Khamosh : Adalat Jari Hai

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Khamosh : Adalat Jari Hai

Khamosh : Adalat Jari Hai

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रसिद्ध मराठी नाटककार विजय तेन्दुलकर ने भारतीय रंगमंच को नाटकों के माध्यम से समकालीन समाज की उन उलझी हुई सच्चाइयों से अवगत कराया जो आधुनिक जीवन की उपज हैं और जिनको काले और सफ़ेद के नैतिक खानों में बाँटकर नहीं समझा जा सकता, बल्कि उनको समझने के लिए हमें आधुनिक व्यक्ति की उन तमाम सीमाओं और उत्कंठाओं को समझना होता है जिनसे वह बरबस बँधा होता है।
अपने अनूठे रचनात्मक साहस के साथ विजय तेन्दुलकर ने रंगमंच जैसी सार्वजनिक विधा के माध्यम से ऐसी अनेक विचलित करनेवाली सच्चाइयों की तरफ़ इशारा किया, जिनको छूने का साहस अक्सर रंगमंच में नहीं हुआ था।
‘ख़ामोश! अदालत जारी है’ उनका सबसे प्रसिद्ध नाटक है। असंख्य मंचनों, चर्चाओं और फ़िल्मांकनों के चलते अधिकांश लोग इस नाटक से परिचित हैं। नाटक के भीतर चलते इस नाटक की मुख्य पात्र लीला बेनारे की जीवन-कथा जैसे-जैसे खुलती है हमें हमारे आसपास के समाज, उसकी सफ़ेद सतह के नीचे सक्रिय स्याह मर्दाना यौन-कुंठाओं और स्त्री के दमन की कई तहें उजागर होती जाती हैं।
नाटक का सर्वाधिक आकर्षक पहलू इसका फ़ॉर्म माना गया है। एक अदालत के दृश्य में मानव-नियति की विडम्बनाओं के उद्घाटन को जिस प्रकार नाटककार ने साधा है, वह अद्भुत है। यही कारण है कि रंगकर्मी हों, नाट्यालोचक हों या दर्शक—हर किसी के लिए यह नाटक भारतीय रंगमंच के इतिहास में मील का एक पत्थर है। Prsiddh marathi natakkar vijay tendulkar ne bhartiy rangmanch ko natkon ke madhyam se samkalin samaj ki un uljhi hui sachchaiyon se avgat karaya jo aadhunik jivan ki upaj hain aur jinko kale aur safed ke naitik khanon mein bantakar nahin samjha ja sakta, balki unko samajhne ke liye hamein aadhunik vyakti ki un tamam simaon aur utkanthaon ko samajhna hota hai jinse vah barbas bandha hota hai. Apne anuthe rachnatmak sahas ke saath vijay tendulkar ne rangmanch jaisi sarvajnik vidha ke madhyam se aisi anek vichlit karnevali sachchaiyon ki taraf ishara kiya, jinko chhune ka sahas aksar rangmanch mein nahin hua tha.
‘khamosh! adalat jari hai’ unka sabse prsiddh natak hai. Asankhya manchnon, charchaon aur filmanknon ke chalte adhikansh log is natak se parichit hain. Natak ke bhitar chalte is natak ki mukhya patr lila benare ki jivan-katha jaise-jaise khulti hai hamein hamare aaspas ke samaj, uski safed satah ke niche sakriy syah mardana yaun-kunthaon aur stri ke daman ki kai tahen ujagar hoti jati hain.
Natak ka sarvadhik aakarshak pahlu iska faurm mana gaya hai. Ek adalat ke drishya mein manav-niyati ki vidambnaon ke udghatan ko jis prkar natakkar ne sadha hai, vah adbhut hai. Yahi karan hai ki rangkarmi hon, natyalochak hon ya darshak—har kisi ke liye ye natak bhartiy rangmanch ke itihas mein mil ka ek patthar hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Based on 1 review
100%
(1)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
A
Anitta Solaman

Excellent

Related Products

Recently Viewed Products