BackBack
-11%

Kala Shukravar

Rs. 200 Rs. 178

समकालीन कहानी में कृष्णा सोबती, मन्नू भंडारी और उषा प्रियम्वदा के एकदम बाद की पीढ़ी में सुधा अरोड़ा का महत्त्वपूर्ण स्थान है। चार दशकों की विशिष्ट कथा-यात्रा में एक लम्बे अन्तराल के बाद सुधा अरोड़ा का यह कहानी-संग्रह ‘काला शुक्रवार’ न सिर्फ़ उनके पाठकों को उत्साहित करता है, बल्कि समकालीन... Read More

BlackBlack
Description

समकालीन कहानी में कृष्णा सोबती, मन्नू भंडारी और उषा प्रियम्वदा के एकदम बाद की पीढ़ी में सुधा अरोड़ा का महत्त्वपूर्ण स्थान है। चार दशकों की विशिष्ट कथा-यात्रा में एक लम्बे अन्तराल के बाद सुधा अरोड़ा का यह कहानी-संग्रह ‘काला शुक्रवार’ न सिर्फ़ उनके पाठकों को उत्साहित करता है, बल्कि समकालीन महिला-लेखन की एक सार्थक और संवेदनशील पहचान बनाने में भी महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
सुधा अरोड़ा की कहानियाँ ‘स्व’ से प्रारम्भ कर समाज की पेचीदा समस्याओं और समय के बड़े सवालों से जूझती हैं। ‘काला शुक्रवार’ और ‘बलवा’ में प्रकटतम रूप में तो ‘दमनचक्र’ और ‘भ्रष्टाचार की जय’ में तीखे रूप में उस राजनीतिक और सामाजिक व्यवस्था की विद्रूपताओं, भ्रष्टाचार के घिनौने रूप और आपराधिक चरित्रों के राजनीतिक संरक्षण की बखिया उधेड़ी गई है जिसने सामान्य आदमी के सुख-चैन को छीनकर जीने लायक़ नहीं रहने दिया है। आदमी के निरन्तर अमानवीय होते चले जाने की प्रक्रिया को सन् सैंतालीस के साम्प्रदायिक दंगों से लेकर अब तक के राजनीतिक सन्दर्भों में विश्लेषित करती उनकी चिन्ता बेहतर मानवीय मूल्यों को बचाने की है।
सुधा अरोड़ा की कहानियाँ एक व्यापक फलक पर बदलती हुई दुनिया में स्त्री के सतत और परिवर्तनकारी संघर्ष को सार्थक स्वर और दिशा देती भी दिखाई देती हैं। ‘रहोगी तुम वही’ से लेकर ‘अन्नपूर्णा मंडल की आख़िरी चिट्ठी’ तक सुधा अरोड़ा की कहानियाँ स्त्री-सुलभ सीमित संसार की वैयक्तिक अभिव्यक्तियाँ नहीं हैं, बल्कि इनमें पुरुषशासित समाज में स्त्री के लिए जायज़ और सम्मानजनक ‘स्पेस’ बनाने की उद्दाम लालसा पूरी गहराई के साथ महसूस की जा सकती है। आज के समय और परिवेश की गहरी पहचान, कथा-शैली में एक अन्तरंग निजता का सम्मोहक प्रभाव एवं गद्य में सरलीकरण का सौन्दर्य और इन सबके बीच व्यंग्य की तिक्तता सुधा अरोड़ा की इन बहुचर्चित कहानियों को एक विशिष्ट कथा-रस प्रदान करती है और पाठक को आद्यन्त बाँधे रखने में सक्षम सिद्ध होती है।
इन कहानियों के ज़रिए आज की जटिल महानगरीय विसंगतियों में एक सार्थक और साहसिक हस्तक्षेप की महत्त्वपूर्ण सम्भावना भी बनती दिखाई देती है। Samkalin kahani mein krishna sobti, mannu bhandari aur usha priyamvda ke ekdam baad ki pidhi mein sudha aroda ka mahattvpurn sthan hai. Char dashkon ki vishisht katha-yatra mein ek lambe antral ke baad sudha aroda ka ye kahani-sangrah ‘kala shukrvar’ na sirf unke pathkon ko utsahit karta hai, balki samkalin mahila-lekhan ki ek sarthak aur sanvedanshil pahchan banane mein bhi mahattvpurn bhumika nibhata hai. Sudha aroda ki kahaniyan ‘sv’ se prarambh kar samaj ki pechida samasyaon aur samay ke bade savalon se jujhti hain. ‘kala shukrvar’ aur ‘balva’ mein prakattam rup mein to ‘damanchakr’ aur ‘bhrashtachar ki jay’ mein tikhe rup mein us rajnitik aur samajik vyvastha ki vidruptaon, bhrashtachar ke ghinaune rup aur aapradhik charitron ke rajnitik sanrakshan ki bakhiya udhedi gai hai jisne samanya aadmi ke sukh-chain ko chhinkar jine layaq nahin rahne diya hai. Aadmi ke nirantar amanviy hote chale jane ki prakriya ko san saintalis ke samprdayik dangon se lekar ab tak ke rajnitik sandarbhon mein vishleshit karti unki chinta behtar manviy mulyon ko bachane ki hai.
Sudha aroda ki kahaniyan ek vyapak phalak par badalti hui duniya mein stri ke satat aur parivartankari sangharsh ko sarthak svar aur disha deti bhi dikhai deti hain. ‘rahogi tum vahi’ se lekar ‘annpurna mandal ki aakhiri chitthi’ tak sudha aroda ki kahaniyan stri-sulabh simit sansar ki vaiyaktik abhivyaktiyan nahin hain, balki inmen purushshasit samaj mein stri ke liye jayaz aur sammanajnak ‘spes’ banane ki uddam lalsa puri gahrai ke saath mahsus ki ja sakti hai. Aaj ke samay aur parivesh ki gahri pahchan, katha-shaili mein ek antrang nijta ka sammohak prbhav evan gadya mein sarlikran ka saundarya aur in sabke bich vyangya ki tiktta sudha aroda ki in bahucharchit kahaniyon ko ek vishisht katha-ras prdan karti hai aur pathak ko aadyant bandhe rakhne mein saksham siddh hoti hai.
In kahaniyon ke zariye aaj ki jatil mahanagriy visangatiyon mein ek sarthak aur sahsik hastakshep ki mahattvpurn sambhavna bhi banti dikhai deti hai.