BackBack
-11%

Kant Ke Darshan Ka Tatparya

Acharya Krishnachandra Bhattacharya, Tr. Mukund Laath

Rs. 299 Rs. 266

Rajkamal Prakashan, Raza Foundation

आचार्य ने पदावली को विशेष पारिभाषिक रूप दिया है। अपनी परिभाषाओं को कृष्णचन्द्र जी खोलते भी चलते हैं। आचार्य का प्रतिपादन भी बड़ा कसा-गठा है, उसके विचार-सूत्र अपनी बुनावट में निबिड़ परस्परभाव के साथ आपस में गझिन गुँथे हुए हैं। आपको याद न दिलाना होगा कि आचार्य कृष्णचन्द्र भट्टाचार्य ने... Read More

Description

आचार्य ने पदावली को विशेष पारिभाषिक रूप दिया है। अपनी परिभाषाओं को कृष्णचन्द्र जी खोलते भी चलते हैं। आचार्य का प्रतिपादन भी बड़ा कसा-गठा है, उसके विचार-सूत्र अपनी बुनावट में निबिड़ परस्परभाव के साथ आपस में गझिन गुँथे हुए हैं।
आपको याद न दिलाना होगा कि आचार्य कृष्णचन्द्र भट्टाचार्य ने स्वातंत्र्य आन्दोलन के समय विचार के स्वातंत्र्य—स्वराज—का उद्घोष किया था। अंग्रेज़ी में किया था, जो विचार की भाषा बन चली थी। और है। पर उनके कथन में सहज ही ऊह्य और व्यंजित था कि ऐसे स्वराज का मार्ग अपनी भाषा के ही द्वार की माँग करता है।
प्रस्तुत निबन्ध में उन्होंने काण्ट के दर्शन का नितान्त स्वतंत्र स्थापन-प्रतिपादन किया है जो अपनी तरह से विलक्षण है। इसके लिए उन्होंने भाषा भी अपनी ही ली है। जहाँ तक मैं जानता हूँ, बांग्‍ला में यह उनकी अकेली रचना है। पर इस एक रचना से ही स्पष्ट है कि वे अपने शेष चिन्तन को भी बांग्‍ला में विदग्ध अभिव्यक्ति दे सकते थे। उनके इस एक प्रौढ़ लेखन में भाषा की सम्भावनाओं का स्पष्ट, समृद्ध इंगित है।
आचार्य संस्कृत के निष्णात पण्डित थे। उनकी पदावली यहाँ स्वभावत: पुराने परिनिष्ठित शब्दों की ओर मुड़ती है पर इस मार्ग पर वे स्वभावत: ही नहीं, 'स्वरसेन’ चलते दिखते हैं। पुरानी पदावली रूढ़ ही नहीं है—जो कि कोई भी पदावली होती है—उसमें महत् लोच है। आचार्य इस पदावली को एक नई दिशा, नई व्याप्ति, नया आयाम देते हैं। Aacharya ne padavli ko vishesh paribhashik rup diya hai. Apni paribhashaon ko krishnchandr ji kholte bhi chalte hain. Aacharya ka pratipadan bhi bada kasa-gatha hai, uske vichar-sutr apni bunavat mein nibid parasparbhav ke saath aapas mein gajhin gunthe hue hain. Aapko yaad na dilana hoga ki aacharya krishnchandr bhattacharya ne svatantrya aandolan ke samay vichar ke svatantrya—svraj—ka udghosh kiya tha. Angrezi mein kiya tha, jo vichar ki bhasha ban chali thi. Aur hai. Par unke kathan mein sahaj hi uuhya aur vyanjit tha ki aise svraj ka marg apni bhasha ke hi dvar ki mang karta hai.
Prastut nibandh mein unhonne kant ke darshan ka nitant svtantr sthapan-pratipadan kiya hai jo apni tarah se vilakshan hai. Iske liye unhonne bhasha bhi apni hi li hai. Jahan tak main janta hun, bang‍la mein ye unki akeli rachna hai. Par is ek rachna se hi spasht hai ki ve apne shesh chintan ko bhi bang‍la mein vidagdh abhivyakti de sakte the. Unke is ek praudh lekhan mein bhasha ki sambhavnaon ka spasht, samriddh ingit hai.
Aacharya sanskrit ke nishnat pandit the. Unki padavli yahan svbhavat: purane parinishthit shabdon ki or mudti hai par is marg par ve svbhavat: hi nahin, svarsen’ chalte dikhte hain. Purani padavli rudh hi nahin hai—jo ki koi bhi padavli hoti hai—usmen mahat loch hai. Aacharya is padavli ko ek nai disha, nai vyapti, naya aayam dete hain.