BackBack
-11%

Kaun Des Ko Vasi : Venu Ki Diary

Rs. 895 Rs. 797

प्रवासी भारतीय होना भारतीय समाज की महत्त्वाकांक्षा भी है, सपना भी है, कैरियर भी है और सब कुछ मिल जाने के बाद नॉस्टेल्जिया का ड्रामा भी। लेकिन कभी-कभी वह अपने आप को, अपने परिवेश को, अपने देश और समाज को देखने की एक नई दृष्टि का मिल जाना भी होता... Read More

Description

प्रवासी भारतीय होना भारतीय समाज की महत्त्वाकांक्षा भी है, सपना भी है, कैरियर भी है और सब कुछ मिल जाने के बाद नॉस्टेल्जिया का ड्रामा भी। लेकिन कभी-कभी वह अपने आप को, अपने परिवेश को, अपने देश और समाज को देखने की एक नई दृष्टि का मिल जाना भी होता है। अपनी जन्मभूमि से दूर किसी परायी धरती पर खड़े होकर वे जब अपने आपको और अपने देश को देखते हैं तो वह देखना बिलकुल अलग होता है। भारतभूमि पर पैदा हुए किसी व्यक्ति के लिए यह घटना और भी ज़्यादा मानीख़ेज़ इसलिए हो जाती है कि हम अपनी सामाजिक परम्पराओं, रूढ़ियों और इतिहास की लम्बी गुंजलकों में घिरे और किसी मुल्क के वासी के मुक़ाबले क़तई अलग ढंग से ख़ुद को देखने के आदी होते हैं। उस देखने में आत्मालोचन बहुत कम होता है। वह धुँधलके में घूरते रहने जैसा कुछ होता है। विदेशी क्षितिज से वह धुँधलका बहुत झीना दीखता है और उसके पर बसा अपना देश ज़्यादा साफ़।
इस उपन्यास में अमेरिका-प्रवास में रह रहे वेणु और मेधा ख़ुद को और अपने पीछे छूट गई जन्मभूमि को ऐसे ही देखते हैं। उन्हें अपनी मिट्टी की अबोली कसक प्राय: चुभती रहती है—वे अपने परिवार जनों और उनकी स्मृतियों को सहेजे जब स्वदेश प्रत्यावृत्त होते हैं तो उनकी परिकर-परिधि में आए जन उनके रहन-सहन, आत्मविश्वास से प्रभावित होते हैं, किन्तु वेणु और मेधा के दु:ख, उदासी और अकेलापन नेपथ्य में ही रहते हैं। नई पीढ़ी की आकांक्षाओं में सिर्फ़ और सिर्फ़ बहुत सारा धनोपार्जन ही है ताकि एक बेहतर ज़िन्दगी जी सके, जबकि अमेरिका गए अनेक प्रवासी डॉलर के लिए भीतर ही भीतर कई संग्राम लड़ते हैं। कैरम की गोटियों को छिटका देनेवाली स्थितियाँ हैं, पर निर्मम चाहतें।
वरिष्ठ कथाकार सूर्यबाला का यह बृहत् उपन्यास एक विशाल फलक पर देश और देश के बाहर को उजागर करता है। इसका वितान जितना विस्तृत है उतना ही गझिन भी, मनुष्य-संवेदना और खोने-पाने की विकलताएँ जैसे यहाँ एक बड़े फ़्रेम में साकार हो उठी हैं। Prvasi bhartiy hona bhartiy samaj ki mahattvakanksha bhi hai, sapna bhi hai, kairiyar bhi hai aur sab kuchh mil jane ke baad nausteljiya ka drama bhi. Lekin kabhi-kabhi vah apne aap ko, apne parivesh ko, apne desh aur samaj ko dekhne ki ek nai drishti ka mil jana bhi hota hai. Apni janmbhumi se dur kisi parayi dharti par khade hokar ve jab apne aapko aur apne desh ko dekhte hain to vah dekhna bilkul alag hota hai. Bharatbhumi par paida hue kisi vyakti ke liye ye ghatna aur bhi zyada manikhez isaliye ho jati hai ki hum apni samajik parampraon, rudhiyon aur itihas ki lambi gunjalkon mein ghire aur kisi mulk ke vasi ke muqable qatii alag dhang se khud ko dekhne ke aadi hote hain. Us dekhne mein aatmalochan bahut kam hota hai. Vah dhundhalake mein ghurte rahne jaisa kuchh hota hai. Videshi kshitij se vah dhundhalaka bahut jhina dikhta hai aur uske par basa apna desh zyada saaf. Is upanyas mein amerika-prvas mein rah rahe venu aur medha khud ko aur apne pichhe chhut gai janmbhumi ko aise hi dekhte hain. Unhen apni mitti ki aboli kasak pray: chubhti rahti hai—ve apne parivar janon aur unki smritiyon ko saheje jab svdesh pratyavritt hote hain to unki parikar-paridhi mein aae jan unke rahan-sahan, aatmvishvas se prbhavit hote hain, kintu venu aur medha ke du:kha, udasi aur akelapan nepathya mein hi rahte hain. Nai pidhi ki aakankshaon mein sirf aur sirf bahut sara dhanoparjan hi hai taki ek behtar zindagi ji sake, jabaki amerika ge anek prvasi daular ke liye bhitar hi bhitar kai sangram ladte hain. Kairam ki gotiyon ko chhitka denevali sthitiyan hain, par nirmam chahten.
Varishth kathakar surybala ka ye brihat upanyas ek vishal phalak par desh aur desh ke bahar ko ujagar karta hai. Iska vitan jitna vistrit hai utna hi gajhin bhi, manushya-sanvedna aur khone-pane ki vikaltayen jaise yahan ek bade frem mein sakar ho uthi hain.