Look Inside
Kanya Vama Janani
Kanya Vama Janani
Kanya Vama Janani
Kanya Vama Janani
Kanya Vama Janani
Kanya Vama Janani

Kanya Vama Janani

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kanya Vama Janani

Kanya Vama Janani

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

स्वाधीनता के बाद से ही हमारे देश के आर्थिक एवं सामाजिक ढाँचे में व्यापक परिवर्तन हुआ है। स्त्री शिक्षा का प्रसार एवं स्त्री स्वाधीनता अब विलास की वस्तु नहीं हैं वरन् जीवन के अपरिहार्य अंग बन गए हैं। स्त्री की भूमिका अब सिर्फ़ माँ, पत्नी या बेटी के रूप में घर तक सीमित नहीं है, बल्कि रोज़गार के क्षेत्र में भी अब वे समान रूप से आगे आ रही हैं। और इस परिवर्तित माहौल में महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति ज़्यादा ध्यान देने की आवश्यकता है। लेकिन उच्च शिक्षित या पढ़ी-लिखी महिलाओं में भी अपने शरीर और स्वास्थ्य के प्रति ज़्यादा जागरूकता नहीं है।
जन्म से ही शारीरिक लक्षणों में भिन्नता, किशोरावस्था में प्रवेश, यौवनप्राप्ति, विवाह, मातृत्व, शिशु पालन, प्रौढ़ावस्था में प्रवेश, रजोनिवृत्ति एवं प्रजनन क्षमता की परिसमाप्ति—नारी जीवन की इन सभी अवस्थाओं पर विस्तृत जानकारी देनेवाली संग्रहणीय पुस्तक है—‘कन्या वामा जननी’।
अपने पेशेवर जीवन में डॉ. मित्र ने इस तरह के स्वास्थ्य के प्रति औरतों को भी लापरवाह पाया है। इसके साथ ही साथ उन्होंने यह भी देखा कि कुछ महिलाओं में अपने शरीर से जुड़े तमाम वैज्ञानिक तथ्यों को जानने में काफ़ी दिलचस्पी है; और इन्हीं महिलाओं के लिए लिखी गई यह महत्त्वपूर्ण पुस्तक है। Svadhinta ke baad se hi hamare desh ke aarthik evan samajik dhanche mein vyapak parivartan hua hai. Stri shiksha ka prsar evan stri svadhinta ab vilas ki vastu nahin hain varan jivan ke apariharya ang ban ge hain. Stri ki bhumika ab sirf man, patni ya beti ke rup mein ghar tak simit nahin hai, balki rozgar ke kshetr mein bhi ab ve saman rup se aage aa rahi hain. Aur is parivartit mahaul mein mahilaon ko apne svasthya ke prati zyada dhyan dene ki aavashyakta hai. Lekin uchch shikshit ya padhi-likhi mahilaon mein bhi apne sharir aur svasthya ke prati zyada jagrukta nahin hai. Janm se hi sharirik lakshnon mein bhinnta, kishoravastha mein prvesh, yauvnaprapti, vivah, matritv, shishu palan, praudhavastha mein prvesh, rajonivritti evan prajnan kshamta ki parismapti—nari jivan ki in sabhi avasthaon par vistrit jankari denevali sangrahniy pustak hai—‘kanya vama janni’.
Apne peshevar jivan mein dau. Mitr ne is tarah ke svasthya ke prati aurton ko bhi laparvah paya hai. Iske saath hi saath unhonne ye bhi dekha ki kuchh mahilaon mein apne sharir se jude tamam vaigyanik tathyon ko janne mein kafi dilchaspi hai; aur inhin mahilaon ke liye likhi gai ye mahattvpurn pustak hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products