Look Inside
Kavita Ka Galpa
Kavita Ka Galpa
Kavita Ka Galpa
Kavita Ka Galpa
Kavita Ka Galpa
Kavita Ka Galpa

Kavita Ka Galpa

Regular price Rs. 553
Sale price Rs. 553 Regular price Rs. 595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kavita Ka Galpa

Kavita Ka Galpa

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

पिछले तीस बरसों की हिन्‍दी कविता की रचना, आलोचना, सम्‍पादन और आयोजन में अशोक वाजपेयी एक अग्रणी नाम रहे हैं। हिन्‍दी समाज में आज की कविता के लिए जगह बनाने की उनकी अथक कोशिश इतने स्तरों पर और इतनी निर्भीकता और आत्मविश्वास के साथ चलती रही है कि उसे समझे बिना आज की कविता, उसकी हालत और फलितार्थ को समझना असम्‍भव है।
अशोक वाजपेयी निरे आलोचक नहीं, अज्ञेय, मुक्तिबोध, विजयदेव नारायण साही, कुँवर नारायण, मलयज आदि की परम्‍परा में कवि-आलोचक हैं। उनमें तरल सहानुभूति और तादात्म्य की क्षमता है तो सख़्त बौद्धिकता और न्यायबुद्धि का साहस भी। आधुनिक आलोचना में अपनी अलग भाषा की स्थायी छाप छोड़नेवाले वे ऐसे आलोचक हैं जिन्होंने अज्ञेय, मुक्तिबोध और शमशेर से लेकर रघुवीर सहाय, धूमिल, श्रीकान्‍त वर्मा, कमलेश, विनोदकुमार शुक्ल आदि के लिए अलग-अलग तर्क और औचित्य खोजे परिभाषित किए हैं। कविता की उनकी अदम्य पक्षधरता निरी ज़‍िद या एक कवि की आत्मरति नहीं है—वे प्रखरता से, तर्क और विचारोत्तेजन से, ज़‍िम्मेदारी और वयस्कता से हमारे समय में कविता की जगह को सुरक्षित और रौशन बनाने की खरी चेष्टा करते हैं।
अज्ञेय की महिमा, तार सप्तक के अर्थ, रघुवीर सहाय के स्वदेश, शमशेर के शब्दों के बीच नीरवता आदि की पहचान जिस तरह से अशोक वाजपेयी करवाते हैं, शायद ही कोई और कराता हो। उनमें से हरेक को उसके अनूठेपन में पहचानना और फिर एक व्यापक सन्दर्भ में उसे लोकेट करने का काम वे अपनी पैनी और पुस्तक-पकी नज़र से करते हैं।
कविता और कवियों पर उनका यह नया निबन्‍ध-संग्रह ताज़गी और उल्लास-भरा दस्तावेज़ है और उसमें गम्‍भीर विचार और विश्लेषण के अलावा उनका हाल का, हिन्‍दी आलोचना के लिए सर्वथा अनूठा, कविता के इर्द-गिर्द ललित चिन्‍तन भी शामिल है। Pichhle tis barson ki hin‍di kavita ki rachna, aalochna, sam‍padan aur aayojan mein ashok vajpeyi ek agrni naam rahe hain. Hin‍di samaj mein aaj ki kavita ke liye jagah banane ki unki athak koshish itne stron par aur itni nirbhikta aur aatmvishvas ke saath chalti rahi hai ki use samjhe bina aaj ki kavita, uski halat aur phalitarth ko samajhna asam‍bhav hai. Ashok vajpeyi nire aalochak nahin, agyey, muktibodh, vijaydev narayan sahi, kunvar narayan, malyaj aadi ki param‍para mein kavi-alochak hain. Unmen taral sahanubhuti aur tadatmya ki kshamta hai to sakht bauddhikta aur nyaybuddhi ka sahas bhi. Aadhunik aalochna mein apni alag bhasha ki sthayi chhap chhodnevale ve aise aalochak hain jinhonne agyey, muktibodh aur shamsher se lekar raghuvir sahay, dhumil, shrikan‍ta varma, kamlesh, vinodakumar shukl aadi ke liye alag-alag tark aur auchitya khoje paribhashit kiye hain. Kavita ki unki adamya pakshadharta niri za‍id ya ek kavi ki aatmarati nahin hai—ve prakharta se, tark aur vicharottejan se, za‍immedari aur vayaskta se hamare samay mein kavita ki jagah ko surakshit aur raushan banane ki khari cheshta karte hain.
Agyey ki mahima, taar saptak ke arth, raghuvir sahay ke svdesh, shamsher ke shabdon ke bich niravta aadi ki pahchan jis tarah se ashok vajpeyi karvate hain, shayad hi koi aur karata ho. Unmen se harek ko uske anuthepan mein pahchanna aur phir ek vyapak sandarbh mein use loket karne ka kaam ve apni paini aur pustak-paki nazar se karte hain.
Kavita aur kaviyon par unka ye naya niban‍dha-sangrah tazgi aur ullas-bhara dastavez hai aur usmen gam‍bhir vichar aur vishleshan ke alava unka haal ka, hin‍di aalochna ke liye sarvtha anutha, kavita ke ird-gird lalit chin‍tan bhi shamil hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products