Look Inside
Kalindi
Kalindi

Kalindi

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kalindi

Kalindi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

...“एक बुज़ुर्ग ने मुझे रोककर कहा—‘कालिंदी’ पढ़ रहा हूँ!...अहा कैसा चित्र खींचा है उन दिनों का। लगता है एक बार फिर उसी अल्मोड़ा में पहुँच गया हूँ।”
“मुझे लगा मुझे कुमाऊँ का सर्वोच्च साहित्य पुरस्कार मिल गया।”...शिवानी के यह शब्द उपन्यास की पाठकों तक सहज पहुँच और स्वयं उनकी अपने लाखों सरल, अनाम पाठकों के प्रति अगाध समर्पण भाव का आईना है।
डॉक्टर कालिंदी एक स्वयंसिद्धा लड़की है, जिसने अपने जीवन के झंझावातों से अपनी शर्तों पर मुक़ाबला किया। कुमाऊँ की स्त्री-शक्ति के सुदीर्घ शोषण और उसकी अदम्य सहनशक्ति और जिजीविषा का दस्तावेज़ यह उपन्यास नए और पुराने के टकराव और पुनर्सृजन की गाथा भी है। शिवानी की मातृभूमि अल्मोड़ा और उस अंचल के गाँवों की मिट्टी-बयार की गन्ध से भरी कालिंदी की व्यथा-कथा भारत की उन सैकड़ों लड़कियों की महागाथा है, जो आधुनिकता का स्वागत करती हैं, लेकिन परम्परा की डोर को भी नहीं काट पातीं। अपने पुरुष उत्पीड़कों और शोषकों के प्रति भी अनथक स्नेह-ममत्व बनाए रखनेवाली कालिंदी और उसकी एकाकिनी माँ अन्नपूर्णा क्या आज भी देश के हर अंचल में मौजूद नहीं? . . . “ek buzurg ne mujhe rokkar kaha—‘kalindi’ padh raha hun!. . . Aha kaisa chitr khincha hai un dinon ka. Lagta hai ek baar phir usi almoda mein pahunch gaya hun. ”“mujhe laga mujhe kumaun ka sarvochch sahitya puraskar mil gaya. ”. . . Shivani ke ye shabd upanyas ki pathkon tak sahaj pahunch aur svayan unki apne lakhon saral, anam pathkon ke prati agadh samarpan bhav ka aaina hai.
Dauktar kalindi ek svyansiddha ladki hai, jisne apne jivan ke jhanjhavaton se apni sharton par muqabla kiya. Kumaun ki stri-shakti ke sudirgh shoshan aur uski adamya sahanshakti aur jijivisha ka dastavez ye upanyas ne aur purane ke takrav aur punarsrijan ki gatha bhi hai. Shivani ki matribhumi almoda aur us anchal ke ganvon ki mitti-bayar ki gandh se bhari kalindi ki vytha-katha bharat ki un saikdon ladakiyon ki mahagatha hai, jo aadhunikta ka svagat karti hain, lekin parampra ki dor ko bhi nahin kaat patin. Apne purush utpidkon aur shoshkon ke prati bhi anthak sneh-mamatv banaye rakhnevali kalindi aur uski ekakini man annpurna kya aaj bhi desh ke har anchal mein maujud nahin?

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products