BackBack
-11%

Kaliyug Mein Itihas Ki Talash

Rs. 600 Rs. 534

वैदिककालीन धर्म-निर्माताओं का मानना था कि धर्म नहीं तो विश्व नहीं; विश्व का अस्तित्व धर्म पर आधारित था। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र को अपने-अपने कर्तव्यों का पालन करना ही धर्म था; यही कृत था; यही सत था। धर्म विश्वास पर आधारित था और विश्वास में तर्क की कोई गुंजाइश... Read More

Description

वैदिककालीन धर्म-निर्माताओं का मानना था कि धर्म नहीं तो विश्व नहीं; विश्व का अस्तित्व धर्म पर आधारित था। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र को अपने-अपने कर्तव्यों का पालन करना ही धर्म था; यही कृत था; यही सत था। धर्म विश्वास पर आधारित था और विश्वास में तर्क की कोई गुंजाइश नहीं होती। वैदिक समाज चार वर्णों—ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र में विभाजित था। धर्म के भी चार पैर—सतयुग, त्रेता, द्वापर और कलियुग बताए गए। कई कारणोंवश ब्राह्मण और वैदिककालीन वर्णव्यवस्था के अस्तित्व पर ख़तरा उत्पन्न हुआ तो चार पैरोंवाले धर्म का एक पैर नष्ट हो गया अर्थात् सतयुग का अन्त हो गया। ब्राह्मणों के साथ क्षत्रियों के परम्परावादी अस्तित्व पर ख़तरा मँडराने लगा तो धर्म के दूसरे पैर (त्रेतायुग) का अन्त हो गया। धर्म के तीसरे पैर (द्वापर) का नाश उस समय हो गया जब वैश्यों ने वैदिक धर्म का पालन करना छोड़ शूद्र-म्लेच्छ का पेशा अपना लिया। अब धर्म मात्र एक पैर पर खड़ा हुआ। इसे कलियुग कहा गया।
कल्पना की गई कि देवतागण जब म्लेच्छों का पूर्ण नाश कर देंगे तो कलियुग का अन्त और सतयुग का सुआगमन होगा। इतिहास चूँकि तर्क, विज्ञान एवं प्रमाण पर आधारित है, इसलिए ऐसे धार्मिक युग-विभाजन को वह नहीं मानता। इस विभाजन के ऐतिहासिक कारणों की खोज करने पर जो तथ्य उभरकर सामने आते हैं, उनका गहरा लगाव किस प्रकार तत्कालीन सामाजिक और आर्थिक दशाओं से रहा—इसी की तलाश कर प्रस्तुत करने का प्रयास इस पुस्तक में किया गया है। Vaidikkalin dharm-nirmataon ka manna tha ki dharm nahin to vishv nahin; vishv ka astitv dharm par aadharit tha. Brahman, kshatriy, vaishya aur shudr ko apne-apne kartavyon ka palan karna hi dharm tha; yahi krit tha; yahi sat tha. Dharm vishvas par aadharit tha aur vishvas mein tark ki koi gunjaish nahin hoti. Vaidik samaj char varnon—brahman, kshatriy, vaishya aur shudr mein vibhajit tha. Dharm ke bhi char pair—satyug, treta, dvapar aur kaliyug bataye ge. Kai karnonvash brahman aur vaidikkalin varnavyvastha ke astitv par khatra utpann hua to char paironvale dharm ka ek pair nasht ho gaya arthat satyug ka ant ho gaya. Brahmnon ke saath kshatriyon ke parampravadi astitv par khatra mandrane laga to dharm ke dusre pair (tretayug) ka ant ho gaya. Dharm ke tisre pair (dvapar) ka nash us samay ho gaya jab vaishyon ne vaidik dharm ka palan karna chhod shudr-mlechchh ka pesha apna liya. Ab dharm matr ek pair par khada hua. Ise kaliyug kaha gaya. Kalpna ki gai ki devtagan jab mlechchhon ka purn nash kar denge to kaliyug ka ant aur satyug ka suagman hoga. Itihas chunki tark, vigyan evan prman par aadharit hai, isaliye aise dharmik yug-vibhajan ko vah nahin manta. Is vibhajan ke aitihasik karnon ki khoj karne par jo tathya ubharkar samne aate hain, unka gahra lagav kis prkar tatkalin samajik aur aarthik dashaon se raha—isi ki talash kar prastut karne ka pryas is pustak mein kiya gaya hai.