Look Inside
Kavi Ka Akelapan
Kavi Ka Akelapan
Kavi Ka Akelapan
Kavi Ka Akelapan
Kavi Ka Akelapan
Kavi Ka Akelapan

Kavi Ka Akelapan

Regular price Rs. 327
Sale price Rs. 327 Regular price Rs. 352
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kavi Ka Akelapan

Kavi Ka Akelapan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कवियों के गद्य में कोई न कोई विशेषता तो होती होगी जो हम उसे अक्सर आम गद्य से अलग करके देखने की कोशिश करते हैं। वह विशेषता क्या हो सकती है? क्या कवि का बादल लिखना हम पर छाया कर जाता है? क्या कवि के बारिश लिखने से हम भीगने लगते हैं? कवि का प्रेम या ख़ून के बारे में कुछ लिखना हमें बेचैन करने लगता है? मंगलेश डबराल का गद्य पढ़ते हुए कितनी ही बार हम संवेदना के कई ऐसे बारीक़ उतार-चढ़ावों से गुज़र सकते हैं। मगर यह कहना कि उनका गद्य दरअसल उनकी कविता का ही एक आयाम है, इस गद्य की विशेषता को पूरा अनावृत नहीं करता। इससे गुज़रते हुए सबसे पहले तो यही लगता है कि यह गद्य क़तई महत्त्वाकांक्षी नहीं है। यह सिर्फ़ भाषा के स्तर पर आपको मोहित नहीं करता, बल्कि कविताओं और एक कवि के दूसरे कई सरोकारों की समाजशास्त्रीय और राजनीतिक विवेचना की गहराई इसे असली उठान देती है। उसमें अनुभव की गहराई, विचार की प्रतिबद्धता और शिल्प की सुन्दरता एक साथ बुनी हुई है।
‘कवि का अकेलापन’ दो हिस्सों में बँटा हुआ है। पहले हिस्से में मंगलेश अपने कुछ प्रिय कवियों की रचनाओं, उनकी पंक्तियों को खोलते हुए उनके अर्थ-स्तरों और उस भावभूमि तक पहुँचने की कोशिश करते हैं, जहाँ से वे पंक्तियाँ अवतरित हुई होंगी और ऐसा करते हुए वह अलग-अलग स्थितियों, विषयों और विचारों के सन्दर्भ में उस कवि के और साथ ही स्वयं अपनी सोच और कल्पना को उघाड़ते हैं। यह हमें एक साथ दो-दो कवियों के भीतरी लोक में समाहित काव्यात्मक स्पन्दन और विमर्श के संसार की अद्भुत छवियाँ दिखाता है। दूसरे हिस्से में कवि की बेतरतीब डायरी है। यह डायरी एक बेचैन व्यक्ति, एक आम नागरिक, एक पुत्र, एक दोस्त, एक संगीत-प्रेमी और इन सबसे थोड़ा ज़्यादा एक कवि के रूप में मंगलेश डबराल को हमारे सामने खोलने का काम करती है और अन्ततः हम यह सोचकर विस्मित हुए बिना नहीं रह पाते कि एक कवि अपने अकेलेपन में किस तरह अपने चारों ओर फैले दृश्यों, बदलावों, अदृश्य दबावों, विस्मृतियों, तकलीफ़ों की नज़र न आनेवाली वजहों और न जाने कितने ही दूसरे अमूर्तों की शिनाख़्त कर उन्हें मूर्त कर सकता है। अगर इसी किताब में प्रयुक्त शीर्षकों की मदद से कहा जाए तो यह ‘असमय के बावजूद’, ‘प्रसिद्धि के उद्योग’ और ‘बर्बरता के विरुद्ध’ एक कवि का ‘लौटते हुए पूर्णतर’ होते जाना है। Kaviyon ke gadya mein koi na koi visheshta to hoti hogi jo hum use aksar aam gadya se alag karke dekhne ki koshish karte hain. Vah visheshta kya ho sakti hai? kya kavi ka badal likhna hum par chhaya kar jata hai? kya kavi ke barish likhne se hum bhigne lagte hain? kavi ka prem ya khun ke bare mein kuchh likhna hamein bechain karne lagta hai? manglesh dabral ka gadya padhte hue kitni hi baar hum sanvedna ke kai aise bariq utar-chadhavon se guzar sakte hain. Magar ye kahna ki unka gadya darasal unki kavita ka hi ek aayam hai, is gadya ki visheshta ko pura anavrit nahin karta. Isse guzarte hue sabse pahle to yahi lagta hai ki ye gadya qatii mahattvakankshi nahin hai. Ye sirf bhasha ke star par aapko mohit nahin karta, balki kavitaon aur ek kavi ke dusre kai sarokaron ki samajshastriy aur rajnitik vivechna ki gahrai ise asli uthan deti hai. Usmen anubhav ki gahrai, vichar ki pratibaddhta aur shilp ki sundarta ek saath buni hui hai. ‘kavi ka akelapan’ do hisson mein banta hua hai. Pahle hisse mein manglesh apne kuchh priy kaviyon ki rachnaon, unki panktiyon ko kholte hue unke arth-stron aur us bhavbhumi tak pahunchane ki koshish karte hain, jahan se ve panktiyan avatrit hui hongi aur aisa karte hue vah alag-alag sthitiyon, vishyon aur vicharon ke sandarbh mein us kavi ke aur saath hi svayan apni soch aur kalpna ko ughadte hain. Ye hamein ek saath do-do kaviyon ke bhitri lok mein samahit kavyatmak spandan aur vimarsh ke sansar ki adbhut chhaviyan dikhata hai. Dusre hisse mein kavi ki betartib dayri hai. Ye dayri ek bechain vyakti, ek aam nagrik, ek putr, ek dost, ek sangit-premi aur in sabse thoda zyada ek kavi ke rup mein manglesh dabral ko hamare samne kholne ka kaam karti hai aur antatः hum ye sochkar vismit hue bina nahin rah pate ki ek kavi apne akelepan mein kis tarah apne charon or phaile drishyon, badlavon, adrishya dabavon, vismritiyon, taklifon ki nazar na aanevali vajhon aur na jane kitne hi dusre amurton ki shinakht kar unhen murt kar sakta hai. Agar isi kitab mein pryukt shirshkon ki madad se kaha jaye to ye ‘asmay ke bavjud’, ‘prsiddhi ke udyog’ aur ‘barbarta ke viruddh’ ek kavi ka ‘lautte hue purntar’ hote jana hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products