BackBack
-11%

Kavishree : Dinkar Granthmala

Rs. 250 Rs. 223

कविश्री' रामधारी सिंह ‘दिनकर’ की ओजस्वी कविताओं का संग्रह है। कविताओं में प्रखर राष्ट्रवाद, प्रकृति के प्रति उत्कट प्रेम एवं मानव-कल्याण-कामना की मंगल-भावना के दर्शन होते हैं। 'कविश्री' में संगृहीत हैं दिनकर जी की 'हिमालय के प्रति', 'प्रभाती', 'व्याल विजय' एवं 'नया मनुष्य' जैसी प्रसिद्ध प्रदीर्घ कविताएँ, जो हिन्दी काव्य-साहित्य... Read More

Description

कविश्री' रामधारी सिंह ‘दिनकर’ की ओजस्वी कविताओं का संग्रह है। कविताओं में प्रखर राष्ट्रवाद, प्रकृति के प्रति उत्कट प्रेम एवं मानव-कल्याण-कामना की मंगल-भावना के दर्शन होते हैं।
'कविश्री' में संगृहीत हैं दिनकर जी की 'हिमालय के प्रति', 'प्रभाती', 'व्याल विजय' एवं 'नया मनुष्य' जैसी प्रसिद्ध प्रदीर्घ कविताएँ, जो हिन्दी काव्य-साहित्य की अमूल्य निधि हैं।
दिनकर का काव्य-व्यक्तित्व जिस दौर में निर्मित हुआ, वह राजसत्ता और शोषण के विरुद्ध हर मोर्चे पर संघर्ष का दौर था। इसलिए 'कविश्री' में संकलित रचनाओं को पढ़ना भारतीय स्वाधीनता-संग्राम में साहित्य के योगदान से भी परिचित होना है।
अपने ऐतिहासिक महत्त्व के कारण पाठकों के लिए एक संग्रहणीय और अविस्मरणीय संग्रह। Kavishri ramdhari sinh ‘dinkar’ ki ojasvi kavitaon ka sangrah hai. Kavitaon mein prkhar rashtrvad, prkriti ke prati utkat prem evan manav-kalyan-kamna ki mangal-bhavna ke darshan hote hain. Kavishri mein sangrihit hain dinkar ji ki himalay ke prati, prbhati, vyal vijay evan naya manushya jaisi prsiddh prdirgh kavitayen, jo hindi kavya-sahitya ki amulya nidhi hain.
Dinkar ka kavya-vyaktitv jis daur mein nirmit hua, vah rajsatta aur shoshan ke viruddh har morche par sangharsh ka daur tha. Isaliye kavishri mein sanklit rachnaon ko padhna bhartiy svadhinta-sangram mein sahitya ke yogdan se bhi parichit hona hai.
Apne aitihasik mahattv ke karan pathkon ke liye ek sangrahniy aur avismarniy sangrah.