BackBack
-11%

Kis Prakar Ki Hai Yah Bhartiyata ?

Rs. 300 Rs. 267

भारतीय मूल्यों के प्रति अगाध निष्ठा और अपने व्यक्ति के स्तर पर विकट आत्मालोचन यू.आर. अनन्तमूर्ति के लेखक के विशिष्ट गुण हैं। ‘संस्कार’, ‘अवस्था’ और ‘भारतीपुर’ जैसे उपन्यासों में जिस प्रकार उन्होंने आधुनिक युग की चुनौतियों को कथा के भावालोक में समझा है, वैसी ही गहनता के साथ इस पुस्तक... Read More

Description

भारतीय मूल्यों के प्रति अगाध निष्ठा और अपने व्यक्ति के स्तर पर विकट आत्मालोचन यू.आर. अनन्तमूर्ति के लेखक के विशिष्ट गुण हैं। ‘संस्कार’, ‘अवस्था’ और ‘भारतीपुर’ जैसे उपन्यासों में जिस प्रकार उन्होंने आधुनिक युग की चुनौतियों को कथा के भावालोक में समझा है, वैसी ही गहनता के साथ इस पुस्तक में संकलित निबन्धों में उन्होंने उन पर विचार किया है। ‘मैं अपने भीतर का आलोचक हूँ’, वे कहते हैं। परम्पराओं पर प्रश्न करते हैं और विकास की प्रश्नाकुल द्वन्द्वात्मकता में विश्वास रखते हैं।
‘किस प्रकार की है यह भारतीयता’ कुछ चुने हुए भाषणों, लेखों और साक्षात्कारों का संकलन है। दलित साहित्य, विकेन्द्रीकरण और संस्कृतिपरक कई आलोचनात्मक लेख इस पुस्तक में संकलित हैं। इन लेखों में लेखक क्षेत्रीय पवित्रता क़ायम रखने के लिए प्रतिबद्ध है। उनका मानना है कि उपनिवेशविरोध की राजनीति से उपजी हुई अपनी संस्कृति की रक्षा अपनी भाषा में ही सृजन करने से सम्भव है। अनन्तमूर्ति ने अभिव्यक्ति के प्रगटीकरण के लिए अपनी मातृभाषा कन्नड़ का ही इस्तेमाल किया है। ज्ञान का आगार होने के नाते वह अंग्रेज़ी का समर्थन करते हैं, लेकिन उसके आक्रमणकारी तेवर का विरोध भी करते हैं। Bhartiy mulyon ke prati agadh nishtha aur apne vyakti ke star par vikat aatmalochan yu. Aar. Anantmurti ke lekhak ke vishisht gun hain. ‘sanskar’, ‘avastha’ aur ‘bhartipur’ jaise upanyason mein jis prkar unhonne aadhunik yug ki chunautiyon ko katha ke bhavalok mein samjha hai, vaisi hi gahanta ke saath is pustak mein sanklit nibandhon mein unhonne un par vichar kiya hai. ‘main apne bhitar ka aalochak hun’, ve kahte hain. Parampraon par prashn karte hain aur vikas ki prashnakul dvandvatmakta mein vishvas rakhte hain. ‘kis prkar ki hai ye bhartiyta’ kuchh chune hue bhashnon, lekhon aur sakshatkaron ka sanklan hai. Dalit sahitya, vikendrikran aur sanskritiprak kai aalochnatmak lekh is pustak mein sanklit hain. In lekhon mein lekhak kshetriy pavitrta qayam rakhne ke liye pratibaddh hai. Unka manna hai ki upaniveshavirodh ki rajniti se upji hui apni sanskriti ki raksha apni bhasha mein hi srijan karne se sambhav hai. Anantmurti ne abhivyakti ke pragtikran ke liye apni matribhasha kannad ka hi istemal kiya hai. Gyan ka aagar hone ke nate vah angrezi ka samarthan karte hain, lekin uske aakramankari tevar ka virodh bhi karte hain.