BackBack
-11%

Kitne Chaurahe

Phanishwarnath Renu

Rs. 395 Rs. 352

Rajkamal Prakashan

‘कितने चौराहे’ फणीश्वरनाथ रेणु का पठनीय लघु उपन्यास है। पहली बार यह 1966 में प्रकाशित हुआ। इस उपन्यास के वृत्तान्त में लेखक ने निजी जीवन की कई घटनाओं को संयोजित किया है। ‘कितने चौराहे' की रचना का उद्‌देश्य स्पष्ट है। यह उपन्यास आज़ादी के लिए संघर्ष करने और बलिदान देनेवाले... Read More

Description

‘कितने चौराहे’ फणीश्वरनाथ रेणु का पठनीय लघु उपन्यास है। पहली बार यह 1966 में प्रकाशित हुआ। इस उपन्यास के वृत्तान्त में लेखक ने निजी जीवन की कई घटनाओं को संयोजित किया है।
‘कितने चौराहे' की रचना का उद्‌देश्य स्पष्ट है। यह उपन्यास आज़ादी के लिए संघर्ष करने और बलिदान देनेवाले युवकों को केन्द्र में रखकर लिखा गया है, ताकि आज के किशोरों में देशप्रेम, सेवा, त्याग आदि आदर्शों के भाव जाग्रत् हो सकें।
यह उपन्यास व्यक्तिगत सुख-दु:ख, स्वार्थ-मोह से ऊपर उठकर देश के लिए जीने-मरने वालों के मानवीय, संवेदनशील रूप को उभारता है। पाठकों के मन में यह वृत्तान्त श्रद्धा जाग्रत् करता है। पाठक के मन में चारों ओर चीखते भ्रष्टाचार, स्वार्थपरता आदि के प्रति क्षोभ उभरता है। उत्सर्गी परम्परा के प्रति आकर्षण बढ़ता है।
‘कितने चौराहे' में 'आंचलिकता का विश्वसनीय पुट, ज्वलन्त चरित्र सृष्टि, मार्मिक कथावस्तु और चरित्रानुकूल भाषा मोहित करती है। साधारण में निहित असाधारणता का उन्मेष सर्वोपरि है। रेणु के उपन्यास-शिल्प की अनेक विशेषताएँ इस रचना में दृष्टिगोचर होती हैं। शब्दों के बीच से बिम्ब झाँकते हैं, 'सूरज पच्छिम की ओर झुक गया। बालूचर पर लाली उतर आई। परमान की धारा पर डूबते हुए सूरज की अन्तिम किरण झिलमिलाई।' जीवन का जयगान करता उपन्यास। ‘kitne chaurahe’ phanishvarnath renu ka pathniy laghu upanyas hai. Pahli baar ye 1966 mein prkashit hua. Is upanyas ke vrittant mein lekhak ne niji jivan ki kai ghatnaon ko sanyojit kiya hai. ‘kitne chaurahe ki rachna ka ud‌deshya spasht hai. Ye upanyas aazadi ke liye sangharsh karne aur balidan denevale yuvkon ko kendr mein rakhkar likha gaya hai, taki aaj ke kishoron mein deshaprem, seva, tyag aadi aadarshon ke bhav jagrat ho saken.
Ye upanyas vyaktigat sukh-du:kha, svarth-moh se uupar uthkar desh ke liye jine-marne valon ke manviy, sanvedanshil rup ko ubharta hai. Pathkon ke man mein ye vrittant shraddha jagrat karta hai. Pathak ke man mein charon or chikhte bhrashtachar, svarthaparta aadi ke prati kshobh ubharta hai. Utsargi parampra ke prati aakarshan badhta hai.
‘kitne chaurahe mein anchalikta ka vishvasniy put, jvlant charitr srishti, marmik kathavastu aur charitranukul bhasha mohit karti hai. Sadharan mein nihit asadharanta ka unmesh sarvopari hai. Renu ke upanyas-shilp ki anek visheshtayen is rachna mein drishtigochar hoti hain. Shabdon ke bich se bimb jhankate hain, suraj pachchhim ki or jhuk gaya. Baluchar par lali utar aai. Parman ki dhara par dubte hue suraj ki antim kiran jhilamilai. Jivan ka jaygan karta upanyas.