BackBack
-11%

Kathghare Mein Loktantra

Rs. 250 Rs. 223

अपने जनवादी सरोकारों और ठोस तथ्यपरक तार्किक गद्य के बल पर अरुन्धति रॉय ने आज एक प्रखर चिन्तक और सक्रिय सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में अपना ख़ास मुक़ाम हासिल कर लिया है। उनके सरोकारों का अन्दाज़ा उनके चर्चित उपन्यास, ‘मामूली चीज़ों का देवता’ ही से होने लगा था, लेकिन इसे... Read More

BlackBlack
Description

अपने जनवादी सरोकारों और ठोस तथ्यपरक तार्किक गद्य के बल पर अरुन्धति रॉय ने आज एक प्रखर चिन्तक और सक्रिय सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में अपना ख़ास मुक़ाम हासिल कर लिया है। उनके सरोकारों का अन्दाज़ा उनके चर्चित उपन्यास, ‘मामूली चीज़ों का देवता’ ही से होने लगा था, लेकिन इसे उनकी सामाजिक प्रतिबद्धता की निशानी ही माना जाएगा कि अपने विचारों और सरोकारों को और व्यापक रूप से अभिव्यक्त करने के लिए, अरुन्धति रॉय ने अपने पाठकों की उम्मीदों को झुठलाते हुए, कथा की विधा का नहीं, बल्कि वैचारिक गद्य का माध्यम चुना और चूँकि वे स्वानुभूत सत्य पर विश्वास करती हैं, उन्होंने न सिर्फ़ नर्मदा आन्दोलन के बारे में अत्यन्त विचारोत्तेजक लेख प्रकाशित किया, बल्कि उस आन्दोलन में सक्रिय तौर पर शिरकत भी की। यही सिलसिला आगे परमाणु प्रसंग, अमरीका की एकाधिपत्यवादी नीतियों और ऐसे ही दूसरे ज्वलन्त विषयों पर लिखे गए लेखों की शक्ल में सामने आया।
‘कठघरे में लोकतंत्र’ इसी सिलसिले की अगली कड़ी है। इस पुस्तक में संकलित लेखों में अरुन्धति रॉय ने आम जनता पर राज्य-तंत्र के दमन और उत्पीड़न का जायज़ा लिया है, चाहे वह हिन्दुस्तान में हो या तुर्की में या फिर अमरीका में। जैसा कि इस किताब के शीर्षक से साफ़ है, ये सारे लेख ऐसी तमाम कार्रवाइयों पर सवाल उठाते हैं जिनके चलते लोकतंत्र–यानी जनता द्वारा जनता के लिए जनता का शासन–मुट्ठी-भर सत्ताधारियों का बँधुआ बन जाता है।
अपनी बेबाक मगर तार्किक शैली में अरुन्धति रॉय ने तीखे और ज़रूरी सवाल उठाए हैं, जो नए विचारों ही को नहीं, नई सक्रियता को भी प्रेरित करेंगे। और यह सच्चे लोकतंत्र के प्रति अरुन्धति की अडिग निष्ठा का सबूत हैं।
–नीलाभ Apne janvadi sarokaron aur thos tathyaprak tarkik gadya ke bal par arundhati rauy ne aaj ek prkhar chintak aur sakriy samajik karykarta ke rup mein apna khas muqam hasil kar liya hai. Unke sarokaron ka andaza unke charchit upanyas, ‘mamuli chizon ka devta’ hi se hone laga tha, lekin ise unki samajik pratibaddhta ki nishani hi mana jayega ki apne vicharon aur sarokaron ko aur vyapak rup se abhivyakt karne ke liye, arundhati rauy ne apne pathkon ki ummidon ko jhuthlate hue, katha ki vidha ka nahin, balki vaicharik gadya ka madhyam chuna aur chunki ve svanubhut satya par vishvas karti hain, unhonne na sirf narmda aandolan ke bare mein atyant vicharottejak lekh prkashit kiya, balki us aandolan mein sakriy taur par shirkat bhi ki. Yahi silasila aage parmanu prsang, amrika ki ekadhipatyvadi nitiyon aur aise hi dusre jvlant vishyon par likhe ge lekhon ki shakl mein samne aaya. ‘kathaghre mein loktantr’ isi silasile ki agli kadi hai. Is pustak mein sanklit lekhon mein arundhati rauy ne aam janta par rajya-tantr ke daman aur utpidan ka jayza liya hai, chahe vah hindustan mein ho ya turki mein ya phir amrika mein. Jaisa ki is kitab ke shirshak se saaf hai, ye sare lekh aisi tamam karrvaiyon par saval uthate hain jinke chalte loktantr–yani janta dvara janta ke liye janta ka shasan–mutthi-bhar sattadhariyon ka bandhua ban jata hai.
Apni bebak magar tarkik shaili mein arundhati rauy ne tikhe aur zaruri saval uthaye hain, jo ne vicharon hi ko nahin, nai sakriyta ko bhi prerit karenge. Aur ye sachche loktantr ke prati arundhati ki adig nishtha ka sabut hain.
–nilabh