Kissa Kotah

Regular price Rs. 279
Sale price Rs. 279 Regular price Rs. 300
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Kissa Kotah

Kissa Kotah

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

बेहद भागदौड़ की ज़िन्दगी में जीवन का पिछला हिस्सा धूसर होता जाता है, जबकि हम उसे याद रखना चाहते हैं—एक विकलता का चित्र। रंग, स्वाद, हरकतें और नाजुक सम्बन्ध की चाहत—बस, एक कशिश है। भागती ज़िन्दगी में कशिश! स्मृतियों के बारीक रग-रेशों के उभर आने की उम्मीद। तब यह किताब ‘क़िस्सा कोताह’ ऊष्मा के साथ नज़दीक रखे जाने के लिए बनी है। ज़रूरी और सटीक।
यह हमारे क़िस्सों का असमाप्त जीवन है। जैसे जीवन को चुपचाप सुनना है। एक के भीतर तीन-चार आदमियों को देखना है। यह राजेश जोशी के बचपन, कॉलेज या साहित्यिक व्यक्तित्व के बनने का दस्तावेज़ ही नहीं है, बल्कि बीहड़ इतिहास में चले गए लोगों, इमारतों और प्रसंगों को वापस ले आने की सृजनात्मकता है। मध्य प्रदेश के भोपाल और उससे पहले नरसिंहगढ़ रियासत की साँसें हैं। संयुक्त परिवार की दुर्लभ छबियाँ। नाना, फुआ, भाइयों और पिता के लोकाचार, जो कि हम सबके अपने से हैं। अपने ही हैं। दोस्तों की आत्मीयता, सरके दिमाग़ों का अध्ययन, राजनीति के अध्याय बन गए कुछ नाम, हमें अपने शहरों में खोजने का विरल अनुभव देते हैं। यह भटकन है। प्यास। बेगमकाल से इमरजेंसीसीकाल तक का, इतिहास में लुप्त हो गए लोगों के विविध व्यवहारों का अलबम है। फ़िल्म जैसा साउंड ट्रेक है। भुट्टे, आम, सीताफल और मलाई दोने का मीठापन है।
सुविख्यात कवि राजेश जोशी का यह अनूठा गद्य अपनी निज लय के साथ उस उपवन में प्रवेश करता है जिसे हम उपन्यास कहते हैं। यहाँ हम अपनी स्मृतियों, अपने लोगों, सड़कों, भवनों और सम्बन्धों को रोपने के लिए उर्वर भूमि पाते हैं।
—शशांक Behad bhagdaud ki zindagi mein jivan ka pichhla hissa dhusar hota jata hai, jabaki hum use yaad rakhna chahte hain—ek vikalta ka chitr. Rang, svad, harakten aur najuk sambandh ki chahat—bas, ek kashish hai. Bhagti zindagi mein kashish! smritiyon ke barik rag-reshon ke ubhar aane ki ummid. Tab ye kitab ‘qissa kotah’ uushma ke saath nazdik rakhe jane ke liye bani hai. Zaruri aur satik. Ye hamare qisson ka asmapt jivan hai. Jaise jivan ko chupchap sunna hai. Ek ke bhitar tin-char aadamiyon ko dekhna hai. Ye rajesh joshi ke bachpan, kaulej ya sahityik vyaktitv ke banne ka dastavez hi nahin hai, balki bihad itihas mein chale ge logon, imarton aur prsangon ko vapas le aane ki srijnatmakta hai. Madhya prdesh ke bhopal aur usse pahle narsinhgadh riyasat ki sansen hain. Sanyukt parivar ki durlabh chhabiyan. Nana, phua, bhaiyon aur pita ke lokachar, jo ki hum sabke apne se hain. Apne hi hain. Doston ki aatmiyta, sarke dimagon ka adhyyan, rajniti ke adhyay ban ge kuchh naam, hamein apne shahron mein khojne ka viral anubhav dete hain. Ye bhatkan hai. Pyas. Begamkal se imarjensisikal tak ka, itihas mein lupt ho ge logon ke vividh vyavharon ka albam hai. Film jaisa saund trek hai. Bhutte, aam, sitaphal aur malai done ka mithapan hai.
Suvikhyat kavi rajesh joshi ka ye anutha gadya apni nij lay ke saath us upvan mein prvesh karta hai jise hum upanyas kahte hain. Yahan hum apni smritiyon, apne logon, sadkon, bhavnon aur sambandhon ko ropne ke liye urvar bhumi pate hain.
—shashank

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products