Look Inside
Katha Shakuntala Ki
Katha Shakuntala Ki
Katha Shakuntala Ki
Katha Shakuntala Ki
Katha Shakuntala Ki
Katha Shakuntala Ki

Katha Shakuntala Ki

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Katha Shakuntala Ki

Katha Shakuntala Ki

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

शकुंतला-दुष्‍षंत की कथा की इस नाट्य-प्रस्तुति को जो चीज़ विशिष्ट बनाती है, वह है इसका काल-बोध और तत्कालीन परिवेश का तथ्यपरक निरूपण। ‘महाभारत’ में किंचित् परिष्कृत रूप में सबसे पहले आनेवाली यह कथा वास्तव में वैदिक काल की है। इसके पात्र वेदों के समय से सम्‍बन्‍ध रखते हैं।
दुष्यंत के पुत्र भरत का ज़ि‍क्र भी वेदों में मिलता है। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए ‘महाभारत’ में यह कथा जिस रूप में आई, उसके बजाय यह नाटक इस कथा के उस रूप को आधार बनाता है जो वैदिक काल में रहा होगा। ‘महाभारत’ में, और उसके बाद हम जिस भी रूप में इस कथा को देखते हैं, उसकी जड़ें सामन्‍ती मूल्य-संरचना में हैं। वैदिक संस्करण निश्चय ही कुछ भिन्न रहा होगा और उसका परिप्रेक्ष्य आदिम मूल्यबोध से रहा होगा।
इस नाटक में कथा के उसी रूप को पकड़ने का प्रयास किया गया है। इसीलिए यहाँ ‘दुष्यंत’ को ‘दुष्षंत’ कहा गया है जो ‘महाभारत’ तथा वैदिक साहित्य में आता है। यह प्रचलित कथा मूलत: मातृसत्तात्मक समाज से ताल्लुक़ रखती है जहाँ लड़कियों को अपना जीवन साथी चुनने की पूरी छूट है, जैसाकि शकुंतला भी करती है। नाटक में भूख और अकाल की भी चर्चा है जिन्हें वेदों के ही कुछ प्रसंगों के आधार पर पुन:सृजित किया गया है।
भाषा, संवाद-रचना और प्रसंगानुकूल दृश्य-रचना के चलते यह नाटक शकुंतला की जानी-पहचानी कथा को हमारे सामने नए और भावप्रवण रूप में प्रस्तुत करता है; जो मंच के लिए जितना अनुकूल है, साधारण पाठ के लिए भी उतना ही रुचिकर है। Shakuntla-dush‍shant ki katha ki is natya-prastuti ko jo chiz vishisht banati hai, vah hai iska kal-bodh aur tatkalin parivesh ka tathyaprak nirupan. ‘mahabharat’ mein kinchit parishkrit rup mein sabse pahle aanevali ye katha vastav mein vaidik kaal ki hai. Iske patr vedon ke samay se sam‍ban‍dha rakhte hain. Dushyant ke putr bharat ka zi‍kr bhi vedon mein milta hai. Is tathya ko dhyan mein rakhte hue ‘mahabharat’ mein ye katha jis rup mein aai, uske bajay ye natak is katha ke us rup ko aadhar banata hai jo vaidik kaal mein raha hoga. ‘mahabharat’ mein, aur uske baad hum jis bhi rup mein is katha ko dekhte hain, uski jaden saman‍ti mulya-sanrachna mein hain. Vaidik sanskran nishchay hi kuchh bhinn raha hoga aur uska pariprekshya aadim mulybodh se raha hoga.
Is natak mein katha ke usi rup ko pakadne ka pryas kiya gaya hai. Isiliye yahan ‘dushyant’ ko ‘dushshant’ kaha gaya hai jo ‘mahabharat’ tatha vaidik sahitya mein aata hai. Ye prachlit katha mulat: matrisattatmak samaj se talluq rakhti hai jahan ladakiyon ko apna jivan sathi chunne ki puri chhut hai, jaisaki shakuntla bhi karti hai. Natak mein bhukh aur akal ki bhi charcha hai jinhen vedon ke hi kuchh prsangon ke aadhar par pun:srijit kiya gaya hai.
Bhasha, sanvad-rachna aur prsanganukul drishya-rachna ke chalte ye natak shakuntla ki jani-pahchani katha ko hamare samne ne aur bhavaprvan rup mein prastut karta hai; jo manch ke liye jitna anukul hai, sadharan path ke liye bhi utna hi ruchikar hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products