BackBack
-11%

Kitna Bada Jhooth

Rs. 350 Rs. 312

पाँचवें दशक में हिन्दी के जिन कथाकारों ने पाठकों और समीक्षकों का ध्यान सबसे ज़्यादा आकर्षित किया उनमें उषा प्रियम्वदा का नाम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है। पिछले कई दशकों से ये निरन्तर सृजनरत हैं और इस अवधि में इन्होंने जो कुछ लिखा है वह परिमाण में कम होते हुए भी विशिष्ट... Read More

BlackBlack
Description

पाँचवें दशक में हिन्दी के जिन कथाकारों ने पाठकों और समीक्षकों का ध्यान सबसे ज़्यादा आकर्षित किया उनमें उषा प्रियम्वदा का नाम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है। पिछले कई दशकों से ये निरन्तर सृजनरत हैं और इस अवधि में इन्होंने जो कुछ लिखा है वह परिमाण में कम होते हुए भी विशिष्ट है, जिसका प्रमाण है ‘कितना बड़ा झूठ’ की ये कहानियाँ।
प्रस्तुत संग्रह की अधिकांश कहानियाँ अमेरिकी अथवा यूरोपीय परिवेश में लिखी गई हैं। और जिन कहानियों का परिवेश भारतीय है उनमें भी प्रमुख पात्र, जो प्रायः नारी है, का सम्बन्ध किसी-न-किसी रूप में यूरोप अथवा अमेरिका से रहता है। इस एक तथ्य के कारण ही इन कहानियों को, बहुचर्चित मुहावरे की भाषा में, भोगे हुए यथार्थ की संज्ञा भी दी जा सकती है और इसी तथ्य के कारण इन कहानियों में आधुनिकता का स्वर भी अधिक प्रबल है।
डॉ. इन्द्रनाथ मदान के शब्दों में : ‘उषा प्रियम्वदा की कहानी-कला से रूढ़ियों, मृत परम्पराओं, जड़ मान्यताओं पर मीठी-मीठी चोटों की ध्वनि निकलती है, घिरे हुए जीवन की उबासी एवं उदासी उभरती है, आत्मीयता और करुणा के स्वर फूटते हैं। सूक्ष्म व्यंग्य कहानीकार के बौद्धिक विकास और कलात्मक संयम का परिचय देता है, जो तटस्थ दृष्टि और गहन चिन्तन का परिणाम है।’
अपने पहले संग्रह ‘ज़िन्दगी और गुलाब’ के फूल से लेकर अब तक विषय-वस्तु और शिल्प की दृष्टि से लेखिका ने विकास की जो मंज़िलें तय की हैं, उनका जीवन्त परिचय पाठकों को ‘कितना बड़ा झूठ’ की कहानियों से मिलेगा। Panchaven dashak mein hindi ke jin kathakaron ne pathkon aur samikshkon ka dhyan sabse zyada aakarshit kiya unmen usha priyamvda ka naam atyant mahattvpurn hai. Pichhle kai dashkon se ye nirantar srijanrat hain aur is avadhi mein inhonne jo kuchh likha hai vah pariman mein kam hote hue bhi vishisht hai, jiska prman hai ‘kitna bada jhuth’ ki ye kahaniyan. Prastut sangrah ki adhikansh kahaniyan ameriki athva yuropiy parivesh mein likhi gai hain. Aur jin kahaniyon ka parivesh bhartiy hai unmen bhi prmukh patr, jo prayः nari hai, ka sambandh kisi-na-kisi rup mein yurop athva amerika se rahta hai. Is ek tathya ke karan hi in kahaniyon ko, bahucharchit muhavre ki bhasha mein, bhoge hue yatharth ki sangya bhi di ja sakti hai aur isi tathya ke karan in kahaniyon mein aadhunikta ka svar bhi adhik prbal hai.
Dau. Indrnath madan ke shabdon mein : ‘usha priyamvda ki kahani-kala se rudhiyon, mrit parampraon, jad manytaon par mithi-mithi choton ki dhvani nikalti hai, ghire hue jivan ki ubasi evan udasi ubharti hai, aatmiyta aur karuna ke svar phutte hain. Sukshm vyangya kahanikar ke bauddhik vikas aur kalatmak sanyam ka parichay deta hai, jo tatasth drishti aur gahan chintan ka parinam hai. ’
Apne pahle sangrah ‘zindgi aur gulab’ ke phul se lekar ab tak vishay-vastu aur shilp ki drishti se lekhika ne vikas ki jo manzilen tay ki hain, unka jivant parichay pathkon ko ‘kitna bada jhuth’ ki kahaniyon se milega.