Kala Ke Samajik Udgam

Regular price Rs. 326
Sale price Rs. 326 Regular price Rs. 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Kala Ke Samajik Udgam

Kala Ke Samajik Udgam

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कला-साहित्य-संस्कृति के प्रश्नों पर प्लेखानोव की कृतियों में सर्वोपरि और सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण हैं ‘असम्बोधित पात्र’ और ‘कला और सामाजिक जीवन’। कला और साहित्य पर प्लेखानोव की ज़्यादातर कृतियों का मुख्य उद्देश्य कला और इसकी सामाजिक भूमिका को भौतिकवादी दृष्टि से प्रमाणित करना था। इन कृतियों में ‘बेलिस्की की साहित्यिक दृष्टि’ (1897), ‘चेर्निशेव्स्की का सौन्दर्यशास्त्रीय सिद्धान्त’ (1897), ‘असम्बोधित पात्र’ (1890-1900), ‘अठारहवीं सदी के फ्रेंच नाटक और चित्रकला पर समाजशास्त्रीय दृष्टिकोण से एक नज़र’ (1905) तथा ‘कला और सामाजिक जीवन’ (1912) प्रमुख हैं।
कलात्मक सृजन को वस्तुगत जगत से स्वतंत्र माननेवाले और कला को मानवात्मा की अन्तर्भूत अभिव्यक्ति बतानेवाले प्रत्ययवादी सौन्दर्यशास्त्रियों के विपरीत प्लेखानोव ने दर्शाया कि कला की जड़ें वास्तविक जीवन में होती हैं और यह सामाजिक जीवन से ही निःसृत होती है। कला और साहित्य की एक वैज्ञानिक, मार्क्सवादी समझ विकसित करने का प्रयास उनकी सभी कृतियों की विशिष्टता है। ‘कला, कला के लिए’ के विचार को प्लेखानोव ने तीखी आलोचना की। उन्होंने दर्शाया कि यह विचार उन्हीं दौरों में उभरकर आता है जब लेखक और कलाकार अपने इर्द-गिर्द की सामाजिक दशाओं से कट जाते हैं। यह विचार हमेशा ही प्रतिक्रियावादी शासक वर्गों की सेवा करता है लेकिन जब समाज में वर्ग-संघर्ष तीखा होता है तो शासक वर्ग और उसके विचारक ख़ुद ही इस विचार को छोड़ देते हैं और कला को अपने बचाव के एक हथियार के रूप में इस्तेमाल करने की कोशिश करने लगते हैं। Kala-sahitya-sanskriti ke prashnon par plekhanov ki kritiyon mein sarvopari aur sarvadhik mahattvpurn hain ‘asambodhit patr’ aur ‘kala aur samajik jivan’. Kala aur sahitya par plekhanov ki zyadatar kritiyon ka mukhya uddeshya kala aur iski samajik bhumika ko bhautikvadi drishti se prmanit karna tha. In kritiyon mein ‘beliski ki sahityik drishti’ (1897), ‘chernishevski ka saundaryshastriy siddhant’ (1897), ‘asambodhit patr’ (1890-1900), ‘atharahvin sadi ke phrench natak aur chitrakla par samajshastriy drishtikon se ek nazar’ (1905) tatha ‘kala aur samajik jivan’ (1912) prmukh hain. Kalatmak srijan ko vastugat jagat se svtantr mannevale aur kala ko manvatma ki antarbhut abhivyakti batanevale pratyayvadi saundaryshastriyon ke viprit plekhanov ne darshaya ki kala ki jaden vastvik jivan mein hoti hain aur ye samajik jivan se hi niःsrit hoti hai. Kala aur sahitya ki ek vaigyanik, marksvadi samajh viksit karne ka pryas unki sabhi kritiyon ki vishishtta hai. ‘kala, kala ke liye’ ke vichar ko plekhanov ne tikhi aalochna ki. Unhonne darshaya ki ye vichar unhin dauron mein ubharkar aata hai jab lekhak aur kalakar apne ird-gird ki samajik dashaon se kat jate hain. Ye vichar hamesha hi prtikriyavadi shasak vargon ki seva karta hai lekin jab samaj mein varg-sangharsh tikha hota hai to shasak varg aur uske vicharak khud hi is vichar ko chhod dete hain aur kala ko apne bachav ke ek hathiyar ke rup mein istemal karne ki koshish karne lagte hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products