Look Inside
Kamred Ka Cot
Kamred Ka Cot
Kamred Ka Cot
Kamred Ka Cot

Kamred Ka Cot

Regular price Rs. 0
Sale price Rs. 0 Regular price Rs. 0
Unit price
Save
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kamred Ka Cot

Kamred Ka Cot

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

महत्त्वपूर्ण कथाकार सृंजय का यह पहला कहानी–संग्रह है। शीर्षक कथा ‘कामरेड का कोट’ भारतीय वामपन्थ पर तीक्ष्ण प्रहार करते हुए सच्चे और प्रतिबद्ध लोगों की बेचैनी को शिद्दत से उजागर करती है। वहीं ‘भगदत्त का हाथी’ हमारी गँवई ज़िन्दगी को आज भी निष्प्राण बनाए रखनेवाले सामन्ती अहंकार की बख़िया उधेड़ती है।
सृंजय की ये कहानियाँ हिन्दी कथा–साहित्य में महत्त्वपूर्ण स्थान ग्रहण करती हैं। ये कहानियाँ पुन: इस सच को स्थापित करती हैं कि रचना का कलात्मक मूल्य उसकी सामाजिक अन्तर्दृष्टि में ही निहित होता है। संग्रह में शामिल ‘बैल बधिया’ और ‘तख़्त–ओ–ताज’ भी सामन्ती सरोकारों के चलते अमानवीय होती हमारी ज़िन्दगी की आलोचना करती हैं तो ‘लक्ष्मी के पाँव’ इस संस्कृति की विरूपता पर कटु व्यंग्य करती है।
कथाकार बेहद संवेदनशील है और समय को चौकन्नी दृष्टि से देखता है। लोक संस्कृति की गहरी समझ और रचनात्मक कौशल से उसका बेहतर इस्तेमाल कथाकार की ख़ूबी है। वह अपने पात्र समाज के बीचोबीच से उठाता है और उनके साथ चलते हुए उनकी तमाम कमज़ोरियों और कमियों को बारीकी से उकेरता है। Mahattvpurn kathakar srinjay ka ye pahla kahani–sangrah hai. Shirshak katha ‘kamred ka kot’ bhartiy vampanth par tikshn prhar karte hue sachche aur pratibaddh logon ki bechaini ko shiddat se ujagar karti hai. Vahin ‘bhagdatt ka hathi’ hamari ganvai zindagi ko aaj bhi nishpran banaye rakhnevale samanti ahankar ki bakhiya udhedti hai. Srinjay ki ye kahaniyan hindi katha–sahitya mein mahattvpurn sthan grhan karti hain. Ye kahaniyan pun: is sach ko sthapit karti hain ki rachna ka kalatmak mulya uski samajik antardrishti mein hi nihit hota hai. Sangrah mein shamil ‘bail badhiya’ aur ‘takht–o–taj’ bhi samanti sarokaron ke chalte amanviy hoti hamari zindagi ki aalochna karti hain to ‘lakshmi ke panv’ is sanskriti ki virupta par katu vyangya karti hai.
Kathakar behad sanvedanshil hai aur samay ko chaukanni drishti se dekhta hai. Lok sanskriti ki gahri samajh aur rachnatmak kaushal se uska behtar istemal kathakar ki khubi hai. Vah apne patr samaj ke bichobich se uthata hai aur unke saath chalte hue unki tamam kamzoriyon aur kamiyon ko bariki se ukerta hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products