Look Inside
Khel Sirf Khel Nahin Hai
Khel Sirf Khel Nahin Hai

Khel Sirf Khel Nahin Hai

Regular price Rs. 372
Sale price Rs. 372 Regular price Rs. 401
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Khel Sirf Khel Nahin Hai

Khel Sirf Khel Nahin Hai

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘खेल सिर्फ़ खेल नहीं है’ पुस्तक में प्रभाष जोशी द्वारा खेल पर लिखे गए लेख संकलित हैं। इन लेखों से हिन्दी में खेल विश्लेषण का पूरा परिदृश्य ही बदल गया था।
प्रभाष जोशी ने अपनी भूमिका में लिखा है :
“इस पुस्तक में वे लेख दिए गए हैं जो मैंने खेल पर लिखे। अब जिस तरह राजनीति पर सम्पादकीय पेज पर सम्पादकीय या मुख्य लेख या जब ज़रूरी हुआ, पहले पेज पर लिखता रहा। उसी तरह खेल जैसे खेले जाते रहे—पहले पेज, आख़िरी पेज और सम्पादकीय पेज पर कवर करता रहा। ऐसा करते हुए जो बच जाता था या जिसके मानवीय पहलू के लिए ख़बर में गुंजाइश नहीं होती थी, वही कागद कारे में आया।
खेल को महज़ एक मनोरंजन या शारीरिक व्यायाम मैं नहीं मानता। खेल मनुष्य का चरित्र बनाता है लेकिन उससे भी ज़्यादा खेल में मनुष्य का चरित्र व्यक्त और प्रकट होता है। अंग्रेज़ माँ के कैनेडियन बेटे ग्रेग रूज़ेस्की ने अमेरिकी माइकल चांग से एक मैच में एक सेट जीता, एक हारा और तीसरे सेट में चार-चार गेम पर थे। रूज़ेस्की सर्व कर रहा था तीस-तीस पर। गेम जीतने के लिए दो पाइंट और चाहिए थे। किसी तरह वह ड्यूस पर आया और फिर एडवांटेज पर। एक पाइंट के बाद गेम उसका होना था। सर्व करने के पहले रूज़ेस्की ने अपने पर क्रॉस बनाया और गेंद चूमी। तभी मुझे लगा कि गेम यह हार जाएगा। रूज़ेस्की ने सर्विस की और नेट में मार दी और फिर मार के डबन फॉल्ट कर दिया। चांग को मौक़ा मिला और वह गेम और सेट दोनों ले गया। तब रूज़ेस्की की सर्विस गोले जैसे होती थी और उसका कैरियर बन रहा था। मैंने लिखा कि वह कभी कोई ग्रैंड स्लेम जीत नहीं पाएगा। जीता भी नहीं और अब तो खेलता भी नहीं। उस मैच के सबसे नाजुक और निर्णायक मौक़े पर रूज़ेस्की का अपने पर विश्वास नहीं था, इसलिए उसने क्रॉस बनाया और गेंद चूमी। सबसे कठिन घड़ी में जिसका अपने पर विश्वास नहीं होता, उससे कुछ भी जीता नहीं जाएगा।
मैं क्रिकेट, टेनिस, फुटबॉल जैसे खेल इन्हीं नाजुक और कठिन घड़ियों में खिलाड़ियों और टीमों के चरित्र समझने के लिए देखता हूँ। महज़ मन बहलाने के लिए नहीं। खेल सचमुच एक अनुशासन है जो मनुष्य को पूरा बनाता और प्रकट करता है।” ‘khel sirf khel nahin hai’ pustak mein prbhash joshi dvara khel par likhe ge lekh sanklit hain. In lekhon se hindi mein khel vishleshan ka pura paridrishya hi badal gaya tha. Prbhash joshi ne apni bhumika mein likha hai :
“is pustak mein ve lekh diye ge hain jo mainne khel par likhe. Ab jis tarah rajniti par sampadkiy pej par sampadkiy ya mukhya lekh ya jab zaruri hua, pahle pej par likhta raha. Usi tarah khel jaise khele jate rahe—pahle pej, aakhiri pej aur sampadkiy pej par kavar karta raha. Aisa karte hue jo bach jata tha ya jiske manviy pahlu ke liye khabar mein gunjaish nahin hoti thi, vahi kagad kare mein aaya.
Khel ko mahaz ek manoranjan ya sharirik vyayam main nahin manta. Khel manushya ka charitr banata hai lekin usse bhi zyada khel mein manushya ka charitr vyakt aur prkat hota hai. Angrez man ke kainediyan bete greg ruzeski ne ameriki maikal chang se ek maich mein ek set jita, ek hara aur tisre set mein char-char gem par the. Ruzeski sarv kar raha tha tis-tis par. Gem jitne ke liye do paint aur chahiye the. Kisi tarah vah dyus par aaya aur phir edvantej par. Ek paint ke baad gem uska hona tha. Sarv karne ke pahle ruzeski ne apne par kraus banaya aur gend chumi. Tabhi mujhe laga ki gem ye haar jayega. Ruzeski ne sarvis ki aur net mein maar di aur phir maar ke daban phault kar diya. Chang ko mauqa mila aur vah gem aur set donon le gaya. Tab ruzeski ki sarvis gole jaise hoti thi aur uska kairiyar ban raha tha. Mainne likha ki vah kabhi koi graind slem jit nahin payega. Jita bhi nahin aur ab to khelta bhi nahin. Us maich ke sabse najuk aur nirnayak mauqe par ruzeski ka apne par vishvas nahin tha, isaliye usne kraus banaya aur gend chumi. Sabse kathin ghadi mein jiska apne par vishvas nahin hota, usse kuchh bhi jita nahin jayega.
Main kriket, tenis, phutbaul jaise khel inhin najuk aur kathin ghadiyon mein khiladiyon aur timon ke charitr samajhne ke liye dekhta hun. Mahaz man bahlane ke liye nahin. Khel sachmuch ek anushasan hai jo manushya ko pura banata aur prkat karta hai. ”

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products