Look Inside
Kissago
Kissago
Kissago
Kissago

Kissago

Regular price ₹ 326
Sale price ₹ 326 Regular price ₹ 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.
Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kissago

Kissago

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘क़िस्सागो’ मारियो वार्गास ल्योसा के सबसे महत्त्वाकांक्षी उपन्यासों में से एक है। यह लातिन अमरीकी देश पेरु के एक प्रमुख आदिवासी समूह के इर्द-गिर्द घूमता है। आदिवासी जीवन-दृष्टि और हमारी आज की आधुनिक सभ्यता के बरक्स उसकी इयत्ता को एक बड़े प्रश्न के रूप में खड़ा करनेवाला यह सम्भवतः अपनी तरह का अकेला उपन्यास है। मिटने-मिटने की कगार पर खड़े इन समाजों के पृथ्वी पर रहने के अधिकार को इसमें बड़ी मार्मिक और उत्कट संवेदना के साथ प्रस्तुत किया गया है।
एक साथ कई स्तरों पर चलनेवाले इस उपन्यास में एक तरफ़ आधुनिक विकास की उत्तेजना में से फूटे तर्क-वितर्क हैं तो दूसरी तरफ़ नदी, पर्वत, सूरज, चाँद, दुष्ट आत्माओं और सहज ज्ञानियों की एक के बाद एक निकलती कथाओं का अनवरत सिलसिला है।
विषम परिस्थितियों से जूझते, बार-बार स्थानान्तरित होने को विवश, टुकड़ों-टुकड़ों में बँटे माचीग्वेंगा समाज को जोड़नेवाली, उनकी जातीय स्मृति को बार-बार जाग्रत् करनेवाली एकमात्र जीती-जागती कड़ी है ‘क़िस्सागो’ यानी ‘आब्लादोर’। यह चरित्र उपन्यास के समूचे फलक के आर-पार छाया हुआ है। इस उपन्यास का रचयिता स्वयं एक किरदार के रूप में उपन्यास के भीतर मौजूद है। वह और यूनिवर्सिटी के दिनों का उसका एक अभिन्न मित्र साउल सूयतास आब्लादोर की केन्द्रीय अवधारणा के प्रति तीव्र आकर्षण महसूस करते हैं, पर उसे ठीक-ठीक समझ नहीं पाते। वे एक दूसरे से अपने इस सबसे गहरे ‘पैशन’ को छुपाते हैं जो अन्ततोगत्वा उनके जीवन की अलग-अलग किन्तु आपस में नाभि-नाल सम्बन्ध रखनेवाली राहें निर्धारित करता है। एक उसमें अपने उपन्यास का किरदार तलाशता भटकता है तो दूसरा स्वयं वह किरदार बन जाता है। यह उपन्यास इस अर्थ में एक आत्मीय सहचर के लिए मनुष्य की अनवरत तलाश या भटकन की कथा भी
है।
उपन्यास यथार्थ और मिथकीय, समसामयिक और प्रागैतिहासिक के ध्रुवीय समीकरणों को एक साथ साधने का सार्थक उपक्रम है। आज भारत में आदिवासी समाजों की स्थिति को लेकर चलती बहस के मद्देनज़र सम्भवतः यह उपन्यास हमारे लिए विशेष प्रासंगिक और महत्त्वपूर्ण हो उठता है। ‘qissago’ mariyo vargas lyosa ke sabse mahattvakankshi upanyason mein se ek hai. Ye latin amriki desh peru ke ek prmukh aadivasi samuh ke ird-gird ghumta hai. Aadivasi jivan-drishti aur hamari aaj ki aadhunik sabhyta ke baraks uski iyatta ko ek bade prashn ke rup mein khada karnevala ye sambhvatः apni tarah ka akela upanyas hai. Mitne-mitne ki kagar par khade in samajon ke prithvi par rahne ke adhikar ko ismen badi marmik aur utkat sanvedna ke saath prastut kiya gaya hai. Ek saath kai stron par chalnevale is upanyas mein ek taraf aadhunik vikas ki uttejna mein se phute tark-vitark hain to dusri taraf nadi, parvat, suraj, chand, dusht aatmaon aur sahaj gyaniyon ki ek ke baad ek nikalti kathaon ka anavrat silasila hai.
Visham paristhitiyon se jujhte, bar-bar sthanantrit hone ko vivash, tukdon-tukdon mein bante machigvenga samaj ko jodnevali, unki jatiy smriti ko bar-bar jagrat karnevali ekmatr jiti-jagti kadi hai ‘qissago’ yani ‘ablador’. Ye charitr upanyas ke samuche phalak ke aar-par chhaya hua hai. Is upanyas ka rachayita svayan ek kirdar ke rup mein upanyas ke bhitar maujud hai. Vah aur yunivarsiti ke dinon ka uska ek abhinn mitr saul suytas aablador ki kendriy avdharna ke prati tivr aakarshan mahsus karte hain, par use thik-thik samajh nahin pate. Ve ek dusre se apne is sabse gahre ‘paishan’ ko chhupate hain jo anttogatva unke jivan ki alag-alag kintu aapas mein nabhi-nal sambandh rakhnevali rahen nirdharit karta hai. Ek usmen apne upanyas ka kirdar talashta bhatakta hai to dusra svayan vah kirdar ban jata hai. Ye upanyas is arth mein ek aatmiy sahchar ke liye manushya ki anavrat talash ya bhatkan ki katha bhi
Hai.
Upanyas yatharth aur mithkiy, samsamyik aur pragaitihasik ke dhruviy samikarnon ko ek saath sadhne ka sarthak upakram hai. Aaj bharat mein aadivasi samajon ki sthiti ko lekar chalti bahas ke maddenzar sambhvatः ye upanyas hamare liye vishesh prasangik aur mahattvpurn ho uthta hai.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products