Look Inside
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap
Kasap

Kasap

Regular price ₹ 371
Sale price ₹ 371 Regular price ₹ 399
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kasap

Kasap

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कुमाऊँनी में कसप का अर्थ है ‘क्या जाने’। मनोहर श्याम जोशी का कुरु-कुरु स्वाहा ‘एनो मीनिंग सूँ?’ का सवाल लेकर आया था, वहाँ कसप जवाब के तौर पर ‘क्या जाने’ की स्वीकृति लेकर प्रस्तुत हुआ। किशोर प्रेम की नितान्त सुपरिचित और सुमधुर कहानी को कसप में एक वृद्ध प्राध्यापक किसी अन्य (कदाचित् नायिका के संस्कृतज्ञ पिता) की संस्कृत कादम्बरी के आधार पर प्रस्तुत कर रहा है। मध्यवर्गीय जीवन की टीस को अपने पंडिताऊ परिहास में ढालकर यह प्राध्यापक मानवीय प्रेम को स्वप्न और स्मृत्याभास के बीचोबीच ‘फ्रीज’ कर देता है।
कसप लिखते हुए मनोहर श्याम जोशी ने आंचलिक कथाकारों वाला तेवर अपनाते हुए कुमाऊँनी हिन्दी में कुमाऊँनी जीवन का जीवन्त चित्र आँका है। यह प्रेमकथा दलिद्दर से लेकर दिव्य तक का हर स्वर छोड़ती है लेकिन वह ठहरती हर बार उस मध्यम पर है जिसका नाम मध्यवर्ग है। एक प्रकार से मध्यवर्ग ही इस उपन्यास का मुख्य पात्र है। जिन सुधी समीक्षकों ने कसप को हिन्दी के प्रेमाख्यानों में नदी के द्वीप के बाद की सबसे बड़ी उपलब्धि ठहराया है, उन्होंने इस तथ्य को रेखांकित किया है कि जहाँ नदी के द्वीप का तेवर बौद्धिक और उच्चवर्गीय है, वहाँ कसप का दार्शनिक ढाँचा मध्यवर्गीय यथार्थ की नींव पर खड़ा है। इसी वजह से कसप में कथावाचक की पंडिताऊ शैली के बावजूद एक अन्य ख्यात परवर्ती हिन्दी प्रेमाख्यान गुनाहों का देवता जैसी सरसता, भावुकता और गजब की पठनीयता भी है। पाठक को बहा ले जानेवाले उसके कथा-प्रवाह का रहस्य लेखक के अनुसार यह है कि उसने इसे ‘‘चालीस दिन की लगातार शूटिंग में पूरा किया है।’’ कसप के सन्दर्भ में सिने शब्दावली का प्रयोग सार्थक है क्योंकि न केवल इसका नायक सिनेमा से जुड़ा हुआ है बल्कि कथा-निरूपण में सिनेमावत् शैली प्रयोग की गई है।
1910 की काशी से लेकर 1980 के हॉलीवुड तक की अनुगूँजों से भरा, गँवई गाँव के एक अनाथ, भावुक, साहित्य-सिनेमा अनुरागी लड़के और काशी के समृद्ध शास्त्रियों की सिरचढ़ी, खिलन्दड़ दबंग लड़की के संक्षिप्त प्रेम की विस्तृत कहानी सुनानेवाला यह उपन्यास एक विचित्र-सा उदास-उदास, मीठा-मीठा-सा प्रभाव मन पर छोड़ता है। ऐसा प्रभाव जो ठीक कैसा है, यह पूछे जाने पर एक ही उत्तर सूझता है–कसप। Kumaunni mein kasap ka arth hai ‘kya jane’. Manohar shyam joshi ka kuru-kuru svaha ‘eno mining sun?’ ka saval lekar aaya tha, vahan kasap javab ke taur par ‘kya jane’ ki svikriti lekar prastut hua. Kishor prem ki nitant suparichit aur sumdhur kahani ko kasap mein ek vriddh pradhyapak kisi anya (kadachit nayika ke sanskritagya pita) ki sanskrit kadambri ke aadhar par prastut kar raha hai. Madhyvargiy jivan ki tis ko apne panditau parihas mein dhalkar ye pradhyapak manviy prem ko svapn aur smrityabhas ke bichobich ‘phrij’ kar deta hai. Kasap likhte hue manohar shyam joshi ne aanchlik kathakaron vala tevar apnate hue kumaunni hindi mein kumaunni jivan ka jivant chitr aanka hai. Ye premaktha daliddar se lekar divya tak ka har svar chhodti hai lekin vah thaharti har baar us madhyam par hai jiska naam madhyvarg hai. Ek prkar se madhyvarg hi is upanyas ka mukhya patr hai. Jin sudhi samikshkon ne kasap ko hindi ke premakhyanon mein nadi ke dvip ke baad ki sabse badi uplabdhi thahraya hai, unhonne is tathya ko rekhankit kiya hai ki jahan nadi ke dvip ka tevar bauddhik aur uchchvargiy hai, vahan kasap ka darshnik dhancha madhyvargiy yatharth ki ninv par khada hai. Isi vajah se kasap mein kathavachak ki panditau shaili ke bavjud ek anya khyat parvarti hindi premakhyan gunahon ka devta jaisi sarasta, bhavukta aur gajab ki pathniyta bhi hai. Pathak ko baha le janevale uske katha-prvah ka rahasya lekhak ke anusar ye hai ki usne ise ‘‘chalis din ki lagatar shuting mein pura kiya hai. ’’ kasap ke sandarbh mein sine shabdavli ka pryog sarthak hai kyonki na keval iska nayak sinema se juda hua hai balki katha-nirupan mein sinemavat shaili pryog ki gai hai.
1910 ki kashi se lekar 1980 ke haulivud tak ki anugunjon se bhara, ganvai ganv ke ek anath, bhavuk, sahitya-sinema anuragi ladke aur kashi ke samriddh shastriyon ki sirachdhi, khilandad dabang ladki ke sankshipt prem ki vistrit kahani sunanevala ye upanyas ek vichitr-sa udas-udas, mitha-mitha-sa prbhav man par chhodta hai. Aisa prbhav jo thik kaisa hai, ye puchhe jane par ek hi uttar sujhta hai–kasap.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products