisi se maitri ho, iska arth ye nahin ki hum bejad aur bejar hain. Agar hamara nahin raha to na rahne ka karan hai, karya isi par hona chahiye. Hum hindi-sansar ke kritagya hain, jisne apni aankh pai hain. Is path mein aprachlit shabd nahin. Bazar aaj bhi gavahi deta hai ki kitab chav se kharidi gai, aavritti hazar kaan suni gai aur tarif lakh munh hoti rahi. Iska vishayvastu, shilp, bhashik sanrachna aur abhivyakti ki nai ekanviti ke karan ad‌bhut rup se mahattvpurn hai. In aathon kavitaon ka mizaj bilkul ek-sa hai. Unki tazgi, unke shabd-pryog, unki gadyatmakta ka kavitv, bhasha ka ajib-sa chhidra-chhidra sanghtan, andar tak chirta hua vyangya aur unmukt hasya-kshamta tatha kathorta ke kavach mein chhipi agadh (apratyaksh) karuna aur upekshit ke unnyan ke prati gahri aastha ‘nirala ki rachna-sakshamta aur kavya-drishti ke ek ne (sarvtha achhute nahin) aayam ko hamare samne ud‌ghatit karti hai.
Prastut sangrah ‘kukurmutta’ ki vyangya aur bhasha aadhunik hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products