BackBack
-11%

Katha Satisar

Rs. 950 Rs. 846

शैव, बौद्ध और इस्लाम की साँझी विरासतों से रची कश्मीर वादी में पहले भी कई कठिन दौर आ चुके हैं। कभी औरंगजेब के समय, तो कभी अफ़ग़ान-काल में। लेकिन वे दौर आकर गुज़र गए। कभी धर्म की रक्षा के लिए गुरु तेगबहादुर मसीहा बनकर आए, कभी कोई और। तभी ललद्यद... Read More

BlackBlack
Description

शैव, बौद्ध और इस्लाम की साँझी विरासतों से रची कश्मीर वादी में पहले भी कई कठिन दौर आ चुके हैं। कभी औरंगजेब के समय, तो कभी अफ़ग़ान-काल में। लेकिन वे दौर आकर गुज़र गए। कभी धर्म की रक्षा के लिए गुरु तेगबहादुर मसीहा बनकर आए, कभी कोई और। तभी ललद्यद और नुन्दऋषि की धरती पर लोग भिन्न धर्मों के बावजूद, आपसी सौहार्द और समन्वय की लोक-संस्कृति में रचे-बसे जीते रहे। आज वही आतंक, हत्या और निष्कासन का कठिन सिकन्दरी दौर फिर आ गया है, तब सिकन्‍दर के आतंक से वादी में पंडितों के कुल ग्यारह घर बचे रह गए थे। गो कि नई शक्ल में नए कारणों के साथ, पर व्यथा-कथा वही है—मानवीय यंत्रणा और त्रास की चिरन्तन दु:ख-गाथा।
लोकतंत्र के इस गरिमामय समय में, स्वर्ग को नरक बनाने के लिए कौन ज़‍िम्मेदार हैं? छोटे-बड़े नेताओं, शासकों, बिचौलियों की कौन-सी महत्त्वाकांक्षाओं, कैसी भूलों, असावधानियों और ढुलमुल नीतियों का परिणाम है—आज का रक्त-रँगा कश्मीर? पाकिस्तान तो आतंकवाद के लिए ज़‍िम्मेदार है ही, पर हमारे नेतागण समय रहते चेत क्यों न गए? ऐसा क्यों हुआ कि जो औसत कश्मीरी, ग़ुस्से में, ज्‍़यादा-से-ज्‍़यादा, एक-दूसरे पर काँगड़ी उछाल देता था, वही कलिशनिकोव और एके सैंतालीसों से अपने ही हमवतनों के ख़ून से हाथ रँगने लगा?
‘ऐलान गली ज़‍िन्दा है’ तथा ‘यहाँ वितस्ता बहती है’ के बाद कश्मीर की पृष्ठभूमि पर लिखा गया चर्चित लेखिका चन्द्रकान्ता का बृहद् उपन्यास है—‘कथा सतीसर’। लेखिका ने अपने इस उपन्यास में पात्रों के माध्यम से मानवीय अधिकार और अस्मिता से जुड़े प्रश्नों को उठाया है।
इस पुस्तक में सन् 1931 से लेकर 2000 के शुरुआती समय के बीच बनते-बिगड़ते कश्मीर की कथा को संवेदना का ऐसा पुट दिया गया है कि सारे पात्र सजीव हो उठते हैं । सामाजिक-राजनीतिक परिदृश्य में घटे हादसों से जन-जीवन के आपसी रिश्तों पर पड़े प्रभावों का संवेदनात्मक परीक्षण ही नहीं है यह पुस्तक, वर्तमान के जवाबदेह तथ्यों को साहित्य में दर्ज करने से एक ऐतिहासिक दस्तावेज़ भी बन गई है। Shaiv, bauddh aur islam ki sanjhi viraston se rachi kashmir vadi mein pahle bhi kai kathin daur aa chuke hain. Kabhi aurangjeb ke samay, to kabhi afgan-kal mein. Lekin ve daur aakar guzar ge. Kabhi dharm ki raksha ke liye guru tegabhadur masiha bankar aae, kabhi koi aur. Tabhi laladyad aur nundrishi ki dharti par log bhinn dharmon ke bavjud, aapsi sauhard aur samanvay ki lok-sanskriti mein rache-base jite rahe. Aaj vahi aatank, hatya aur nishkasan ka kathin sikandri daur phir aa gaya hai, tab sikan‍dar ke aatank se vadi mein panditon ke kul gyarah ghar bache rah ge the. Go ki nai shakl mein ne karnon ke saath, par vytha-katha vahi hai—manviy yantrna aur tras ki chirantan du:kha-gatha. Loktantr ke is garimamay samay mein, svarg ko narak banane ke liye kaun za‍immedar hain? chhote-bade netaon, shaskon, bichauliyon ki kaun-si mahattvakankshaon, kaisi bhulon, asavdhaniyon aur dhulmul nitiyon ka parinam hai—aj ka rakt-ranga kashmir? pakistan to aatankvad ke liye za‍immedar hai hi, par hamare netagan samay rahte chet kyon na ge? aisa kyon hua ki jo ausat kashmiri, gusse mein, ‍yada-se-‍yada, ek-dusre par kangadi uchhal deta tha, vahi kalishanikov aur eke saintalison se apne hi hamavatnon ke khun se hath rangane laga?
‘ailan gali za‍inda hai’ tatha ‘yahan vitasta bahti hai’ ke baad kashmir ki prishthbhumi par likha gaya charchit lekhika chandrkanta ka brihad upanyas hai—‘katha satisar’. Lekhika ne apne is upanyas mein patron ke madhyam se manviy adhikar aur asmita se jude prashnon ko uthaya hai.
Is pustak mein san 1931 se lekar 2000 ke shuruati samay ke bich bante-bigadte kashmir ki katha ko sanvedna ka aisa put diya gaya hai ki sare patr sajiv ho uthte hain. Samajik-rajnitik paridrishya mein ghate hadson se jan-jivan ke aapsi rishton par pade prbhavon ka sanvednatmak parikshan hi nahin hai ye pustak, vartman ke javabdeh tathyon ko sahitya mein darj karne se ek aitihasik dastavez bhi ban gai hai.