Look Inside
Khatarnak Yon Janit Rog Aur Aids
Khatarnak Yon Janit Rog Aur Aids
Khatarnak Yon Janit Rog Aur Aids
Khatarnak Yon Janit Rog Aur Aids
Khatarnak Yon Janit Rog Aur Aids
Khatarnak Yon Janit Rog Aur Aids

Khatarnak Yon Janit Rog Aur Aids

Regular price Rs. 56
Sale price Rs. 56 Regular price Rs. 60
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Khatarnak Yon Janit Rog Aur Aids

Khatarnak Yon Janit Rog Aur Aids

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

— प्राथमिक, द्वितीयक एवं तृतीयक। रोगाणु के प्रवेश के औसतन 25 दिन बाद यौनांग पर अंडाकार फफोला बनता है। इसकी बाहरी सतह टूटने से यह एक छाले का रूप ले लेता है। छाले को प्राथमिक शैंकर भी कहते हैं। इससे ख़ून नहीं आता और सामान्य तौर पर दर्द भी नहीं होता। 95 प्रतिशत यौन रोगियों में घाव शिशन के ऊपर बनता है लेकिन समलिंगी रोगियों में यह गुदा के किनारे पर होता है। इसके अलावा यह होंठों अथवा जीभ पर भी हो सकता है। स्त्रियों में योनि द्वार के आसपास बनता है।
रोग की द्वितीयक अवस्था में 80 प्रतिशत मरीज़ों में त्वचा के रोग भी हो जाते हैं। कुछ मरीज़ों में यकृत, तिल्ली, मस्तिष्क की झिल्लियों में भी रोग फैल जाता है। इसके साथ ही बुख़ार, सिरदर्द, गले में दर्द इत्यादि लक्षण पैदा होते हैं।
पूरे शरीर की त्वचा में विभिन्न तरह की फुंसियाँ भी उभरती हैं। ये फुंसियाँ गुलाबी अथवा ताँबिया रंग की होती हैं। इनमें खुजलाहट नहीं होती। रोग की द्वितीयक अवस्था अधिक संक्रामक मानी जाती है। इस अवस्था में शरीर की प्रायः सभी लसिका ग्रन्थियों में सूजन आ जाती है।
रोग की तृतीयक अवस्था में शरीर के विभिन्न भागों पर ठोस गाँठों का निर्माण होता है जिन्हें गुम्मा कहते हैं। ये अनियमित आकार की होती हैं। तृतीयक सिफ़लिस पुरुष अथवा स्त्री के प्रायः सभी अंग संस्थानों में फैल जाती हैं उदाहरणार्थ—यह हृदय एवं रक्त वाहिकाओं, फेफड़ों, पाचन संस्थान, अस्थि तंत्र, तंत्रिका तंत्र इत्यादि को प्रभावित कर इनके कार्यों में बाधा उत्पन्न करती है, यहाँ तक कि रोगी पागल हो जाता है। उसको लकवा लग सकता है, उसकी हृदयगति रुक सकती है।
—इसी पुस्तक से — prathmik, dvitiyak evan tritiyak. Roganu ke prvesh ke austan 25 din baad yaunang par andakar phaphola banta hai. Iski bahri satah tutne se ye ek chhale ka rup le leta hai. Chhale ko prathmik shainkar bhi kahte hain. Isse khun nahin aata aur samanya taur par dard bhi nahin hota. 95 pratishat yaun rogiyon mein ghav shishan ke uupar banta hai lekin samlingi rogiyon mein ye guda ke kinare par hota hai. Iske alava ye honthon athva jibh par bhi ho sakta hai. Striyon mein yoni dvar ke aaspas banta hai. Rog ki dvitiyak avastha mein 80 pratishat marizon mein tvcha ke rog bhi ho jate hain. Kuchh marizon mein yakrit, tilli, mastishk ki jhilliyon mein bhi rog phail jata hai. Iske saath hi bukhar, sirdard, gale mein dard ityadi lakshan paida hote hain.
Pure sharir ki tvcha mein vibhinn tarah ki phunsiyan bhi ubharti hain. Ye phunsiyan gulabi athva tanbiya rang ki hoti hain. Inmen khujlahat nahin hoti. Rog ki dvitiyak avastha adhik sankramak mani jati hai. Is avastha mein sharir ki prayः sabhi lasika granthiyon mein sujan aa jati hai.
Rog ki tritiyak avastha mein sharir ke vibhinn bhagon par thos ganthon ka nirman hota hai jinhen gumma kahte hain. Ye aniymit aakar ki hoti hain. Tritiyak siflis purush athva stri ke prayः sabhi ang sansthanon mein phail jati hain udaharnarth—yah hriday evan rakt vahikaon, phephdon, pachan sansthan, asthi tantr, tantrika tantr ityadi ko prbhavit kar inke karyon mein badha utpann karti hai, yahan tak ki rogi pagal ho jata hai. Usko lakva lag sakta hai, uski hridayagati ruk sakti hai.
—isi pustak se

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products