Kavita Ke Aar Par

Regular price Rs. 419
Sale price Rs. 419 Regular price Rs. 450
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Kavita Ke Aar Par

Kavita Ke Aar Par

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्दी में कृति की राह से गुज़रने की बहुत बात की जाती है, लेकिन सच्चाई यह है कि उसमें आलोचना और रचना का आपसी सम्बन्ध काफी कुछ टूट चुका है। जहाँ तक कविता की बात है, ज़्यादा शक्ति उसके सामाजिक और राजनीतिक सन्दर्भों को स्पष्ट करने में ख़र्च की जा रही है। जब कविता से अधिक उसके कारणों को महत्त्व दिया जाएगा, तो अनिवार्यतः उसके सम्बन्ध में जो निष्कर्ष निकाले जाएँगे, वे पूरी तरह से सही नहीं होंगे। कविता अन्ततः एक कलात्मक सृष्टि है, जिसमें उसके देश और कालगत सन्दर्भ स्वयं छिपे होते हैं। आलोचना का काम रचना से ही आरम्भ कर उन सन्दर्भों तक पहुँचना है, न कि उन सन्दर्भों को अलग से लाकर उनमें रचना को विलीन कर देना। प्रस्तुत पुस्तक में इस कठिन काम को अंजाम देने का भरसक प्रयास किया गया है।
निराला, शमशेर और मुक्तिबोध हिन्दी के ऐसे कवि हैं, जिनकी कविता का पाठ अत्यधिक जटिल है। हिन्दी काव्यालोचन उस पाठ से उलझने से बचता रहा है, जबकि संज्ञान और सौन्दर्य दोनों का मूल स्रोत वही है। डॉ. नंदकिशोर नवल निराला और मुक्तिबोध के विशेष अध्येता हैं और शमशेर में उनकी गहरी दिलचस्पी है। स्वभावतः उन्होंने इस पुस्तक के लेखों में उक्त कवियों की कुछ प्रसिद्ध कविताओं का पाठ-विश्लेषण करते हुए उनके सौन्दर्योन्मीलन की चेष्टा की है। उनका कहना है कि पाठ-विश्लेषण काव्यालोचन का प्रस्थानबिन्दु है। निश्चय ही उससे शुरू करके वे वहीं तक नहीं रुके हैं।
अज्ञेय, केदार और नागार्जुन अपेक्षाकृत सरल कवि हैं, लेकिन चूँकि कविता-पात्र एक जटिल वस्तु है, इसलिए प्रस्तुत पुस्तक में उनकी कुछ कविताओं से भी आत्मिक साक्षात्कार किया गया है। नमूने के रूप में रघुवीर सहाय की एक कविता की भी पाठ-केन्द्रित आलोचना दी गई है। इस तरह की पुस्तक हिन्दी काव्य-प्रेमियों के लिए एक ज़रूरी पुस्तक है, जो उनकी आस्वादन क्षमता को विकसित करेगी। Hindi mein kriti ki raah se guzarne ki bahut baat ki jati hai, lekin sachchai ye hai ki usmen aalochna aur rachna ka aapsi sambandh kaphi kuchh tut chuka hai. Jahan tak kavita ki baat hai, zyada shakti uske samajik aur rajnitik sandarbhon ko spasht karne mein kharch ki ja rahi hai. Jab kavita se adhik uske karnon ko mahattv diya jayega, to anivaryatः uske sambandh mein jo nishkarsh nikale jayenge, ve puri tarah se sahi nahin honge. Kavita antatः ek kalatmak srishti hai, jismen uske desh aur kalgat sandarbh svayan chhipe hote hain. Aalochna ka kaam rachna se hi aarambh kar un sandarbhon tak pahunchana hai, na ki un sandarbhon ko alag se lakar unmen rachna ko vilin kar dena. Prastut pustak mein is kathin kaam ko anjam dene ka bharsak pryas kiya gaya hai. Nirala, shamsher aur muktibodh hindi ke aise kavi hain, jinki kavita ka path atydhik jatil hai. Hindi kavyalochan us path se ulajhne se bachta raha hai, jabaki sangyan aur saundarya donon ka mul srot vahi hai. Dau. Nandakishor naval nirala aur muktibodh ke vishesh adhyeta hain aur shamsher mein unki gahri dilchaspi hai. Svbhavatः unhonne is pustak ke lekhon mein ukt kaviyon ki kuchh prsiddh kavitaon ka path-vishleshan karte hue unke saundaryonmilan ki cheshta ki hai. Unka kahna hai ki path-vishleshan kavyalochan ka prasthanbindu hai. Nishchay hi usse shuru karke ve vahin tak nahin ruke hain.
Agyey, kedar aur nagarjun apekshakrit saral kavi hain, lekin chunki kavita-patr ek jatil vastu hai, isaliye prastut pustak mein unki kuchh kavitaon se bhi aatmik sakshatkar kiya gaya hai. Namune ke rup mein raghuvir sahay ki ek kavita ki bhi path-kendrit aalochna di gai hai. Is tarah ki pustak hindi kavya-premiyon ke liye ek zaruri pustak hai, jo unki aasvadan kshamta ko viksit karegi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products