BackBack
-11%

Kathgodam

Rs. 299 Rs. 266

कृष्ण कुमार सिर्फ़ पेशे से नहीं, पैशन से भी शिक्षाशास्त्री हैं और अपने गहरे मानव-बोध के चलते समाजशास्त्री। उनके लेखन में कहीं भी, कभी भी यह नहीं लगता कि यह उन्होंने किसी व्यावसायिक तक़ाज़े पर लिखा है। उनकी चिन्ताओं की वास्तविकता को उनके गद्य की संरचना स्वयं बयान कर देती... Read More

BlackBlack
Description

कृष्ण कुमार सिर्फ़ पेशे से नहीं, पैशन से भी शिक्षाशास्त्री हैं और अपने गहरे मानव-बोध के चलते समाजशास्त्री। उनके लेखन में कहीं भी, कभी भी यह नहीं लगता कि यह उन्होंने किसी व्यावसायिक तक़ाज़े पर लिखा है। उनकी चिन्ताओं की वास्तविकता को उनके गद्य की संरचना स्वयं बयान कर देती है।
इस पुस्तक में उनकी कहानियाँ हैं। कहने की आवश्यकता नहीं कि जिस तरह उनका वैचारिक लेखन अपने सरोकारों और चिन्ताओं को स्पष्ट ढंग से रेखांकित करते हुए हमें एक समर्थ गद्य भी उपलब्ध कराता है जिससे हिन्दी के लिक्खाड़ भी कुछ सीख सकते हैं, उसी तरह उनकी ये कहानियाँ कहानी के मौजूदा बाज़ार में एक अलग कोने से किया गया हस्तक्षेप हैं। ये एक समाजशास्त्री द्वारा लिखी हुई कहानियाँ हैं जिनमें वह कहानी विधा के प्रचलित पैमानों से ज़्यादा फ़िक्र इस बात की करता है कि उसके देखे-जाने सुख-दु:ख अपनी पूरी गहराई और फैलाव के साथ भाषा में अंकित हो सकें।
वे अपनी बात को पहुँचाना चाहते हैं, सिर्फ़ 'रच' देना भर उनका उद्देश्य नहीं है, और पहुँचाने की यह इच्छा भी उनकी भाषा की शिराओं में बिंधी मिलती है। वे भाषा को वह पूरा का पूरा दे देना चाहते हैं जो उनकी संवेदना ने अपने परिवेश से पाया, महसूस करने की अपनी क्षमता के चलते जो उन्होंने जाना, और जिसने उन्हें व्यथित किया। और इसके लिए वे भाषा को इतना समर्थ बनाने का प्रयास करते हैं जितनी वह अपने देश और काल की सीमाओं के भीतर हो सकती है। हर बड़ा लेखक यही करता है। वह अभिव्यक्ति के उपलब्ध और प्रचलित भाषिक उपकरणों में अपनी बात कहकर सन्तुष्ट नहीं होता। वह जान रहा होता है कि उसे अपने शब्दों को उस तरह प्रशिक्षित करके बाहर भेजना है कि वे अपनी पूरी बात कहकर ही रहें।
इन कहानियों के विषय विविध हैं। हिन्दी में और भी कहानियाँ इन्हीं विषयों पर या इन जैसे विषयों पर लिखी गई हैं, लिखी जाएँगी, लेकिन जिस तरह कृष्ण कुमार उन्हें लिखते हैं, वह अपनी एक अलग श्रेणी बनाता है। Krishn kumar sirf peshe se nahin, paishan se bhi shikshashastri hain aur apne gahre manav-bodh ke chalte samajshastri. Unke lekhan mein kahin bhi, kabhi bhi ye nahin lagta ki ye unhonne kisi vyavsayik taqaze par likha hai. Unki chintaon ki vastavikta ko unke gadya ki sanrachna svayan bayan kar deti hai. Is pustak mein unki kahaniyan hain. Kahne ki aavashyakta nahin ki jis tarah unka vaicharik lekhan apne sarokaron aur chintaon ko spasht dhang se rekhankit karte hue hamein ek samarth gadya bhi uplabdh karata hai jisse hindi ke likkhad bhi kuchh sikh sakte hain, usi tarah unki ye kahaniyan kahani ke maujuda bazar mein ek alag kone se kiya gaya hastakshep hain. Ye ek samajshastri dvara likhi hui kahaniyan hain jinmen vah kahani vidha ke prachlit paimanon se zyada fikr is baat ki karta hai ki uske dekhe-jane sukh-du:kha apni puri gahrai aur phailav ke saath bhasha mein ankit ho saken.
Ve apni baat ko pahunchana chahte hain, sirf rach dena bhar unka uddeshya nahin hai, aur pahunchane ki ye ichchha bhi unki bhasha ki shiraon mein bindhi milti hai. Ve bhasha ko vah pura ka pura de dena chahte hain jo unki sanvedna ne apne parivesh se paya, mahsus karne ki apni kshamta ke chalte jo unhonne jana, aur jisne unhen vythit kiya. Aur iske liye ve bhasha ko itna samarth banane ka pryas karte hain jitni vah apne desh aur kaal ki simaon ke bhitar ho sakti hai. Har bada lekhak yahi karta hai. Vah abhivyakti ke uplabdh aur prachlit bhashik upakarnon mein apni baat kahkar santusht nahin hota. Vah jaan raha hota hai ki use apne shabdon ko us tarah prshikshit karke bahar bhejna hai ki ve apni puri baat kahkar hi rahen.
In kahaniyon ke vishay vividh hain. Hindi mein aur bhi kahaniyan inhin vishyon par ya in jaise vishyon par likhi gai hain, likhi jayengi, lekin jis tarah krishn kumar unhen likhte hain, vah apni ek alag shreni banata hai.