Khabron Ki Jugali

Regular price Rs. 419
Sale price Rs. 419 Regular price Rs. 450
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Khabron Ki Jugali

Khabron Ki Jugali

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘ख़बरों की जुगाली’ विख्यात रचनाकार श्रीलाल शुक्ल के लेखन का नया आयाम है। यह न केवल व्यंग्य लेखन के नज़रिए से महत्त्वपूर्ण है, बल्कि समाज में चतुर्दिक व्याप्त विद्रूपों के उद्घाटन की दृष्टि से भी बेमिसाल है। साठ के दशक में श्रीलाल शुक्ल ने अपनी कालजयी कृति ‘राग दरबारी’ में जिस समाज के पतन को शब्दबद्ध किया था, वह आज गिरावट की अनेक अगली सीढ़ियाँ भी लुढ़क चुका है। उसकी इसी अवनति का आखेट करती हैं ‘ख़बरों की जुगाली’ की रचनाएँ। ये रचनाएँ वस्तुत: नागरिक के पक्ष से भारतीय लोकतंत्र के धब्बों, ज़ख़्मों, अन्तर्विरोधों और गड्ढों का आख्यान प्रस्तुत करती हैं। हमारे विकास के मॉडल, चुनाव, नौकरशाही, सांस्कृतिक क्षरण, विदेश नीति, आर्थिक नीति आदि अनेक ज़रूरी मुद्दों की व्यंग्य-विनोद से सम्पन्न भाषा में तल्‍ख़ और गम्भीर पड़ताल की है ‘ख़बरों की जुगाली’ की रचनाओं ने।
जुगाली को स्पष्ट करते हुए श्रीलाल शुक्ल बताते हैं—“यह जुगाली बहुत हद तक लेखक, पाठकों की ओर से, उनकी सम्भावित शंकाओं और प्रश्नों को देखते हुए कर रहा था। वे प्रश्न और शंकाएँ अभी भी हमारा पीछा कर रही हैं।” इस सन्‍दर्भ में ख़ास बात यह है कि उन प्रश्नों और शंकाओं के पनपने की वजह मौजूदा सामाजिक व्यवस्था का सतर्क, सचेत ढंग से पीछा कर रही है श्रीलाल शुक्ल की लेखनी। ‘khabron ki jugali’ vikhyat rachnakar shrilal shukl ke lekhan ka naya aayam hai. Ye na keval vyangya lekhan ke nazariye se mahattvpurn hai, balki samaj mein chaturdik vyapt vidrupon ke udghatan ki drishti se bhi bemisal hai. Saath ke dashak mein shrilal shukl ne apni kalajyi kriti ‘rag darbari’ mein jis samaj ke patan ko shabdbaddh kiya tha, vah aaj giravat ki anek agli sidhiyan bhi ludhak chuka hai. Uski isi avanati ka aakhet karti hain ‘khabron ki jugali’ ki rachnayen. Ye rachnayen vastut: nagrik ke paksh se bhartiy loktantr ke dhabbon, zakhmon, antarvirodhon aur gaddhon ka aakhyan prastut karti hain. Hamare vikas ke maudal, chunav, naukarshahi, sanskritik kshran, videsh niti, aarthik niti aadi anek zaruri muddon ki vyangya-vinod se sampann bhasha mein tal‍kha aur gambhir padtal ki hai ‘khabron ki jugali’ ki rachnaon ne. Jugali ko spasht karte hue shrilal shukl batate hain—“yah jugali bahut had tak lekhak, pathkon ki or se, unki sambhavit shankaon aur prashnon ko dekhte hue kar raha tha. Ve prashn aur shankayen abhi bhi hamara pichha kar rahi hain. ” is san‍darbh mein khas baat ye hai ki un prashnon aur shankaon ke panapne ki vajah maujuda samajik vyvastha ka satark, sachet dhang se pichha kar rahi hai shrilal shukl ki lekhni.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products