Kuchh Yaden, Kuchh Baten

Regular price Rs. 327
Sale price Rs. 327 Regular price Rs. 352
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Kuchh Yaden, Kuchh Baten

Kuchh Yaden, Kuchh Baten

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

इस पुस्तक में हिन्दी के शीर्षस्थ कथाकार अमरकान्त के संस्मरणों, आलेखों तथा साक्षात्कारों को संकलित किया गया है जो अत्यन्त दिलचस्प एवं महत्त्वपूर्ण हैं। इन रचनाओं में एक बड़े लेखक की परिवेश तथा सृजन-सम्बन्धी परिस्थितियों और संघर्ष-कथा के साथ, उन अग्रजों एवं साथी लेखकों को आदर और आत्मीयता के साथ याद किया गया है जिनसे उन्हें प्रेरणा, प्रोत्साहन और स्नेह मिला।
यहाँ प्रगतिशील आन्दोलन तथा नई कहानी आन्दोलन की वे घटनाएँ, बहसें और विवाद भी हैं, जिनसे कभी साहित्य जगत् हिल गया था। परन्तु अमरकान्त जी ने इन आन्दोलनों की विशेषताओं और उपलब्धियों के साथ, उनके अन्‍तर्विरोधों तथा दुर्बलताओं का तर्क-सम्मत विश्लेषण भी प्रस्तुत किया है और परिवर्तित समय में कहानी तथा प्रगतिशील लेखन की नई भूमिका को भी रेखांकित किया है।
इन रचनाओं के बीच कहानी लेखन की ओर प्रेरित करनेवाले अमरकान्त जी के शिक्षक बाबू राजेश प्रसाद तथा डॉ. रामविलास शर्मा हैं। इनके साथ भैरवप्रसाद गुप्त, प्रकाशचन्द्र गुप्त, शमशेर, मोहन राकेश, अमृत राय, रांगेय राघव, नामवर सिंह, राजेन्द्र यादव, कमलेश्वर, शेखर जोशी आदि के अनूठे संस्मरण भी हैं। निश्चय ही प्रत्येक हिन्दी लेखक तथा साहित्य-प्रेमी पाठक के लिए यह जानना ज़रूरी है कि साहित्य-इतिहास के इन प्रतिष्ठित रचनाकारों के सम्बन्ध में अमरकान्त क्या सोचते हैं।
मूल्यांकन की नई दृष्टि, हिन्दी के कथा-परिदृश्य पर डाली गई रोशनी और जीवन्त कथा-शैली के कारण यह संकलन जहाँ साहित्यिक कृति के रूप में उत्कृष्ट है, वहीं ऐतिहासिक दस्तावेज़ की तरह मूल्यवान भी। Is pustak mein hindi ke shirshasth kathakar amarkant ke sansmarnon, aalekhon tatha sakshatkaron ko sanklit kiya gaya hai jo atyant dilchasp evan mahattvpurn hain. In rachnaon mein ek bade lekhak ki parivesh tatha srijan-sambandhi paristhitiyon aur sangharsh-katha ke saath, un agrjon evan sathi lekhkon ko aadar aur aatmiyta ke saath yaad kiya gaya hai jinse unhen prerna, protsahan aur sneh mila. Yahan pragatishil aandolan tatha nai kahani aandolan ki ve ghatnayen, bahsen aur vivad bhi hain, jinse kabhi sahitya jagat hil gaya tha. Parantu amarkant ji ne in aandolnon ki visheshtaon aur uplabdhiyon ke saath, unke an‍tarvirodhon tatha durbaltaon ka tark-sammat vishleshan bhi prastut kiya hai aur parivartit samay mein kahani tatha pragatishil lekhan ki nai bhumika ko bhi rekhankit kiya hai.
In rachnaon ke bich kahani lekhan ki or prerit karnevale amarkant ji ke shikshak babu rajesh prsad tatha dau. Ramavilas sharma hain. Inke saath bhairvaprsad gupt, prkashchandr gupt, shamsher, mohan rakesh, amrit raay, rangey raghav, namvar sinh, rajendr yadav, kamleshvar, shekhar joshi aadi ke anuthe sansmran bhi hain. Nishchay hi pratyek hindi lekhak tatha sahitya-premi pathak ke liye ye janna zaruri hai ki sahitya-itihas ke in prtishthit rachnakaron ke sambandh mein amarkant kya sochte hain.
Mulyankan ki nai drishti, hindi ke katha-paridrishya par dali gai roshni aur jivant katha-shaili ke karan ye sanklan jahan sahityik kriti ke rup mein utkrisht hai, vahin aitihasik dastavez ki tarah mulyvan bhi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products