Look Inside
Kanpta Hua Dariya
Kanpta Hua Dariya
Kanpta Hua Dariya
Kanpta Hua Dariya

Kanpta Hua Dariya

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kanpta Hua Dariya

Kanpta Hua Dariya

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कश्मीर के सौन्दर्य और प्रेम की रूमानी कहानियों से अलग दरिया में घर बनाकर रहनेवाले एक ग़रीब हाँजी परिवार, उसके सुख-दुःख, संवेदनाओं के टकराव और कठोर जीवन-संघर्ष पर आधारित मोहन राकेश का यह उपन्यास इस अर्थ में भी अलग है कि यह उनके शहरी मध्यवर्गीय रचना-जगत से काफ़ी अलग है।
उपन्यास में मोहन राकेश ने स्वयं ‘पूर्वभूमि’ के तहत इसकी रचना-प्रक्रिया पर रौशनी डाली है, जिससे हमें पता चलता है कि वे स्वयं इस कहानी से भावनात्मक स्तर पर कितना जुड़े हुए थे। इसे पूरा करने के लिए वे महीनों-महीनों कश्मीर में रहे और हाँजी परिवार के साथ हाउसबोट में ही नहीं, बल्कि डूँगों में भी रहकर दरिया का सफ़र करते हुए दूर-दराज़ के इलाक़ों तक गए।
लेकिन फिर भी यह उपन्यास अधूरा ही रहा। राकेश-साहित्य के शोधकर्ता और उनकी साहित्य-चेतना के मर्मज्ञ जयदेव तनेजा की पहल पर एक प्रयोग के तौर पर इसे मीरा कांत ने पूरा किया है जो स्वयं भी कश्मीरी पृष्ठभूमि से अच्छी तरह परिचित हैं, और इस कथा की ज़मीन को पकड़ने के लिए हफ़्तों श्रीनगर में रहकर, हाँजियों, उनके परिवारों और नई-पुरानी पीढ़ियों से मिलती रही हैं।
इस अनूठे कथा-प्रयोग के तहत उपन्यास के पात्रों और कथा-सूत्र का अध्ययन करते हुए उन्हें आगे बढ़ाया गया है। जिस सूझ-बूझ, कल्पनाशीलता और कौशल के साथ उन्होंने इस उपन्यास को एक बहुअर्थगर्भी परिणति तक पहुँचाया है, वह दिलचस्प है। उम्मीद है कि इस प्रयोग के रूप में पाठक एक नया औपन्यासिक आस्वाद पाएँगे। निःसन्देह कश्मीर को, समझने में भी यह उपन्यास एक आधार उपलब्ध कराता है, जो आज एक नए मोड़ पर है। Kashmir ke saundarya aur prem ki rumani kahaniyon se alag dariya mein ghar banakar rahnevale ek garib hanji parivar, uske sukh-duःkha, sanvednaon ke takrav aur kathor jivan-sangharsh par aadharit mohan rakesh ka ye upanyas is arth mein bhi alag hai ki ye unke shahri madhyvargiy rachna-jagat se kafi alag hai. Upanyas mein mohan rakesh ne svayan ‘purvbhumi’ ke tahat iski rachna-prakriya par raushni dali hai, jisse hamein pata chalta hai ki ve svayan is kahani se bhavnatmak star par kitna jude hue the. Ise pura karne ke liye ve mahinon-mahinon kashmir mein rahe aur hanji parivar ke saath hausbot mein hi nahin, balki dungon mein bhi rahkar dariya ka safar karte hue dur-daraz ke ilaqon tak ge.
Lekin phir bhi ye upanyas adhura hi raha. Rakesh-sahitya ke shodhkarta aur unki sahitya-chetna ke marmagya jaydev taneja ki pahal par ek pryog ke taur par ise mira kant ne pura kiya hai jo svayan bhi kashmiri prishthbhumi se achchhi tarah parichit hain, aur is katha ki zamin ko pakadne ke liye hafton shringar mein rahkar, hanjiyon, unke parivaron aur nai-purani pidhiyon se milti rahi hain.
Is anuthe katha-pryog ke tahat upanyas ke patron aur katha-sutr ka adhyyan karte hue unhen aage badhaya gaya hai. Jis sujh-bujh, kalpnashilta aur kaushal ke saath unhonne is upanyas ko ek bahuarthgarbhi parinati tak pahunchaya hai, vah dilchasp hai. Ummid hai ki is pryog ke rup mein pathak ek naya aupanyasik aasvad payenge. Niःsandeh kashmir ko, samajhne mein bhi ye upanyas ek aadhar uplabdh karata hai, jo aaj ek ne mod par hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products