BackBack
-11%

Kavita Ke Prasthan

Rs. 500 Rs. 445

‘कविता के प्रस्थान’ को आधुनिक हिन्दी की कविता की सम्पूर्ण पड़ताल कहा जा सकता है। एक गम्भीर और सजग शोध जिसका उद्देश्य सिर्फ़ इतिहास-क्रम प्रस्तुत करना नहीं, बल्कि कविता के इतिहास के वैचारिक प्रस्थान-बिन्दुओं और पड़ावों को रेखांकित करना भी है। बल्कि वही ज़्यादा है। आधुनिक हिन्दी के आरम्भिक विकास... Read More

BlackBlack
Description

‘कविता के प्रस्थान’ को आधुनिक हिन्दी की कविता की सम्पूर्ण पड़ताल कहा जा सकता है। एक गम्भीर और सजग शोध जिसका उद्देश्य सिर्फ़ इतिहास-क्रम प्रस्तुत करना नहीं, बल्कि कविता के इतिहास के वैचारिक प्रस्थान-बिन्दुओं और पड़ावों को रेखांकित करना भी है। बल्कि वही ज़्यादा है।
आधुनिक हिन्दी के आरम्भिक विकास और उसमें कविता की उपस्थिति को विभिन्न रचनाओं, कृतियों और विचार-सरणियों के सोदाहरण विवेचन से लेकर उसके बाद 'कविता क्या है’ इस पूरी बहस का विस्तृत परिचय देते हुए पुस्तक वर्तमान कविता तक पहुँचती है। हिन्दी कविता के इस बृहत् वृत्तान्त में कविता और उसके साथ-साथ चल रही आलोचना, दोनों का सर्वांग परिचय हमें मिलता है। साथ ही उन तमाम विवादों और प्रयोगों का भी जो हिन्दी काव्येतिहास में कभी दिलचस्प और कभी निर्णायक मोड़ रहे हैं। 'प्रतिमानों की राजनीति’ और 'काव्यशास्त्रीय प्रस्थान-बिन्दु’ शीर्षक आलेख इस लिहाज़ से ख़ास तौर पर पठनीय हैं।
आलोचना को जो चीज़ सबसे ज़्यादा मदद पहुँचाती है, वह रचना ही है, लेखक की इस मूल धारणा के चलते यह आलोचना-पुस्तक अध्येताओं के लिए जितनी उपयोगी होगी, उससे ज़्यादा विचारोत्तेजक होगी। उनका मानना है कि आलोचना को कोई काव्यशास्त्र पहले से प्राप्त नहीं होता, अपना शास्त्र उसे ख़ुद गढ़ना पड़ता है और उसी तरह सदैव रचनारत रहना होता है जैसे अपने वृत्त में कविता ख़ुद रहती है।
व्यवस्थित अध्ययन और सन्दर्भ सामग्री के विपुल प्रयोग के कारण हिन्दी कविता के विद्यार्थियों के लिए यह पुस्तक विशेष रूप में उपादेय साबित होगी। ‘kavita ke prasthan’ ko aadhunik hindi ki kavita ki sampurn padtal kaha ja sakta hai. Ek gambhir aur sajag shodh jiska uddeshya sirf itihas-kram prastut karna nahin, balki kavita ke itihas ke vaicharik prasthan-binduon aur padavon ko rekhankit karna bhi hai. Balki vahi zyada hai. Aadhunik hindi ke aarambhik vikas aur usmen kavita ki upasthiti ko vibhinn rachnaon, kritiyon aur vichar-saraniyon ke sodahran vivechan se lekar uske baad kavita kya hai’ is puri bahas ka vistrit parichay dete hue pustak vartman kavita tak pahunchati hai. Hindi kavita ke is brihat vrittant mein kavita aur uske sath-sath chal rahi aalochna, donon ka sarvang parichay hamein milta hai. Saath hi un tamam vivadon aur pryogon ka bhi jo hindi kavyetihas mein kabhi dilchasp aur kabhi nirnayak mod rahe hain. Pratimanon ki rajniti’ aur kavyshastriy prasthan-bindu’ shirshak aalekh is lihaz se khas taur par pathniy hain.
Aalochna ko jo chiz sabse zyada madad pahunchati hai, vah rachna hi hai, lekhak ki is mul dharna ke chalte ye aalochna-pustak adhyetaon ke liye jitni upyogi hogi, usse zyada vicharottejak hogi. Unka manna hai ki aalochna ko koi kavyshastr pahle se prapt nahin hota, apna shastr use khud gadhna padta hai aur usi tarah sadaiv rachnarat rahna hota hai jaise apne vritt mein kavita khud rahti hai.
Vyvasthit adhyyan aur sandarbh samagri ke vipul pryog ke karan hindi kavita ke vidyarthiyon ke liye ye pustak vishesh rup mein upadey sabit hogi.