BackBack
-11%

Kala Aur Boodha Chand

Rs. 695 Rs. 619

‘कला और बूढ़ा चाँद’ सुविख्यात कवि सुमित्रानंदन पंत की ‘साहित्य अकादेमी पुरस्कार’ प्राप्त काव्यकृति है। इसमें उनकी सन् 1958 में लिखी गई कविताएँ हैं। शैली और विषयवस्तु दोनों ही दृष्टियों में कवि की परवर्ती रचनाओं में इनका विशिष्ट स्थान है। अरविन्द-दर्शन और भारतीय मनोविज्ञान के जो प्रभाव उनकी रचनाओं में... Read More

BlackBlack
Description

‘कला और बूढ़ा चाँद’ सुविख्यात कवि सुमित्रानंदन पंत की ‘साहित्य अकादेमी पुरस्कार’ प्राप्त काव्यकृति है। इसमें उनकी सन् 1958 में लिखी गई कविताएँ हैं। शैली और विषयवस्तु दोनों ही दृष्टियों में कवि की परवर्ती रचनाओं में इनका विशिष्ट स्थान है। अरविन्द-दर्शन और भारतीय मनोविज्ञान के जो प्रभाव उनकी रचनाओं में कुछ समय से दृष्टिगोचर हो रहे थे, उनका पूर्ण परिपाक प्रस्तुत संग्रह में हुआ है। कवि ने उन तमाम प्रभावों को आत्मसात् कर जिस अतीन्द्रिय भावमंडल का आख्यान यहाँ किया है, वह सर्वथा उसका अपना है, आत्मानुभूत है। चेतन-अवचेतन के स्तरों का भेदन करते हुए अतिचेतन का अवलोकन इन कविताओं की विषयवस्तु है, जिसे कवि ने दार्शनिक और तात्त्विक प्रतीकों के माध्यम से अभिव्यक्त करने का प्रयत्न किया है।
मुक्त छंद का प्रयोग पंत जी बहुत प्रारम्भ से ही करते रहे हैं, किन्तु छंद-भंग की वास्तविक स्थिति ‘वाणी’ से प्रारम्भ हुई और उसका पूर्ण विकास ‘कला और बूढ़ा चाँद’ में हुआ है। इन कविताओं में कवि ‘छंदों की पायलें उतार’ देता है, शब्दों को तोड़कर उनमें नई अर्थवत्ता का संचार करता है और इस प्रकार अपनी अभिव्यक्ति के उपकरणों को उसने इतना समर्थ बना लिया है कि उनके द्वारा ‘अविगत गति’ का प्रकाशन किया जा सके।
वस्तुतः पंत जी के चेतनाशील काव्य के अध्येताओं के लिए यह एक अपरिहार्य कृति है। ‘kala aur budha chand’ suvikhyat kavi sumitranandan pant ki ‘sahitya akademi puraskar’ prapt kavyakriti hai. Ismen unki san 1958 mein likhi gai kavitayen hain. Shaili aur vishayvastu donon hi drishtiyon mein kavi ki parvarti rachnaon mein inka vishisht sthan hai. Arvind-darshan aur bhartiy manovigyan ke jo prbhav unki rachnaon mein kuchh samay se drishtigochar ho rahe the, unka purn paripak prastut sangrah mein hua hai. Kavi ne un tamam prbhavon ko aatmsat kar jis atindriy bhavmandal ka aakhyan yahan kiya hai, vah sarvtha uska apna hai, aatmanubhut hai. Chetan-avchetan ke stron ka bhedan karte hue atichetan ka avlokan in kavitaon ki vishayvastu hai, jise kavi ne darshnik aur tattvik prtikon ke madhyam se abhivyakt karne ka pryatn kiya hai. Mukt chhand ka pryog pant ji bahut prarambh se hi karte rahe hain, kintu chhand-bhang ki vastvik sthiti ‘vani’ se prarambh hui aur uska purn vikas ‘kala aur budha chand’ mein hua hai. In kavitaon mein kavi ‘chhandon ki paylen utar’ deta hai, shabdon ko todkar unmen nai arthvatta ka sanchar karta hai aur is prkar apni abhivyakti ke upakarnon ko usne itna samarth bana liya hai ki unke dvara ‘avigat gati’ ka prkashan kiya ja sake.
Vastutः pant ji ke chetnashil kavya ke adhyetaon ke liye ye ek apariharya kriti hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year