Karl Marx : Kala Aur Sahitya Chintan

Regular price Rs. 646
Sale price Rs. 646 Regular price Rs. 695
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Karl Marx : Kala Aur Sahitya Chintan

Karl Marx : Kala Aur Sahitya Chintan

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कार्ल मार्क्स की दिलचस्पी के मुख्य विषय दर्शन, राजनीति और अर्थशास्त्र थे, लेकिन प्रसंगतः उन्होंने कला और साहित्यशास्त्र की समस्याओं पर भी गम्भीर और महत्त्वपूर्ण विचार व्यक्त किए हैं। पिछले सात-आठ दशकों के दौरान इन बिखरे हुए विचारों को एकत्र करके उनकी मीमांसा करने का प्रयास लगातार चलता रहा और विश्व की अनेक भाषाओं में इस विषय पर बहुत कुछ लिखा गया तथा मार्क्सवादी सौन्दर्यशास्त्र का एक समग्र रूप विकसित किया गया। इस प्रक्रिया में मार्क्स के कला और साहित्य विषयक विचारों पर मार्क्सवादी और ग़ैर-मार्क्सवादी दोनों ही तरह के लेखकों ने अपने विचार प्रकट किए हैं, और डॉ. नामवर सिंह द्वारा सम्पादित प्रस्तुत संकलन में इन दोनों ही धाराओं के लेखकों के विचारों को संकलित किया गया है।
कार्ल मार्क्स ने कला और साहित्य विषयक जिन प्रश्नों पर विचार किया है, उनमें से कुछ हैं—कला का मनुष्य के कर्म से सम्बन्ध; सौन्दर्यशास्त्र का स्वरूप, कला के सामाजिक और रचनात्मक पहलू, सौन्दर्यानुभूति का सामाजिक स्वरूप, विचारधारात्मक अधिरचना में कला; कला या साहित्यिक कृति का वर्गीय आधार और उसकी सापेक्षिक स्वायत्तता; कला का यथार्थ से सौन्दर्यशास्त्रीय रिश्ता, विचारधारा और संज्ञान; पूँजीवादी व्यवस्था में कलात्मक सृजन तथा माल का उत्पादन, कला में दीर्घजीविता के तत्त्व और उपकरण, रूप और अन्तर्वस्तु का रिश्ता; कला के सामाजिक उद्देश्य, कला की लौकिकता का स्वरूप आदि। प्रस्तुत पुस्तक में संकलित लेखों को पढ़कर पाठक साहित्य और कला से सम्बन्धित इन सभी मुद्दों से परिचित हो सकेगा। मोटे तौर पर यह पुस्तक मार्क्सवादी कला और साहित्य-चिन्तन में होनेवाली बहसों से पाठक का परिचय कराएगी तथा एक हद तक इस विषय में उनकी दृष्टि निर्मित करने में भी मदद करेगी। इस पुस्तक से मार्क्सवादी साहित्य और कला-चिन्तन की गहराई में जाकर उसका अध्ययन करने का रास्ता भी साफ़ होगा। Karl marks ki dilchaspi ke mukhya vishay darshan, rajniti aur arthshastr the, lekin prsangatः unhonne kala aur sahityshastr ki samasyaon par bhi gambhir aur mahattvpurn vichar vyakt kiye hain. Pichhle sat-ath dashkon ke dauran in bikhre hue vicharon ko ekatr karke unki mimansa karne ka pryas lagatar chalta raha aur vishv ki anek bhashaon mein is vishay par bahut kuchh likha gaya tatha marksvadi saundaryshastr ka ek samagr rup viksit kiya gaya. Is prakriya mein marks ke kala aur sahitya vishyak vicharon par marksvadi aur gair-marksvadi donon hi tarah ke lekhkon ne apne vichar prkat kiye hain, aur dau. Namvar sinh dvara sampadit prastut sanklan mein in donon hi dharaon ke lekhkon ke vicharon ko sanklit kiya gaya hai. Karl marks ne kala aur sahitya vishyak jin prashnon par vichar kiya hai, unmen se kuchh hain—kala ka manushya ke karm se sambandh; saundaryshastr ka svrup, kala ke samajik aur rachnatmak pahlu, saundaryanubhuti ka samajik svrup, vichardharatmak adhirachna mein kala; kala ya sahityik kriti ka vargiy aadhar aur uski sapekshik svayattta; kala ka yatharth se saundaryshastriy rishta, vichardhara aur sangyan; punjivadi vyvastha mein kalatmak srijan tatha maal ka utpadan, kala mein dirghjivita ke tattv aur upakran, rup aur antarvastu ka rishta; kala ke samajik uddeshya, kala ki laukikta ka svrup aadi. Prastut pustak mein sanklit lekhon ko padhkar pathak sahitya aur kala se sambandhit in sabhi muddon se parichit ho sakega. Mote taur par ye pustak marksvadi kala aur sahitya-chintan mein honevali bahson se pathak ka parichay karayegi tatha ek had tak is vishay mein unki drishti nirmit karne mein bhi madad karegi. Is pustak se marksvadi sahitya aur kala-chintan ki gahrai mein jakar uska adhyyan karne ka rasta bhi saaf hoga.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products