Look Inside
Khachchar Aur Admi
Khachchar Aur Admi
Khachchar Aur Admi
Khachchar Aur Admi

Khachchar Aur Admi

Regular price Rs. 70
Sale price Rs. 70 Regular price Rs. 75
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Khachchar Aur Admi

Khachchar Aur Admi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

यशपाल के लेखकीय सरोकारों का उत्स सामाजिक परिवर्तन की उनकी आकांक्षा, वैचारिक प्रतिबद्धता और परिष्कृत न्याय-बुद्धि है। यह आधारभूत प्रस्थान बिन्दु उनके उपन्यासों में जितनी स्पष्टता के साथ व्यक्त हुए हैं, उनकी कहानियों में वह ज़्यादा तरल रूप में ज़्यादा गहराई के साथ कथानक की शिल्प और शैली में न्यस्त होकर आते हैं। उनकी कहानियों का रचनाकाल चालीस वर्षों में फैला हुआ है। प्रेमचन्द के जीवनकाल में ही वे कथा-यात्रा आरम्भ कर चुके थे, यह अलग बात है कि उनकी कहानियों का प्रकाशन: किंचित् विलम्ब से आरम्भ हुआ। कहानीकार के रूप में उनकी विशिष्‍टता यह है कि उन्होंने प्रेमचन्द के प्रभाव से मुक्‍त और अछूते रहते हुए अपनी कहानी-कला का विकास किया। उनकी कहानियों में संस्कारगत जड़ता और नए विचारों का द्वन्द्व जितनी प्रखरता के साथ उभरकर आता है उसने भविष्य के कथाकारों के लिए एक नई लीक बनाई, जो आज तक चली आ रही है। वैचारिक निष्ठा, निषेधों और वर्जनाओं से मुक्‍त न्याय तथा तर्क की कसौटियों पर ख़रा जीवन—ये कुछ मूल्‍य हैं जिनके लिए हिन्दी कहानी यशपाल की ऋणी है।
‘खच्चर और आदमी’ कहानी-संग्रह में उनकी ये कहानियाँ शामिल हैं : ‘वैष्‍णवी’, ‘मक्खी या मकड़ी’, ‘उपदेश’, ‘कलाकार की आत्‍महत्‍या आदमी या पैसा?’ ‘जीव दया’, ‘चोरी और चोरी’, ‘अश्लील!’, ‘सत्य का द्वन्द्व तथा खच्चर और आदमी’। Yashpal ke lekhkiy sarokaron ka uts samajik parivartan ki unki aakanksha, vaicharik pratibaddhta aur parishkrit nyay-buddhi hai. Ye aadharbhut prasthan bindu unke upanyason mein jitni spashtta ke saath vyakt hue hain, unki kahaniyon mein vah zyada taral rup mein zyada gahrai ke saath kathanak ki shilp aur shaili mein nyast hokar aate hain. Unki kahaniyon ka rachnakal chalis varshon mein phaila hua hai. Premchand ke jivankal mein hi ve katha-yatra aarambh kar chuke the, ye alag baat hai ki unki kahaniyon ka prkashan: kinchit vilamb se aarambh hua. Kahanikar ke rup mein unki vishish‍tata ye hai ki unhonne premchand ke prbhav se muk‍ta aur achhute rahte hue apni kahani-kala ka vikas kiya. Unki kahaniyon mein sanskargat jadta aur ne vicharon ka dvandv jitni prakharta ke saath ubharkar aata hai usne bhavishya ke kathakaron ke liye ek nai lik banai, jo aaj tak chali aa rahi hai. Vaicharik nishtha, nishedhon aur varjnaon se muk‍ta nyay tatha tark ki kasautiyon par khara jivan—ye kuchh mul‍ya hain jinke liye hindi kahani yashpal ki rini hai. ‘khachchar aur aadmi’ kahani-sangrah mein unki ye kahaniyan shamil hain : ‘vaish‍navi’, ‘makkhi ya makdi’, ‘updesh’, ‘kalakar ki aat‍mahat‍ya aadmi ya paisa?’ ‘jiv daya’, ‘chori aur chori’, ‘ashlil!’, ‘satya ka dvandv tatha khachchar aur aadmi’.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products