Krantiveer Bhagat Singh 'Abhyudaya' Aur 'Bhavishya'

Regular price Rs. 1,297
Sale price Rs. 1,297 Regular price Rs. 1,395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Krantiveer Bhagat Singh 'Abhyudaya' Aur 'Bhavishya'

Krantiveer Bhagat Singh 'Abhyudaya' Aur 'Bhavishya'

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘क्रान्तिवीर भगत सिंह : ‘अभ्युदय’ और ‘भविष्य’’ आज़ादी की लड़ाई, ख़ासकर इन्क़लाबी नौजवानों के संघर्ष की हक़ीक़त तलाशती कोशिश का नतीजा है।
पुस्तक में शामिल पत्रिकाओं ‘अभ्युदय’ और ‘भविष्य’ की सामग्री हिन्दुस्तान की आज़ादी के संग्राम को ठीक से समझने के लिए बेहद ज़रूरी है।
‘अभ्युदय’ ने भगत सिंह के मुक़दमे और फाँसी के हालात पर भरपूर सामग्री छापी और 8 मई, 1931 को प्रकाशित उसका ‘भगत सिंह विशेषांक’ ब्रिटिश सरकार द्वारा ज़ब्त कर लिया गया।
भगत सिंह के जीवन, व्यक्तित्व और परिवार को लेकर जो सामग्री ‘अभ्युदय’ व ‘भविष्य’ में छापी गई—विशेषतः भगत सिंह व उनके परिवार के चित्र—उसी से पूरे देश में भगत सिंह की विशेष छवि निर्मित हुई।
‘भविष्य’ साप्ताहिक इलाहाबाद से रामरख सिंह सहगल के सम्पादन में निकलता था। पहले पं. सुन्दरलाल के सम्पादन में ‘भविष्य’ निकलता था, जिसमें रामरख सिंह सहगल काम करते थे।
2 अक्टूबर, 1930 को गांधी जयन्ती पर रामरख सिंह सहगल ने, जो स्वयं युक्तप्रान्त कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य थे, ‘भविष्य’ साप्ताहिक का प्रकाशन शुरू किया। पहले अंक से ही भगत सिंह आदि पर सामग्री प्रकाशित कर, ‘भविष्य’ ने सनसनी फैला दी। ‘भविष्य’ में भगत सिंह की फाँसी के बाद के हालात का जीवन्त चित्रण हुआ है।
‘भविष्य’ और ‘अभ्युदय’ से कुछ चुनिन्दा चित्र इस किताब में शामिल किए गए हैं।
सम्पादक प्रो. चमन लाल ने विलुप्तप्राय तथ्यों को इस पुस्तक में सँजोकर ऐतिहासिक कार्य किया है। वस्तुतः इस इन्क़लाबी वृत्तान्त को पढ़ना स्वतंत्रता की अदम्य जिजीविषा से साक्षात्कार करना है। ‘krantivir bhagat sinh : ‘abhyuday’ aur ‘bhavishya’’ aazadi ki ladai, khaskar inqlabi naujvanon ke sangharsh ki haqiqat talashti koshish ka natija hai. Pustak mein shamil patrikaon ‘abhyuday’ aur ‘bhavishya’ ki samagri hindustan ki aazadi ke sangram ko thik se samajhne ke liye behad zaruri hai.
‘abhyuday’ ne bhagat sinh ke muqadme aur phansi ke halat par bharpur samagri chhapi aur 8 mai, 1931 ko prkashit uska ‘bhagat sinh visheshank’ british sarkar dvara zabt kar liya gaya.
Bhagat sinh ke jivan, vyaktitv aur parivar ko lekar jo samagri ‘abhyuday’ va ‘bhavishya’ mein chhapi gai—visheshatः bhagat sinh va unke parivar ke chitr—usi se pure desh mein bhagat sinh ki vishesh chhavi nirmit hui.
‘bhavishya’ saptahik ilahabad se ramrakh sinh sahgal ke sampadan mein nikalta tha. Pahle pan. Sundarlal ke sampadan mein ‘bhavishya’ nikalta tha, jismen ramrakh sinh sahgal kaam karte the.
2 aktubar, 1930 ko gandhi jayanti par ramrakh sinh sahgal ne, jo svayan yuktaprant kangres karyasamiti ke sadasya the, ‘bhavishya’ saptahik ka prkashan shuru kiya. Pahle ank se hi bhagat sinh aadi par samagri prkashit kar, ‘bhavishya’ ne sanasni phaila di. ‘bhavishya’ mein bhagat sinh ki phansi ke baad ke halat ka jivant chitran hua hai.
‘bhavishya’ aur ‘abhyuday’ se kuchh chuninda chitr is kitab mein shamil kiye ge hain.
Sampadak pro. Chaman laal ne viluptapray tathyon ko is pustak mein sanjokar aitihasik karya kiya hai. Vastutः is inqlabi vrittant ko padhna svtantrta ki adamya jijivisha se sakshatkar karna hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products