BackBack
-11%

Khule Mein Aawas

Rs. 150 Rs. 134

हिन्दी साहित्य की निरन्तर बढ़ती स्मृति-क्षीणता के चलते अगर कइयों को कमलेश नाम से कुछ ख़ास याद नहीं आएगा तो इसमें अचरज नहीं होना चाहिए। स्वयं कमलेश को नहीं होगा, क्योंकि पिछले बीस-पच्चीस बरसों से वे कम लिखते, बहुत कम छपाते और साहित्य के दृश्य और आयोजनों से दूर रहे... Read More

BlackBlack
Description

हिन्दी साहित्य की निरन्तर बढ़ती स्मृति-क्षीणता के चलते अगर कइयों को कमलेश नाम
से कुछ ख़ास याद नहीं आएगा तो इसमें अचरज नहीं होना चाहिए। स्वयं कमलेश को नहीं होगा, क्योंकि पिछले बीस-पच्चीस बरसों से वे कम लिखते, बहुत कम छपाते और साहित्य के दृश्य और आयोजनों से दूर रहे हैं। लेकिन इससे यह बात मिट नहीं जाती कि वे हमारी पीढ़ी और उसके तुरत बाद की पीढ़ी के गाथा-पुरुष रहे हैं। तब की युवा कविता पर एक आलोचक की तरह पहली क़लम मैंने कमलेश और धूमिल की कविता पर ही चलाई थी और उन्हें ‘तलाश के दो मुहावरे’ कहा था।
कमलेश ने कम लिखा और जितना लिखा उसे मुनासिब सख़्ती से ख़ुद जाँचा और उसका कम ही सार्वजनिक किया। उनके यहाँ ऐन्द्रियता और सामासिक स्मृति का जो संगुम्फन है, वह हममें से कई के लिए ईर्ष्या का विषय रहा है।... अपने व्यक्तित्व और रचना के प्रति भयावह और बेहद दिखाऊ आत्मरति के इस युग में कमलेश हमेशा कुछ कहते कम, बुदबुदाते अधिक रहे हैं। उनके यहाँ कम ही अधिक है। उनकी कविता बासी नहीं हुई है, दशकों पहले की होने के बावजूद और बावजूद इधर कविता के व्यापक अख़बारीकरण के। उनके यहाँ जो अनुगूँजें हैं, उनकी कविता में जो अन्तर्ध्वनियाँ हैं, वे आज भी हम जैसे सुनकर अभिभूत होते हैं और वे अक्सर अन्यत्र सुनाई नहीं देतीं।
—अशोक वाजपेयी; ‘जनसत्ता’; 05 अगस्त, 2007 Hindi sahitya ki nirantar badhti smriti-kshinta ke chalte agar kaiyon ko kamlesh naamSe kuchh khas yaad nahin aaega to ismen achraj nahin hona chahiye. Svayan kamlesh ko nahin hoga, kyonki pichhle bis-pachchis barson se ve kam likhte, bahut kam chhapate aur sahitya ke drishya aur aayojnon se dur rahe hain. Lekin isse ye baat mit nahin jati ki ve hamari pidhi aur uske turat baad ki pidhi ke gatha-purush rahe hain. Tab ki yuva kavita par ek aalochak ki tarah pahli qalam mainne kamlesh aur dhumil ki kavita par hi chalai thi aur unhen ‘talash ke do muhavre’ kaha tha.
Kamlesh ne kam likha aur jitna likha use munasib sakhti se khud jancha aur uska kam hi sarvajnik kiya. Unke yahan aindriyta aur samasik smriti ka jo sangumphan hai, vah hammen se kai ke liye iirshya ka vishay raha hai. . . . Apne vyaktitv aur rachna ke prati bhayavah aur behad dikhau aatmarati ke is yug mein kamlesh hamesha kuchh kahte kam, budabudate adhik rahe hain. Unke yahan kam hi adhik hai. Unki kavita basi nahin hui hai, dashkon pahle ki hone ke bavjud aur bavjud idhar kavita ke vyapak akhbarikran ke. Unke yahan jo anugunjen hain, unki kavita mein jo antardhvaniyan hain, ve aaj bhi hum jaise sunkar abhibhut hote hain aur ve aksar anyatr sunai nahin detin.
—ashok vajpeyi; ‘jansatta’; 05 agast, 2007