Look Inside
Kepler
Kepler

Kepler

Regular price Rs. 88
Sale price Rs. 88 Regular price Rs. 95
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kepler

Kepler

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

गुणाकर मुळे का विज्ञान-लेखन सिर्फ़ जानकारी नहीं देता, उनका प्रयास हमेशा यह रहा कि पाठक की चेतना का विकास वैज्ञानिक पद्धति पर हो, वे जीवन-जगत् को स्‍पष्‍ट, तार्किक नज़रिए से देखें और धार्मिक तथा कर्मकांडीय अन्‍धविश्‍वासों से मुक्‍त हों।
इसीलिए उन्‍होंने अनेक वैज्ञानिकों, गणितज्ञों, खगोलशास्त्रियों और उनके सिद्धान्‍तों के सम्‍बन्‍ध में अकसर सरल भाषा में लिखा है।
यह पुस्‍तक योहानेस केपलर के जीवन और सिद्धान्‍तों की जानकारी देती है।
केपलर संसार के पहले वैज्ञानिक हैं जिन्‍होंने स्‍पष्‍ट किया कि ग्रह वृत्‍तमार्ग में नहीं, बल्कि दीर्घवृत्‍तीय यानी अंडाकार कक्षाओं में सूर्य की परिक्रमा करते हैं। इतना ही नहीं, चन्द्रमा जैसे उपग्रह भी दीर्घवृत्‍ताकार कक्षाओं में अपने-अपने ग्रहों का चक्‍कर लगाते हैं। यह एक महान खोज थी। आगे जाकर केपलर ने ग्रहों की गतियों के बारे में तीन नियमों की खोज की, जिनके कारण उन्‍हें आधुनिक खगोल-भौतिकी का जनक माना जाता है। विज्ञान के इतिहास में केपलर के इन तीन नियमों का चिरस्‍थायी महत्‍त्‍व है।
ग्रहों की गतियों से सम्‍बन्धित केपलर के तीन नियम पहले से तैयार नहीं होते, तो महान न्‍यूटन का गुरुत्‍वाकर्षण का सिद्धान्त हमें इतनी जल्‍दी उपलब्‍ध नहीं हो पाता। न्‍यूटन ने भी स्‍वीकार किया था : “मैंने जो कुछ पाया है, वह दूसरे महान वैज्ञानिकों के कन्धों पर खड़े होकर ही।” इन ‘दूसरे महान वैज्ञानिकों’ में एक प्रमुख वैज्ञानिक थे—केपलर। Gunakar muळe ka vigyan-lekhan sirf jankari nahin deta, unka pryas hamesha ye raha ki pathak ki chetna ka vikas vaigyanik paddhati par ho, ve jivan-jagat ko ‍pash‍ta, tarkik nazariye se dekhen aur dharmik tatha karmkandiy an‍dhavish‍vason se muk‍ta hon. Isiliye un‍honne anek vaigyanikon, ganitagyon, khagolshastriyon aur unke siddhan‍ton ke sam‍ban‍dha mein aksar saral bhasha mein likha hai.
Ye pus‍tak yohanes keplar ke jivan aur siddhan‍ton ki jankari deti hai.
Keplar sansar ke pahle vaigyanik hain jin‍honne ‍pash‍ta kiya ki grah vrit‍tamarg mein nahin, balki dirghvrit‍tiy yani andakar kakshaon mein surya ki parikrma karte hain. Itna hi nahin, chandrma jaise upagrah bhi dirghvrit‍takar kakshaon mein apne-apne grhon ka chak‍kar lagate hain. Ye ek mahan khoj thi. Aage jakar keplar ne grhon ki gatiyon ke bare mein tin niymon ki khoj ki, jinke karan un‍hen aadhunik khagol-bhautiki ka janak mana jata hai. Vigyan ke itihas mein keplar ke in tin niymon ka chiras‍thayi mahat‍‍va hai.
Grhon ki gatiyon se sam‍bandhit keplar ke tin niyam pahle se taiyar nahin hote, to mahan ‍yutan ka gurut‍vakarshan ka siddhant hamein itni jal‍di uplab‍dha nahin ho pata. ‍yutan ne bhi ‍vikar kiya tha : “mainne jo kuchh paya hai, vah dusre mahan vaigyanikon ke kandhon par khade hokar hi. ” in ‘dusre mahan vaigyanikon’ mein ek prmukh vaigyanik the—keplar.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products