BackBack
-11%

Kasauti Par Media

Rs. 450 Rs. 401

पूँजी के भूमंडलीकरण और आर्थिक उदारवाद के आगमन के साथ शुरू हुए विस्मयकारी विस्तार ने मीडिया को यदि शक्तिशाली बनाया है तो उसका चरित्र भी बदल डाला है। वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार के ‘हंस’ में लिखे स्तम्भ लेखों का संकलन है—यह पुस्तक। जिसके माध्यम बताया है कि मीडिया में आए... Read More

Description

पूँजी के भूमंडलीकरण और आर्थिक उदारवाद के आगमन के साथ शुरू हुए विस्मयकारी विस्तार ने मीडिया को यदि शक्तिशाली बनाया है तो उसका चरित्र भी बदल डाला है। वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार के ‘हंस’ में लिखे स्तम्भ लेखों का संकलन है—यह पुस्तक। जिसके माध्यम बताया है कि मीडिया में आए इस परिवर्तन की वजहें क्या हैं, कौन से दबाव और प्रभाव इसके पीछे काम कर रहे हैं और इनके उद्देश्य क्या हैं? यह एक बहुत ही ज़रूरी काम था जो हिन्दी में बहुत देर से शुरू हुआ और बहुत कम हुआ। ‘हंस’ और मुकेश कुमार को इसका श्रेय जाता है कि उन्होंने इस ज़िम्मेदारी को पूरी गम्भीरता के साथ निभाया।
मुकेश कुमार पिछले लगभग चालीस साल से ज़्यादा समय से पत्रकारिता से जुड़े हुए हैं। ‘हंस’ में प्रकाशित उनके लेखों से ज़ाहिर हो जाता है कि इस दौरान पत्रकारिता के सामने आनेवाली चुनौतियों को वे देखते-समझते रहे हैं। साथ ही उन्होंने इन समस्याओं के भीतर झाँककर उनके कारणों को भी जानने की कोशिश की है। मीडिया के सामने खड़ी चुनौतियों का सामना करने के रास्तों पर भी उनकी नज़र रही है। उन्होंने मीडिया उद्योग के हर आयाम को क़रीब से देखा-समझा है, इसलिए वे मीडिया में आए परिवर्तनों को ज़्यादा विश्वसनीय तरीक़े से लिख सके। ऐसा करते हुए उन्होंने अतिरिक्त साहस का परिचय भी दिया, क्योंकि अपने ही पेशे की ख़ामियों को बेबाकी से लिखना सबके लिए आसान नहीं।
मुझे लगता है कि मुकेश कुमार ने इस पूरे दौर में पैदा हुई मीडिया की हर आहट, उसकी हर करवट और हर दिन बदलते उसके पैतरों को अपनी नज़रों से ओझल नहीं होने दिया है। फिर चाहे वह स्टिंग ऑपरेशन की सच्चाई हो, साम्राज्यवाद और बाज़ारवाद का दबदबा हो, फ़िल्मी चकाचौंध हो या क्रिकेट का कारवाँ हो, दंगा-फसाद हो या चमत्कारियों का संसार हो। हर चीज़ को उन्होंने ईमानदारी से परखा है और अपनी साफ़ राय दी है। मीडिया के बदलते रंग-ढंग की परीक्षा करते हुए उनका नज़रिया बहुत ही स्पष्ट रहता है और वे यह काम पूरी जनपक्षधरता के साथ करते हैं। टीआरपी की होड़ से पैदा हुई दुष्प्रवृत्तियों के ख़िलाफ़ सख़्त रुख़ अपनाने से वे कभी पीछे नहीं हटे। उनकी क़लम ने मीडिया के उन्मादी स्वरूप की जमकर चीर-फाड़ की और उसके जातीय तथा साम्प्रदायिक चरित्र को बेनकाब करने में अगुआ रहे।
इन लेखों में एक चिन्ता साफ़ दिखाई देती है कि ख़बर जो भी हो मीडिया अक्सर असल मुद्दे से हटकर, उसे भावुकता की चाशनी में डुबाकर उन्माद पैदा करने की कोशिश करता है। मुकेश कुमार ने इस बात को प्रभावशाली ढंग से रेखांकित किया है कि रामजन्मभूमि विवाद के ज़माने में भी हालात ऐसे ही थे, और गुजरात के दंगे को लेकर विवाद हो या भारत पाक के बीच संकट की स्थिति, मीडिया में उन्माद के सिवा कुछ दिखाई नहीं देता। Punji ke bhumandlikran aur aarthik udarvad ke aagman ke saath shuru hue vismaykari vistar ne midiya ko yadi shaktishali banaya hai to uska charitr bhi badal dala hai. Varishth patrkar mukesh kumar ke ‘hans’ mein likhe stambh lekhon ka sanklan hai—yah pustak. Jiske madhyam bataya hai ki midiya mein aae is parivartan ki vajhen kya hain, kaun se dabav aur prbhav iske pichhe kaam kar rahe hain aur inke uddeshya kya hain? ye ek bahut hi zaruri kaam tha jo hindi mein bahut der se shuru hua aur bahut kam hua. ‘hans’ aur mukesh kumar ko iska shrey jata hai ki unhonne is zimmedari ko puri gambhirta ke saath nibhaya. Mukesh kumar pichhle lagbhag chalis saal se zyada samay se patrkarita se jude hue hain. ‘hans’ mein prkashit unke lekhon se zahir ho jata hai ki is dauran patrkarita ke samne aanevali chunautiyon ko ve dekhte-samajhte rahe hain. Saath hi unhonne in samasyaon ke bhitar jhankakar unke karnon ko bhi janne ki koshish ki hai. Midiya ke samne khadi chunautiyon ka samna karne ke raston par bhi unki nazar rahi hai. Unhonne midiya udyog ke har aayam ko qarib se dekha-samjha hai, isaliye ve midiya mein aae parivartnon ko zyada vishvasniy tariqe se likh sake. Aisa karte hue unhonne atirikt sahas ka parichay bhi diya, kyonki apne hi peshe ki khamiyon ko bebaki se likhna sabke liye aasan nahin.
Mujhe lagta hai ki mukesh kumar ne is pure daur mein paida hui midiya ki har aahat, uski har karvat aur har din badalte uske paitron ko apni nazron se ojhal nahin hone diya hai. Phir chahe vah sting aupreshan ki sachchai ho, samrajyvad aur bazarvad ka dabadba ho, filmi chakachaundh ho ya kriket ka karvan ho, danga-phasad ho ya chamatkariyon ka sansar ho. Har chiz ko unhonne iimandari se parkha hai aur apni saaf raay di hai. Midiya ke badalte rang-dhang ki pariksha karte hue unka nazariya bahut hi spasht rahta hai aur ve ye kaam puri janpakshadharta ke saath karte hain. Tiarpi ki hod se paida hui dushprvrittiyon ke khilaf sakht rukh apnane se ve kabhi pichhe nahin hate. Unki qalam ne midiya ke unmadi svrup ki jamkar chir-phad ki aur uske jatiy tatha samprdayik charitr ko benkab karne mein agua rahe.
In lekhon mein ek chinta saaf dikhai deti hai ki khabar jo bhi ho midiya aksar asal mudde se hatkar, use bhavukta ki chashni mein dubakar unmad paida karne ki koshish karta hai. Mukesh kumar ne is baat ko prbhavshali dhang se rekhankit kiya hai ki ramjanmbhumi vivad ke zamane mein bhi halat aise hi the, aur gujrat ke dange ko lekar vivad ho ya bharat paak ke bich sankat ki sthiti, midiya mein unmad ke siva kuchh dikhai nahin deta.