Katha Jagat Ki Baghi Muslim Auratein

Regular price Rs. 558
Sale price Rs. 558 Regular price Rs. 600
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Katha Jagat Ki Baghi Muslim Auratein

Katha Jagat Ki Baghi Muslim Auratein

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘मुसलमान औरत’ नाम आते ही घर की चारदीवारी में बन्द या क़ैद, पर्दे में रहनेवाली एक ‘ख़ातून’ का चेहरा उभरता है। अब से कुछ साल पहले तक मुसलमान औरतों का मिला-जुला यही चेहरा ज़ेहन में महफ़ूज़ था। घर में मोटे-मोटे पर्दों के पीछे जीवन काट देनेवाली या घर से बाहर ख़तरनाक ‘बुर्कों’ में ऊपर से लेकर नीचे तक ख़ुद को छुपाए हुए।
समय के साथ काले-काले बुर्कों के रंग भी बदल गए, लेकिन कितनी बदलीं मुस्लिम औरत या बिलकुल ही नहीं बदलीं! क़ायदे से देखें, तो अब भी छोटे-छोटे शहरों की औरतें बुर्का-संस्कृति में एक न ख़त्म होनेवाली घुटन का शिकार हैं, लेकिन घुटन से बग़ावत भी जन्म लेती है और मुसलमान औरतों के बग़ावत की लम्बी दास्तान रही है। ऐसा भी देखा गया है कि ‘मज़हबी फ़रीज़ों’ से जकड़ी, सौमो-सलात की पाबन्द औरत ने यकबारगी ही बग़ावत या जेहाद के बाज़ू फैलाए और खुली आज़ाद फ़िजा में समुद्री पक्षी की तरह उड़ती चली गई।
लेखन के शुरुआती सफ़र में ही इन मुस्लिम महिलाओं ने जैसे मर्दों की वर्षों पुरानी हुक्मरानी के तौक़ को अपने गले से उतार फेंका था। ये महज़ इत्तेफ़ाक़ नहीं है कि मुस्लिम महिलाओं ने जब क़लम सॅंभाली तो अपनी क़लम से तलवार का काम लिया। इस तलवार की ज़द पर पुरुषों का, अब तक का समाज था। वर्षों की ग़ुलामी थी। भेदभाव और कुंठा से जन्मा, भयानक पीड़ा देनेवाला एहसास था। संग्रह में शामिल कहानियों में इस बात का ख़ास ख़याल रखा गया है कि कहानी में नर्म, गर्म बग़ावत के संकेत ज़रूर मिलते हों। संग्रह की कुछ कहानियाँ तो पूरी-पूरी बगावत का ‘अलम’ (झंडा) लिए चलती नज़र आती हैं, लेकिन कुछ कहानियाँ ऐसी भी हैं, जहाँ बस दूर से इस एहसास को छुआ भर गया है।
निःसन्देह ये कहानियाँ औरतों की अपने अस्तित्व की लड़ाई की दास्ताँ बयान करती हैं जो तरक़्क़पसन्द पाठकों को बेहद प्रभावित करेंगी। ‘musalman aurat’ naam aate hi ghar ki chardivari mein band ya qaid, parde mein rahnevali ek ‘khatun’ ka chehra ubharta hai. Ab se kuchh saal pahle tak musalman aurton ka mila-jula yahi chehra zehan mein mahfuz tha. Ghar mein mote-mote pardon ke pichhe jivan kaat denevali ya ghar se bahar khatarnak ‘burkon’ mein uupar se lekar niche tak khud ko chhupaye hue. Samay ke saath kale-kale burkon ke rang bhi badal ge, lekin kitni badlin muslim aurat ya bilkul hi nahin badlin! qayde se dekhen, to ab bhi chhote-chhote shahron ki aurten burka-sanskriti mein ek na khatm honevali ghutan ka shikar hain, lekin ghutan se bagavat bhi janm leti hai aur musalman aurton ke bagavat ki lambi dastan rahi hai. Aisa bhi dekha gaya hai ki ‘mazahbi farizon’ se jakdi, saumo-salat ki paband aurat ne yakbargi hi bagavat ya jehad ke bazu phailaye aur khuli aazad fija mein samudri pakshi ki tarah udti chali gai.
Lekhan ke shuruati safar mein hi in muslim mahilaon ne jaise mardon ki varshon purani hukmrani ke tauq ko apne gale se utar phenka tha. Ye mahaz ittefaq nahin hai ki muslim mahilaon ne jab qalam sembhali to apni qalam se talvar ka kaam liya. Is talvar ki zad par purushon ka, ab tak ka samaj tha. Varshon ki gulami thi. Bhedbhav aur kuntha se janma, bhayanak pida denevala ehsas tha. Sangrah mein shamil kahaniyon mein is baat ka khas khayal rakha gaya hai ki kahani mein narm, garm bagavat ke sanket zarur milte hon. Sangrah ki kuchh kahaniyan to puri-puri bagavat ka ‘alam’ (jhanda) liye chalti nazar aati hain, lekin kuchh kahaniyan aisi bhi hain, jahan bas dur se is ehsas ko chhua bhar gaya hai.
Niःsandeh ye kahaniyan aurton ki apne astitv ki ladai ki dastan bayan karti hain jo tarakqapsand pathkon ko behad prbhavit karengi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products