Kanshiram : Bahujanon Ke Nayak

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Kanshiram : Bahujanon Ke Nayak

Kanshiram : Bahujanon Ke Nayak

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

एक दलित आइकॉन के रूप में कांशीराम (1934-2006) की प्रतिष्ठा, आज के समय में आंबेडकर के बाद के एकमात्र नेता के रूप में है। यह किताब उनकी पूरी यात्रा पर रोशनी डालती है। कांशीराम के शुरुआती वर्ष ग्रामीण पंजाब में बीते और पुणे में आंबेडकरवादियों के साथ मिलकर ‘बामसेफ’ की नींव डाली, जो व्यापक स्वरूप वाला ऐसा संगठन था जिसने पिछड़ी जातियों, अनुसूचित जातियों, दलितों और अल्पसंख्यकों को एकजुट किया और अन्ततोगत्वा 1984 में ‘बहुजन समाज पार्टी’ बनाई।
अनगिनत मौखिक और लिखित स्रोतों का सहारा लेकर बद्री नारायण ने दिखाया है कि कैसे कांशीराम ने अपने ठेठ मुहावरों, साइकिल रैलियों और विलक्षण ढंग से स्थानीय नायकों और मिथकों का इस्तेमाल करते हुए व उनके आत्मसम्मान को जगाते हुए दलितों को गोलबन्द किया और कैसे उन्होंने सत्ता पर कब्जा करने के लिए ऊँची जाति की पार्टियों से अवसरवादी गठबन्धन कायम किए। यह किताब कांशीराम की मृत्यु तक मायावती के साथ उनके असाधारण रिश्ते की कहानी भी कहती है। साथ ही उनके सपने को पूरा करने के लिए उनके जीवित रहते और उनकी मृत्यु के बाद मायावती की भूमिका को भी रेखांकित करती है।
दो लोगों के बीच के विरोधाभासी नज़रिए को आमने-सामने रखते हुए, नारायण रेखांकित करते हैं कि कैसे कांशीराम ने आंबेडकर के विचारों को भिन्न दिशा दी। जाति का उच्छेद चाहनेवाले आंबेडकर से उलट, कांशीराम ने जाति को दलित पहचान को उभारने के एक आधार और राजनीतिक सशक्तीकरण के एक स्रोत के रूप में देखा।
प्राधिकार और पैनी दृष्टि सृजित यह दुर्लभ शब्दचित्र उस आदमी का है, जिसने दलित समाज का चेहरा बदलकर रख दिया और वाकई भारतीय राजनीति का भी। Ek dalit aaikaun ke rup mein kanshiram (1934-2006) ki pratishta, aaj ke samay mein aambedkar ke baad ke ekmatr neta ke rup mein hai. Ye kitab unki puri yatra par roshni dalti hai. Kanshiram ke shuruati varsh gramin panjab mein bite aur pune mein aambedakarvadiyon ke saath milkar ‘bamseph’ ki ninv dali, jo vyapak svrup vala aisa sangthan tha jisne pichhdi jatiyon, anusuchit jatiyon, daliton aur alpsankhykon ko ekjut kiya aur anttogatva 1984 mein ‘bahujan samaj parti’ banai. Anaginat maukhik aur likhit sroton ka sahara lekar badri narayan ne dikhaya hai ki kaise kanshiram ne apne theth muhavron, saikil railiyon aur vilakshan dhang se sthaniy naykon aur mithkon ka istemal karte hue va unke aatmsamman ko jagate hue daliton ko golband kiya aur kaise unhonne satta par kabja karne ke liye uunchi jati ki partiyon se avasarvadi gathbandhan kayam kiye. Ye kitab kanshiram ki mrityu tak mayavti ke saath unke asadharan rishte ki kahani bhi kahti hai. Saath hi unke sapne ko pura karne ke liye unke jivit rahte aur unki mrityu ke baad mayavti ki bhumika ko bhi rekhankit karti hai.
Do logon ke bich ke virodhabhasi nazariye ko aamne-samne rakhte hue, narayan rekhankit karte hain ki kaise kanshiram ne aambedkar ke vicharon ko bhinn disha di. Jati ka uchchhed chahnevale aambedkar se ulat, kanshiram ne jati ko dalit pahchan ko ubharne ke ek aadhar aur rajnitik sashaktikran ke ek srot ke rup mein dekha.
Pradhikar aur paini drishti srijit ye durlabh shabdchitr us aadmi ka hai, jisne dalit samaj ka chehra badalkar rakh diya aur vakii bhartiy rajniti ka bhi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products