Look Inside
Katra Bi Arzooo
Katra Bi Arzooo

Katra Bi Arzooo

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Katra Bi Arzooo

Katra Bi Arzooo

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘कटरा बी आर्जू’ एक मामूली कटरे की कहानी होते हुए भी लगभग पूरे देश की कहनी है—अपने समय की कहानी है। यह उन 'गूँगी बस्तियों' के 'गूँगे लोगों' की कहानी है जहाँ 'उजाले' का कहीं नामो-निशान तक नहीं है। ऐसी बस्तियाँ शहर इलाहाबाद में ही नहीं, हर बड़े शहर में हैं—दिलों में छिपे अँधेरे कोनों की तरह। और हर अँधेरा जैसे अपने भीतर रोशनी का सपना पालता है, वैसे ही बिल्लो और देशराज भी एक सपना पालते हुए बड़े होते हैं—अपना एक घर होने का सपना। सपने को सच बनाने के लिए उन्हें जी-तोड़ संघर्ष करना पड़ता है और जब कामयाबी हासिल होने को होती है तो बुलडोजर उसे चकनाचूर कर जाता है—अँधेरा, अँधेरा ही रह जाता है।
इस उपन्यास की कथा इमरजेंसी से पहले की पृष्ठभूमि में शुरू होती है और ‘जनता’ के उदय पर आकर ख़त्म होती है। कथाकार का उद्देश्य सिर्फ़ कहानी कहना है, अपनी बातें आरोपित करना नहीं। वह तटस्थ भाव से उन यातनामय स्थितियों का चित्रण करता है, जिनमें दर्द का अहसास मिट जाता है—दर्द ही दवा बन जाता है। दर्द केवल बिल्लो और देशराज का नहीं; प्रेमा नारायण, शम्सू मियाँ, भोलू पहलवान, इतवारी बाबा, बाबूराम, आशाराम वग़ैरह के भी अपने-अपने दर्द हैं जो अपनी हद पर पहुँचकर अपनी अर्थवत्ता खो देते हैं। इमरजेंसी के दौरान ऊपरी तबके के स्वार्थी तत्त्वों ने कैसा अंधेर मचाया, स्थानीय नेताशाही और नौकरशाही कैसे खुलकर खेली तथा आम आदमी का यह विश्वास कैसे टूटा कि ‘इमरजेंसी से ग़रीब आदमी का भला भया है’—ये सारी वास्तविकताएँ पूरी प्रभावकता और सहजता के साथ इस उपन्यास में उभरकर आई हैं। वस्तुतः इस असरदार कृति के द्वारा राही मासूम रज़ा की तीखी और सधी हुई क़लम की श्रेष्ठता एक बार फिर प्रमाणित हुई है। ‘katra bi aarju’ ek mamuli katre ki kahani hote hue bhi lagbhag pure desh ki kahni hai—apne samay ki kahani hai. Ye un gungi bastiyon ke gunge logon ki kahani hai jahan ujale ka kahin namo-nishan tak nahin hai. Aisi bastiyan shahar ilahabad mein hi nahin, har bade shahar mein hain—dilon mein chhipe andhere konon ki tarah. Aur har andhera jaise apne bhitar roshni ka sapna palta hai, vaise hi billo aur deshraj bhi ek sapna palte hue bade hote hain—apna ek ghar hone ka sapna. Sapne ko sach banane ke liye unhen ji-tod sangharsh karna padta hai aur jab kamyabi hasil hone ko hoti hai to buldojar use chaknachur kar jata hai—andhera, andhera hi rah jata hai. Is upanyas ki katha imarjensi se pahle ki prishthbhumi mein shuru hoti hai aur ‘janta’ ke uday par aakar khatm hoti hai. Kathakar ka uddeshya sirf kahani kahna hai, apni baten aaropit karna nahin. Vah tatasth bhav se un yatnamay sthitiyon ka chitran karta hai, jinmen dard ka ahsas mit jata hai—dard hi dava ban jata hai. Dard keval billo aur deshraj ka nahin; prema narayan, shamsu miyan, bholu pahalvan, itvari baba, baburam, aasharam vagairah ke bhi apne-apne dard hain jo apni had par pahunchakar apni arthvatta kho dete hain. Imarjensi ke dauran uupri tabke ke svarthi tattvon ne kaisa andher machaya, sthaniy netashahi aur naukarshahi kaise khulkar kheli tatha aam aadmi ka ye vishvas kaise tuta ki ‘imarjensi se garib aadmi ka bhala bhaya hai’—ye sari vastaviktayen puri prbhavakta aur sahajta ke saath is upanyas mein ubharkar aai hain. Vastutः is asardar kriti ke dvara rahi masum raza ki tikhi aur sadhi hui qalam ki shreshthta ek baar phir prmanit hui hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products