BackBack
-11%

Kalam Ka Majdoor : Premchand

Rs. 299 Rs. 266

हिन्दी के जीवनी-साहित्य में बहुचर्चित यह पुस्तक स्वयं लेखक के अनुसार उसके करीब बीस वर्षों के परिश्रम का परिणाम है। ‘राजकमल’ से इसका पहला संस्करण 1965 में प्रकाशित हुआ था और यह एक महत्त्वपूर्ण कृति का पाँचवाँ संशोधित संस्करण है। इस पुस्तक की तैयारी में समस्त उपलब्ध सामग्रियों का उपयोग... Read More

Description

हिन्दी के जीवनी-साहित्य में बहुचर्चित यह पुस्तक स्वयं लेखक के अनुसार उसके करीब बीस वर्षों के परिश्रम का परिणाम है। ‘राजकमल’ से इसका पहला संस्करण 1965 में प्रकाशित हुआ था और यह एक महत्त्वपूर्ण कृति का पाँचवाँ संशोधित संस्करण है।
इस पुस्तक की तैयारी में समस्त उपलब्ध सामग्रियों का उपयोग करने के अतिरिक्त मुख्य रूप से प्रेमचन्द की ‘चिट्ठी-पत्री’ का सहारा लिया गया है, जिसके संग्रह के लिए मदन गोपाल ने वर्षों तक देश के विभिन्न भागों में सैकड़ों व्यक्तियों से पत्र-व्यवहार किया या भेंट की। इस दुर्लभ और अनुपलब्ध सामग्री के द्वारा प्रेमचन्द के जीवन-सम्बन्धी अनेक नए तथ्य प्रकाश में आए हैं। प्रेमचन्द के जीवन और कृतियों के रचना-काल एवं प्रकाशन-सम्बन्धी जो बहुत-सी भूलें अभी तक दुहराई जाती रही हैं, उन्हें भी लेखक ने यथासाध्य छानबीन करके ठीक करने का प्रयास किया है। इस प्रकार ‘कलम का मज़दूर : प्रेमचन्द’ हिन्दी में प्रेमचन्द की पहली प्रामाणिक और मुकम्मल जीवनी है, जिसमें आधुनिक युग के सबसे समर्थ कथाकार की कृतियों का जीवन्त ऐतिहासिक सन्दर्भ और सामाजिक परिवेश प्रस्तुत किया गया है। जैसा कि इस पुस्तक के नाम ‘कलम का मज़दूर : प्रेमचन्द’ से ही स्पष्ट है, इसमें प्रेमचन्द के वास्तविक व्यक्तित्व को पूरी सच्चाई और ईमानदारी के साथ उभारकर रखने का प्रयास किया गया है।
प्रेमचन्द के व्यक्तित्व के अनुरूप ही सीधी-सादी अनलंकृत शैली में लिखी हुई इस पुस्तक की शक्ति स्वयं तथ्यों में है। कुछ दुर्लभ चित्र पुस्तक का अतिरिक्त आकर्षण हैं। Hindi ke jivni-sahitya mein bahucharchit ye pustak svayan lekhak ke anusar uske karib bis varshon ke parishram ka parinam hai. ‘rajakmal’ se iska pahla sanskran 1965 mein prkashit hua tha aur ye ek mahattvpurn kriti ka panchavan sanshodhit sanskran hai. Is pustak ki taiyari mein samast uplabdh samagriyon ka upyog karne ke atirikt mukhya rup se premchand ki ‘chitthi-patri’ ka sahara liya gaya hai, jiske sangrah ke liye madan gopal ne varshon tak desh ke vibhinn bhagon mein saikdon vyaktiyon se patr-vyavhar kiya ya bhent ki. Is durlabh aur anuplabdh samagri ke dvara premchand ke jivan-sambandhi anek ne tathya prkash mein aae hain. Premchand ke jivan aur kritiyon ke rachna-kal evan prkashan-sambandhi jo bahut-si bhulen abhi tak duhrai jati rahi hain, unhen bhi lekhak ne yathasadhya chhanbin karke thik karne ka pryas kiya hai. Is prkar ‘kalam ka mazdur : premchand’ hindi mein premchand ki pahli pramanik aur mukammal jivni hai, jismen aadhunik yug ke sabse samarth kathakar ki kritiyon ka jivant aitihasik sandarbh aur samajik parivesh prastut kiya gaya hai. Jaisa ki is pustak ke naam ‘kalam ka mazdur : premchand’ se hi spasht hai, ismen premchand ke vastvik vyaktitv ko puri sachchai aur iimandari ke saath ubharkar rakhne ka pryas kiya gaya hai.
Premchand ke vyaktitv ke anurup hi sidhi-sadi anlankrit shaili mein likhi hui is pustak ki shakti svayan tathyon mein hai. Kuchh durlabh chitr pustak ka atirikt aakarshan hain.