Look Inside
Kharidi Kaudiyon Ke Mol : Vols. 1-2
Kharidi Kaudiyon Ke Mol : Vols. 1-2
Kharidi Kaudiyon Ke Mol : Vols. 1-2
Kharidi Kaudiyon Ke Mol : Vols. 1-2

Kharidi Kaudiyon Ke Mol : Vols. 1-2

Regular price Rs. 1,488
Sale price Rs. 1,488 Regular price Rs. 1,600
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kharidi Kaudiyon Ke Mol : Vols. 1-2

Kharidi Kaudiyon Ke Mol : Vols. 1-2

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘ख़रीदी कौड़ियों के मोल’ बांग्ला का वृहत्तम और अन्यतम उपन्यास है।
दीपंकर इस उपन्यास का नायक है : राष्ट्रीय और सामाजिक बवंडर में फँसी मानवता और युग-यंत्रणा का प्रतिनिधि। उसके अघोर नाना ने कहा था कि कौड़ियों से सब कुछ ख़रीदा जा सकता है। नाना के कथन का सबूत मिस्टर घोषाल, मिस्टर पालित, नयनरंजिनी, छिटे, फोटा, लक्ष्मी दी आदि ने देना चाहा, परन्तु दीपंकर का आदर्शबोध उनके मतवाद से टकराकर रह गया। दीपंकर के जीवन ने प्रमाण दिया कि पैसे से सुख नहीं ख़रीदा जा सकता। फिर भी दीपंकर का जीवन ऊपर से देखने में सुखी नहीं है। मामूली क्लर्क से वह रेलवे का बहुत बड़ा ऑफ़िसर बना, लेकिन अन्त तक उसे जीवन के जुलूस से कटकर अज्ञातवास है। इस ट्रेजेडी का कारण है कलयुग। इस युग में रामराज्य की स्थापना असम्भव है, और रावणराज्य की स्थापना स्वाभाविक। इसीलिए इस उपन्यास का रावण, मिस्टर घोषाल, जेल से निकलकर और अधिक शक्तिशाली बन गया और आवारा फोटा खद्दर ओढ़कर कांग्रेस का बड़ा नेता फटिक बाबू। सती मानवी आकांक्षा की मूर्ति है तो उसका पति सनातन बाबू सच्चाई और आदर्श का प्रतीक। परन्तु आज सच्चाई अपंग और आदर्श नपुंसक है। इसलिए सती का सर्वनाश होकर रहा। सीता का सर्वनाश वाल्मीकि नहीं टाल सके तो सती का सर्वनाश बिमल बाबू कैसे रोक पाते! बांग्ला का यह महान् उपन्यास हर हिन्दी पाठक के लिए पठनीय है। इसके अनुवाद की विशेषता यह है कि मूल को अविकल रखा गया है और बांग्ला उपन्यासों के हिन्दी रूपान्तर में प्राय: जो अर्थ का अनर्थ होता है, उससे यह सर्वथा मुक्त है। ‘kharidi kaudiyon ke mol’ bangla ka vrihattam aur anytam upanyas hai. Dipankar is upanyas ka nayak hai : rashtriy aur samajik bavandar mein phansi manavta aur yug-yantrna ka pratinidhi. Uske aghor nana ne kaha tha ki kaudiyon se sab kuchh kharida ja sakta hai. Nana ke kathan ka sabut mistar ghoshal, mistar palit, nayanranjini, chhite, phota, lakshmi di aadi ne dena chaha, parantu dipankar ka aadarshbodh unke matvad se takrakar rah gaya. Dipankar ke jivan ne prman diya ki paise se sukh nahin kharida ja sakta. Phir bhi dipankar ka jivan uupar se dekhne mein sukhi nahin hai. Mamuli klark se vah relve ka bahut bada aufisar bana, lekin ant tak use jivan ke julus se katkar agyatvas hai. Is trejedi ka karan hai kalyug. Is yug mein ramrajya ki sthapna asambhav hai, aur ravanrajya ki sthapna svabhavik. Isiliye is upanyas ka ravan, mistar ghoshal, jel se nikalkar aur adhik shaktishali ban gaya aur aavara phota khaddar odhkar kangres ka bada neta phatik babu. Sati manvi aakanksha ki murti hai to uska pati sanatan babu sachchai aur aadarsh ka prtik. Parantu aaj sachchai apang aur aadarsh napunsak hai. Isaliye sati ka sarvnash hokar raha. Sita ka sarvnash valmiki nahin taal sake to sati ka sarvnash bimal babu kaise rok pate! bangla ka ye mahan upanyas har hindi pathak ke liye pathniy hai. Iske anuvad ki visheshta ye hai ki mul ko avikal rakha gaya hai aur bangla upanyason ke hindi rupantar mein pray: jo arth ka anarth hota hai, usse ye sarvtha mukt hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products