BackBack
-11%

Kuchchi Ka Kanoon

Rs. 175 Rs. 156

शिवमूर्ति की कहानियों का जितना साहित्यिक महत्त्व है, उतना ही समाजशास्त्रीय भी। आप उन्हें गाँव के ‘रियलिटी चेक’ के रूप में पढ़ सकते हैं। उनमें गाँव का वह सकारात्मक पक्ष भी है जिसे हम गाँव की थाती कहते हैं और वह नकारात्मक भी जो गाँव ने पुराना होते जाने के... Read More

BlackBlack
Description

शिवमूर्ति की कहानियों का जितना साहित्यिक महत्त्व है, उतना ही समाजशास्त्रीय भी। आप उन्हें गाँव के ‘रियलिटी चेक’ के रूप में पढ़ सकते हैं। उनमें गाँव का वह सकारात्मक पक्ष भी है जिसे हम गाँव की थाती कहते हैं और वह नकारात्मक भी जो गाँव ने पुराना होते जाने के क्रम में धीरे-धीरे अर्जित किया। यथार्थ की इस समृद्धि की ओर ध्यान तब जाता है जब हम देखते हैं कि शिवमूर्ति गाँव और उनमें बसे मनुष्यों को गहन आत्मीयता देने के बावजूद इस परिवेश में व्याप्त संकट, दुख, विषमता और विसंगति को दृष्टि-ओझल नहीं होने देते। वे वहाँ व्याप्त आत्मविनाशी प्रवृत्तियों और लोकाचार के कारकों की शिनाख़्त करते हुए उन पर प्रहार करते हैं। इस तरह शिवमूर्ति की कहानियाँ ग्रामीण समाज के जातिवाद, राजनीतिक क्षरण, धर्मभीरुता, स्त्री-दमन और ताक़त की हिंसा का प्रतिपक्ष बनती हैं।
‘बनाना रिपब्लिक’ कहानी की उपलब्धि यह है कि वह दलित चेतना को उनकी मुक्ति की राह के रूप में सामने लाती है और पंचायत चुनाव की परिणति कैरेबियन देशों के ‘बनाना रिपब्लिक’ में रिड्यूस हो जाने की आशंका को निर्मूल कर देती है। मतदान प्रक्रिया का जैसा उत्खनन यह कहानी करती है वह देर तक स्तब्ध किए रहता है। ‘कुच्ची का क़ानून’ गाँव के गहरे कुएँ से बाहर जाते रास्ते की कहानी है जिसे कुच्ची नाम की एक युवा विधवा अपनी कोख पर अपने अधिकार की अभूतपूर्व घोषणा के साथ प्रशस्त करती है। वरिष्ठ आलोचक विश्वनाथ त्रिपाठी के शब्दों में, “एक भी ऐसा समकालीन रचनाकार नहीं है जिसके पास कुच्ची जैसा सशक्त चरित्र हो। यह चरित्र निर्माण क्षमता शिवमूर्ति को बड़ा कथाकार बनाती है।’’
‘ख़्वाजा ओ मेरे पीर!’ एक विरल-कथा है जिसमें स्त्री-पुरुष सम्बन्ध के एक दारुणपक्ष को रेखांकित करते हुए उस करुणा के अविस्मरणीय बिम्ब रचे गए हैं जो नागर सभ्यता में शायद ही कहीं देखने को मिलें। संग्रह की अन्तिम कहानी ‘जुल्मी’ 1970 के आसपास लिखी गई शुरुआती रचना है। इसे इस आग्रह के साथ प्रस्तुत किया जा रहा है कि पाठक देखें, उनका प्रिय कथाकार अपनी रचना-यात्रा में कहाँ से कहाँ तक पहुँचा है?
निश्चय ही ‘कुच्ची का क़ानून’ की कहानियों से गुज़रकर आप शिवमूर्ति को सूचित करना चाहेंगे कि वे एक जन्मजात कथाकार हैं जिनके होने पर कोई भी भाषा गर्व कर सकती है। Shivmurti ki kahaniyon ka jitna sahityik mahattv hai, utna hi samajshastriy bhi. Aap unhen ganv ke ‘riyaliti chek’ ke rup mein padh sakte hain. Unmen ganv ka vah sakaratmak paksh bhi hai jise hum ganv ki thati kahte hain aur vah nakaratmak bhi jo ganv ne purana hote jane ke kram mein dhire-dhire arjit kiya. Yatharth ki is samriddhi ki or dhyan tab jata hai jab hum dekhte hain ki shivmurti ganv aur unmen base manushyon ko gahan aatmiyta dene ke bavjud is parivesh mein vyapt sankat, dukh, vishamta aur visangati ko drishti-ojhal nahin hone dete. Ve vahan vyapt aatmavinashi prvrittiyon aur lokachar ke karkon ki shinakht karte hue un par prhar karte hain. Is tarah shivmurti ki kahaniyan gramin samaj ke jativad, rajnitik kshran, dharmbhiruta, stri-daman aur taqat ki hinsa ka pratipaksh banti hain. ‘banana ripablik’ kahani ki uplabdhi ye hai ki vah dalit chetna ko unki mukti ki raah ke rup mein samne lati hai aur panchayat chunav ki parinati kairebiyan deshon ke ‘banana ripablik’ mein ridyus ho jane ki aashanka ko nirmul kar deti hai. Matdan prakriya ka jaisa utkhnan ye kahani karti hai vah der tak stabdh kiye rahta hai. ‘kuchchi ka qanun’ ganv ke gahre kuen se bahar jate raste ki kahani hai jise kuchchi naam ki ek yuva vidhva apni kokh par apne adhikar ki abhutpurv ghoshna ke saath prshast karti hai. Varishth aalochak vishvnath tripathi ke shabdon mein, “ek bhi aisa samkalin rachnakar nahin hai jiske paas kuchchi jaisa sashakt charitr ho. Ye charitr nirman kshamta shivmurti ko bada kathakar banati hai. ’’
‘khvaja o mere pir!’ ek viral-katha hai jismen stri-purush sambandh ke ek darunpaksh ko rekhankit karte hue us karuna ke avismarniy bimb rache ge hain jo nagar sabhyta mein shayad hi kahin dekhne ko milen. Sangrah ki antim kahani ‘julmi’ 1970 ke aaspas likhi gai shuruati rachna hai. Ise is aagrah ke saath prastut kiya ja raha hai ki pathak dekhen, unka priy kathakar apni rachna-yatra mein kahan se kahan tak pahuncha hai?
Nishchay hi ‘kuchchi ka qanun’ ki kahaniyon se guzarkar aap shivmurti ko suchit karna chahenge ki ve ek janmjat kathakar hain jinke hone par koi bhi bhasha garv kar sakti hai.